जामिया में प्रदर्शनकारी छात्रों की गुंडागर्दी, ABP की महिला पत्रकार के साथ बदसलूकी

प्रतिमा मिश्रा ने दावा किया कि वो सुबह 6 बजे से ही छात्रों के 'शांतिपूर्ण प्रदर्शन' को कवर कर रही थीं और उनकी आवाज़ को लोगों तक पहुँचा रही थीं, लेकिन छात्रों ने अंत में उन्हें ही घेर कर नारेबाजी शुरू कर दी।

जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी के छात्रों का प्रदर्शन अब भी आक्रामकता के दौर से गुजर रहा है। रविवार (दिसंबर 15, 2019) को छात्रों का ये प्रदर्शन अचानक से हिंसक हो उठा, जब जामिया नगर से 4 बसों को जलाए जाने की ख़बर आई। कई मेट्रो स्टेशनों को बंद करना पड़ा, कई इलाक़ों में लम्बा ट्रैफिक जाम लगा और लोगों को ख़ासी परेशानी का सामना करना पड़ा। अब छात्रों ने पत्रकारों को भी अपने चपेट में ले लिया है। यहाँ तक कि महिला रिपोर्टरों को भी नहीं बख्शा गया।

ताज़ा मामला एबीपी न्यूज़ की महिला पत्रकार के साथ बदसलूकी का है। एबीपी न्यूज़ की पत्रकार लगातार छात्रों से पूछती रहीं कि क्या यही उनका शांतिपूर्ण प्रदर्शन है, लेकिन छात्रों ने महिला रिपोर्टर को घेर कर उनके साथ बदतमीजी की और नारेबाजी शुरू कर दी। वो बार-बार पूछती रहीं कि आप एक महिला के साथ गुंडागर्दी क्यों कर रहे हैं लेकिन जामिया के प्रदर्शनकारी छात्र लगातार बदसलूकी करते रहे। एबीपी न्यूज़ की पत्रकार प्रतिमा मिश्रा के साथ छात्रों ने दुर्व्यवहार किया।

प्रतिमा मिश्रा ने दावा किया कि वो सुबह 6 बजे से ही छात्रों के ‘शांतिपूर्ण प्रदर्शन’ को कवर कर रही थीं और उनकी आवाज़ को लोगों तक पहुँचा रही थीं, लेकिन छात्रों ने अंत में उन्हें ही घेर कर नारेबाजी शुरू कर दी। छात्रों ने कैमरामैन के साथ भी धक्का-मुक्की की और कहा कि एबीपी न्यूज़ बिका हुआ है, वो कुछ भी सही नहीं दिखा रहा। जबकि एबीपी ने दावा किया है कि वो जामिया के प्रदर्शनकारी छात्रों की आवाज़ को कोने-कोने तक पहुँचा रहा था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

एबीपी की एंकर ने प्रतिमा को अपना ख्याल रखने की सलाह दी और साथ ही आशंका जताई कि ये भीड़ फिर से उग्र हो सकती है और हिंसा पर उत्तर सकती है। छात्रों की इस हरकत को देख कर एबीपी की एक अन्य पत्रकार पिंकी राजपुरोहित ने दिल्ली पुलिस की कार्रवाई को सही ठहराया। उन्होंने आरोप लगाया कि छात्र विरोध प्रदर्शन के नाम पर गुंडागर्दी कर रहे हैं। इससे पहले जामिया के छात्रों ने ज़ी न्यूज़ की पत्रकार के साथ बदतमीजी की थी और ‘गोदी मीडिया, गो बैक’ के नारे लगाए थे।

जामिया और AMU में हिंसक प्रदर्शन पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा- सुनेंगे पर पहले हिंसा रुकनी चाहिए

जामिया में लगे ‘हिंदुओं से आजादी’ के नारे; AAP विधायक अमानतुल्लाह कर रहा था हिंसक भीड़ की अगुवाई

जामिया में मजहबी नारे ‘नारा-ए-तकबीर’, ‘ला इलाहा इल्लल्लाह’ क्यों लग रहे? विरोध तो सरकार का है न?

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शाहीन बाग़, शरजील इमाम
वे जितने ज्यादा जोर से 'इंकलाब ज़िंदाबाद' बोलेंगे, वामपंथी मीडिया उतना ही ज्यादा द्रवित होगा। कोई रवीश कुमार टीवी स्टूडियो में बैठ कर कहेगा- "क्या तिरंगा हाथ में लेकर राष्ट्रगान गाने वाले और संविधान का पाठ करने वाले देश के टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य हो सकते हैं? नहीं न।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,507फैंसलाइक करें
36,393फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: