Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजUP-MP में बुलडोजर पर ब्रेक लगवाने SC पहुँचा जमीयत: कपिल सिब्बल से ली सलाह,...

UP-MP में बुलडोजर पर ब्रेक लगवाने SC पहुँचा जमीयत: कपिल सिब्बल से ली सलाह, कहा- मुस्लिमों को उकसाया जा रहा

जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष अरशद मदनी ने बताया कि इस याचिका में उन्होंने माँग की है कि वह राज्यों को आदेश दें कि बिन कोर्ट की इजाजत के किसी के घर पर या दुकान पर बुलडोजर न चले।

उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश में अपराधियों की संपत्ति पर बुलडोजर चलता देखने के बाद जमीयत उलेमा-ए-हिंद अब इस मामले को सुप्रीम कोर्ट लेकर गया है। उन्होंने अपनी याचिका में अनुरोध किया है कि सुप्रीम कोर्ट राज्यों को यह आदेश दे कि अदालत की अनुमति के बिना किसी के घर या दुकानों को न गिराया जाए। याचिका में मुख्य रूप से केंद्र सरकार के साथ उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और गुजरात का जिक्र है।

जानकारी के अनुसार, ये याचिका जमीयत उलेमा-ए-हिंद की ओर से इमदादी कमेटी के सचिव गुलजार आजमी ने दायर की है। वहीं जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष अरशद मदनी ने बताया कि इस याचिका में उन्होंने माँग की है कि वह राज्यों को आदेश दें कि बिन कोर्ट की इजाजत के किसी के घर पर या दुकान पर बुलडोजर न चले।

उन्होंने कहा कि देश में मजहबी चरमपंथ और नफरत का माहौल है। अल्पसंख्यकों को, विशेष रूप से मुस्लिमों को धमकाने की साजिश चल रही है। मोहल्लों में मस्जिदों के सामने आकर उन्हें उकसाया जा रहा है, पुलिस की मौजूदगी में लाठी-डंडे लहराकर नारे लगाए जा रहे हैं और सब मूक दर्शक बने हुए हैं। ऐसा लगता है कि देश में न कोई कानून है और न सरकार जो उन्हें पकड़ सके।

वह कहते हैं कि सांप्रदायिक ताकतें अब मुसलमानों का जीना दूभर कर रही हैं और केंद्र सरकार खामोश है। ऐसे में ये याचिका वकील सरीम नावेद ने वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल की सलाह के बाद तैयार की है याचिका में अनुरोध है कि मुख्य न्यायाधीश इस मामले पर जल्द सुनवाई करें।

खरगोन हिंसा के आरोपितों के घर पर हाल में शिवराज सरकार का बुलडोजर चलता देख जमीयत-उलेमा-ए-हिंद का ये कदम सामने आया है। अपराधियों के घरों पर चल रहे बुलडोजर से आहत मौलाना अरशद मदनी कहते हैं, “हमने देश के उत्पीड़ित लोगों को न्याय दिलाने और देश के संविधान, लोकतंत्र को बचाने और कानून का राज बनाए रखने के लिए ये याचिका दाखिल की है। उम्मीद करते हैं हमें न्याय मिलेगा।”

इससे पहले इस संगठन ने गृहमंत्री अमित शाह को भी पत्र लिखा था। पत्र में इन्होंने खरगोन हिंसा के आरोपितों के घर पर बुलडोजर चलाए जाने को चिंताजनक विषय कहा था। साथ ही ये दावा किया गया था मुसलमानों की संपत्तियों को टारगेट किया जा रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -