Saturday, May 18, 2024
Homeदेश-समाजबालमुनि को उसी अख्तर अंसारी ने मार डाला, जिसके लिए तोड़ आई थी सारे...

बालमुनि को उसी अख्तर अंसारी ने मार डाला, जिसके लिए तोड़ आई थी सारे रिश्ते-नाते: कब्रिस्तान में लाश दफनाते हुए पकड़े गए

अनुसूचित जनजातीय समुदाय की बाल मुनि लोहरा (26 वर्ष) पहले से शादीशुदा थी, लेकिन वो पिछले 5 साल से अपने लिव-इन पार्टनर अख्तर अंसारी के साथ रह रही थी।

झारखंड के लोहरदगा में अख्तर अंसारी के साथ 5 साल से लिव-इन-पार्टनरशिप में रह रही बालमुनी लोहरा को अपनी जान गँवानी पड़ी, क्योंकि अख्तर अंसारी ने ही उसे मौत के घाट उतार दिया। इसका खुलासा तब हुआ, जब अख्तर अंसारी अकेले ही बाल मुनि लोहरा के शव को कब्रिस्तान में दफना रहा था, तभी स्थानीय लोगों की नजर उस पर पड़ गई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये मामला लोहरदगा के किस्को थाना इलाके में आने वाले नवाडीह गाँव का है। जहाँ अनुसूचित जनजातीय समुदाय की बाल मुनि लोहरा (26 वर्ष) पिछले 5 साल से अपने लिव-इन पार्टनर अख्तर अंसारी के साथ रह रही थी। दोनों के बीच एक डेढ़ साल का बच्चा भी है। बताया जा रहा है कि बाल मनु पाँच साल पहले अपने घर से भाग आई थी और अख्तर अंसारी के साथ रह रही थी। बताया जा रहा है कि दोनों ने कथित तौर पर निकाह भी किया था, लेकिन इस बाल मुनि के इस्लामिक नाम का कुछ पता नहीं चल पाया।

इस बीच, सोमवार को अख्तर अंसारी ने बाल मुनि लोहरा की गला दबाकर हत्या कर दी और चुपचाप उसके शव को कब्रिस्तान में ठिकाने लगाने के लिए पहुँच गया। अख्तर के साथ उसका भाई सैमुल्लाह भी था। स्थानीय लोगों ने दोनों को कब्रिस्तान में शव को ठिकाने लगाते देख लिया और पुलिस को सूचना दे दी। मौके पर पहुँची पुलिस ने देखा कि बाल मुनि के शरीर पर चोट के निशान हैं और गले पर भी, जिसके बाद पुलिस ने शव को पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया और अख्तर अंसारी को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पता चला है कि अख्तर अंसारी ने बाल मुनि की हत्या सोमवार (06 मई 2024) को ही कर दी थी।

ऑर्गनाइजर के मुताबिक, ये वारदात मंगलवार (7 मई 2024) को सामने आई, जब अख्तर अंसारी को लोगों ने कब्रिस्तान में बाल मुनि लोहरा के शव को ठिकाने लगाते रंगे हाथों पकड़ लिया। इसके बाद लोगों ने बाल मुनि के माता-पिता और परिवार को सूचित किया। इसके बाद मौके पर पहुँची पुलिस ने अख्तर अंसारी को गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में किस्को थाना कांड संख्या 13/24,धारा 302, 201, 34 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया गया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -