Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजइमरान अली के घर से 500 Kg गोमांस बरामद, 17 ज़िंदा गायें भी बचाई...

इमरान अली के घर से 500 Kg गोमांस बरामद, 17 ज़िंदा गायें भी बचाई गईं: 3 घंटे तक चली छापेमारी के बाद 5 गिरफ्तार

मामला जमशेदपुर से 30 किलोमीटर दूर कोतवाली थाना क्षेत्र का है। यहाँ हल्दीपोखर गाँव में पुलिस को गोकशी की गुप्त सूचना मिली थी

झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले में गोहत्या का मामला सामने आया है। पुलिस ने गाय को मार कर उसका माँस बेचने के आरोप में 2 आरोपितों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए गोहत्यारों के पास से 500 किलो गोमाँस भी बरामद हुआ है। इस माँस के खरीदार 3 ग्राहकों को भी पुलिस ने दबोच लिया है। इस पुलिस कार्रवाई के दौरान 17 गायों को कटने से भी बचाया गया है। यह जानकारी पुलिस ने शनिवार (24 दिसंबर, 2022) को दी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला जमशेदपुर से 30 किलोमीटर दूर कोतवाली थाना क्षेत्र का है। यहाँ हल्दीपोखर गाँव में पुलिस को गोकशी की गुप्त सूचना मिली थी। सूचना के आधार पर पुलिस ने इमरान अली के घर पर छापा मारा। सूचना सही पाई गई और मौके से पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार किया। इन आरोपितों में शमीम उर्फ़ पप्पू भी शामिल है। पप्पू इमरान अली का साथी बताया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि अली अपने ही घर में पशुओं को काट कर माँस की बिक्री करता था। पुलिस को देखते ही वो दीवाल फाँद कर भागने लगा। पुलिस ने दौड़ा कर उसे पकड़ लिया। पुलिस ने जीवित गायों को कस्टडी में लेते हुए आरोपितों पर झारखंड गोधन पशु वध निषेध अधिनियम 2005 के तहत FIR दर्ज की है। सभी आरोपितों को कोर्ट में पेश किया गया है जहाँ से उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। बरामद हुई जीवित गायों को गौशाला के अधिकारी के सौंप दिया गया है। बताते चलें कि झारखंड में गोवंशीय पशुओं की हत्या और उनके माँस की बिक्री पर बैन है।

बताया गया है कि एक दिन पहले गुरुवार को साकची से गोमाँस के साथ पकड़े गए व्यक्ति ने पुलिस को इमरान अली के ठिकाने की जानकारी दी थी। हिन्दुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक जहाँ ये माँस बरामद हुआ उसे मुस्लिम बस्ती कहा जाता है। यहाँ शुक्रवार (23 दिसंबर 2022) को छापेमारी हुई है। ये कार्रवाई सुबह 6:30 से शुरू हो कर लगभग साढ़े 3 घंटे चलने के बाद दोपहर 11 बजे खत्म हुई। कार्रवाई के दौरान गाय काटने में प्रयोग होने वाला लकड़ी का बोटा और चापड़ भी बरामद किया है। छापेमारी के दौरान कुल 8 लोग हिरासत में लिए गए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -