Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाज'गाय का मीट बनाओ, हम सब खाएँगे' - आदिवासी से ईसाई बने रमेश के...

‘गाय का मीट बनाओ, हम सब खाएँगे’ – आदिवासी से ईसाई बने रमेश के घर पादरियों का खेल – VHP के साथ दर्द किया साझा

"बोला- गाय माँस खाते हो? हम नहीं खाते हैं। वो लोग एक-डेढ़ किलो (गो मांस) लाया था। फिर उसने मेरी वाइफ की ओर इशारा करके बोला कि इसे सब आता है, ये बनाएगी। वाइफ ने मना कर दिया। वाइफ ने कहा कि यहाँ नहीं बनाएँगे और बनाने भी नहीं देंगे।"

लॉकडाउन के दौरान झारंखड में ईसाई मिशनरियों के द्वारा आदिवासियों का धर्मांतरण जारी है। इस बीच एक वीडियो हमारे पास आया है, जिसमें करीब एक साल पहले आदिवासी से ईसाई बने एक परिवार के मुखिया ने अपना दर्द बयाँ करते हुए घर वापसी की इच्छा जताई। उन्होंने कहा कि पादरी ने उनके घर जाकर पत्नी को गाय का मांस बनाने और उन्हें उसे खाने के लिए उकसाया।

विश्व हिंदू परिषद के झारखंड-बिहार के क्षेत्रीय संगठन मंत्री केशव राजू की ओर से ऑपइंडिया को एक ऐसे व्यक्ति का वीडियो भेजा गया, जिसके परिवार का करीब एक साल पहले पादरियों ने प्रलोभन देकर धर्मांतरण करा दिया था। इस व्यक्ति की पहचान रमेश हांसदा, (संथाली जनजाति) निवासी सोपोडेरा, परसुडीह, जिला जमशेदपुर रूप में हुई है।

ऑपइंडिया के पास आए वीडियो में पीड़ित रमेश ने बताया, “इस बीच मेरा शरीर कमजोर हो गया, मैं काम धंधा नहीं कर सका। इस दौरान पादरी लोग आ गए और बोले कि हमें क्रिश्चियन धर्म में शामिल करना है। फिर लड़का लोग आया था और बोला कि पार्टी बनाएँगे। बोला- गाय माँस खाते हो? हम नहीं खाते हैं। वो लोग एक-डेढ़ किलो (गो मांस) लाया था। फिर उसने मेरी वाइफ की ओर इशारा करके बोला कि इसे सब आता है, ये बनाएगी। वाइफ ने मना कर दिया। वाइफ ने कहा कि यहाँ नहीं बनाएँगे और बनाने भी नहीं देंगे। फिर वो लोग चले गए।”

रमेश ने बताया कि पादरी हमारे पीछे करीब दो साल से पड़ा हुआ था। वह भी इसलिए कि घर की हालत ठीक नहीं है, इसको योजना करके क्रिश्चियन बनाया जाए।

जब रमेश से पूछा गया कि अभी आप क्या सोच रहे हैं? तो उन्होंने स्पष्ट बताया, “इस टाइम कुछ नहीं मिल रहा है। थोड़ा सा राशन लॉकडाउन में आया था। एक-दो बार दिया है। अभी तो कुछ नहीं आता है। हम चर्च में नहीं जाते हैं।” इसके बाद रमेश से पूछा गया कि आगे क्या इरादा है? इस सवाल पर उन्होंने बताया कि वो फिर से हिंदू धर्म यानी आदिवासी धर्म में शामिल होंगे।

दरअसल रमेश हांसदा से जमशेदपुर जिले के विहिप (विश्व हिंदू परिषद) जिलामंत्री जनार्दन पंडित ने उनके घर जाकर उस समय बात की, जब उनके पास सूचना आई थी कि रमेश ईसाई धर्म को त्याग कर वापस अपने धर्म में आना चाहते हैं।

जनार्दन पंडित ने ऑपइडिया से बातचीत में बताया, “रमेश के परिवार में उनकी पत्नी और बच्चे रहते हैं। आदिवासी समाज से आने वाले रमेश की आर्थिक स्थिति कमजोर है। इसी का फायदा उठाकर पादरियों ने इलाज के बहाने चर्च में बुलाया और प्रलोभन देकर उनका धर्मांतरण करा दिया।”

जनार्दन पंडित ने बताया कि पादरी लोग काफी समय से उनके परिवार का धर्मांतरण कराने की जुगत में लगे हुए थे, लेकिन वह कभी चर्च नहीं गए। आज उन्हें अपने धर्मांतरण पर अफसोस है और वह फिर से हिंदू धर्म में वापसी करना चाहते हैं।

आपको बता दें कि रविवार (14 जून, 2020) को विश्व हिंदू परिषद झारखंड के पदाधिकारियों ने एक पत्रकार वार्ता के दौरान दावा किया था कि लॉकडाउन के दौरान झारखंड में बड़े पैमाने पर ईसाई मिशनरियों द्वारा आदिवासियों का धर्मांतरण किया जा रहा है। इसे सफल बनाने के लिए चर्च के एजेंट गाँव-गाँव जाकर हिंदुओं के खिलाफ जहर उगल रहे हैं।

इस दौरान विहिप झारखंड-बिहार के क्षेत्रीय संगठन मंत्री केशव राजू ने बताया कि फिलहाल वो राज्य के सभी जिलों में धर्मांतरण के काम में लगे लोगों और प्रलोभन में आकर धर्म बदलने वाले लोगों का डेटा इकट्ठा कर रहे हैं। इस कार्य के पूरा होते ही इस सूची को प्रशासन को सौंपा जाएगा और प्रशासन पर इसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के लिए दबाव भी बनाया जाएगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राम ‘छोकरा’, लक्ष्मण ‘लौंडा’ और ‘सॉरी डार्लिंग’ पर नाचते दशरथ: AIIMS वाले शोएब आफ़ताब का रामायण, Unacademy से जुड़ा है

जिस वीडियो को लेकर विवाद है, उसे दिल्ली AIIMS के छात्रों ने शूट किया है। इसमें रामायण का मजाक उड़ाया गया है। शोएब आफताब का NEET में पहला रैंक आया था।

‘जैसा बोया, वैसा काटा’: Scroll की वामपंथी लेखिका जेनेसिया अल्वेस ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमले को ठहराया सही

बांग्लादेश में हिंदुओं और मंदिरों पर हुए इस्लामी चरमपंथी हमलों को स्क्रॉल की लेखिका एल्वेस ने जायज ठहराया और जैसा बोया वैसा काटा की बात कही।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,261FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe