Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजश्रीनगर में कोरोना संक्रमण से मौत, यूपी में दहशत: 5 साथियों संग 4 दिनों...

श्रीनगर में कोरोना संक्रमण से मौत, यूपी में दहशत: 5 साथियों संग 4 दिनों तक देवबंद की मस्जिद में रहा था मृतक

मृतक और उसके साथी 9 से 12 मार्च के बीच देवबंद की एक मस्जिद में रुके थे। इसकी जानकारी मिलते ही देवबंद से लेकर लखनऊ तक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मच गया है। देवबंद की खानकाह मस्जिद को सील कर दिया गया है।

जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस के संक्रमण से एक 65 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई। उसकी ट्रैवल हिस्ट्री से उत्तर प्रदेश में दहशत फैली हुई है। दरअसल श्रीनगर के हैदरपोरा निवासी इसे मृतक ने अपने पाँच साथियों के साथ यूपी के देवबंद का दौरा किया था। इतना ही नहीं वह चार दिनों तक यहाँ की मस्जिद में भी रुका था। इस बात की जानकारी मिलते ही देवबंद से लेकर लखनऊ तक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मच गया है। वहीं देवबंद की खानकाह मस्जिद को सील कर दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक मृतक ने अपने पाँच साथियों के साथ देवबंद का दौरा किया था। इस दौरान इन लोगों का समूह 9 से 12 मार्च के बीच एक मस्जिद में रुका था। कश्मीर प्रशासन ने मृतक की पहचान सार्वजानिक नहीं की है। बताया जाता है कि 65 वर्षीय मृतक तबलीगी जमात से जुड़ा था। मूलत: उत्तरी कश्मीर में सोपोर का रहने वाला यह व्यक्ति बीते कई सालों से श्रीनगर के हैदरपोरा इलाके में रह रहा था।

मृतक कुछ दिन पूर्व दिल्ली में आयोजित एक मजहबी सम्मेलन में हिस्सा लेने गया था। इस सम्मेलन में मलेशिया, इंडोनेशिया, दुबई व अन्य कई मुल्कों से भी इस्लामिक विद्वान और प्रचारक आए थे। श्रीनगर लौटने से पूर्व यह व्यक्ति जम्मू के निकट एक मदरसे में भी रुका था। उसकी मौत के बाद इन सभी स्थानों पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ऐसे लोगों की तलाश कर उनको क्वारंटाइन करने में लगी हुई है, जो किसी न किसी माध्यम से इन लोगों के संपर्क में आए थे।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 42 पहुँच गई है, जिसमें सबसे अधिक नोएडा से 14 केस हैं। आगरा से आठ, गाजियाबाद से तीन, लखनऊ से आठ, पीलीभीत से दो और लखीमपुर खीरी, कानपुर, मुरादाबाद, वाराणसी, जौनपुर, बागपत और शामली से एक-एक मामले सामने आए हैं। वहीं जम्मू कश्मीर में 65 वर्षीय व्यक्ति की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जम्मू-कश्मीर के 5124 लोगों को निगरानी में रखा है। साथ ही 3061 लोगों को घरों में और 80 लोगों को अस्पतालों में क्वारंटाइन किया गया है। अब तक 326 सैंपल जाँच के लिए भेजे गए हैं, जिसमें 294 निगेटिव आए हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe