Wednesday, June 29, 2022
Homeदेश-समाजनाबालिग लड़कियों को नंगा कर गंदी बात करती थी सुपरिटेंडेंट असमां पीरजादा: जोधपुर बालिका...

नाबालिग लड़कियों को नंगा कर गंदी बात करती थी सुपरिटेंडेंट असमां पीरजादा: जोधपुर बालिका गृह का मामला

बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने बताया कि बालिका गृह में करीब 45 लड़कियॉं रहती हैं। उन्होंने बताया कि जॉंच में कई तरह की अनियमितताएँ सामने आई हैं। इसके बाद सुपरिटेंडेंट असमां और दो केयर टेकर को निलंबित कर दिया गया है।

राजस्थान के जोधपुर राजकीय बालिका गृह में शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। बालिका गृह की सुपरिटेंडेंट असमां पीरजादा वहाँ रहने वाली बालिकाओं के कपड़े उतरवाकर उन पर फब्तियाँ कसती थी। उन्हें पीटती थी। इतना ही नहीं मासिक धर्म के दौरान जब लड़कियाँ जब सेनेट्री पैड माँगती थी, तो पैड देने की बजाए उनसे बदसलूकी करती थी। इस मामले में सुपरिटेंडेंट और दो केयर टेकर को निलंबित कर दिया गया है।

ख़बर के अनुसार, बालिका गृह में रहने वाली लड़कियों ने बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्षा संगीता बेनीवाल से सेंटर सुपरिटेंडेंट असमां पर भामाशाह के नाम पर अनजान आदमियों से मिलने के लिए मजबूर करने की शिक़ायत भी की। यह बालिका गृह जोधपुर के मंडोर में है। जोधपुर राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ-साथ बाल संरक्षण आयोग की चेयरमैन संगीता बेनीवाल का भी नगर गृह है।

ख़बर के अनुसार, मामले को गंभीरता से लेते हुए जब छानबीन की गई तो बेनीवाल को पता चला कि वहाँ और भी कई अन्य अनियमितताएँ बरती गई हैं। यह भी पता चला है कि बच्चियों को कई तरह से प्रताड़ित किया जाता था। फ़ब्तियाँ, भूखा रखने के अलावा मासिक धर्म के दौरान सेनेट्री पैड न देकर उनके साथ अमानवीय व्यवहार किया जाता था। 

बेनीवाल ने बताया कि इस बालिका गृह में तकरीबन 45 बालिकाएँ हैं। उन्होंने इस ओर भी इशारा किया कि इससे पहले भी बालिका गृह की बालिकाओं ने उन्हें अकेले में अपनी पीड़ा बताई थी। उन्होंने कहा, “इन बालिकाओं के साथ ये सभी कृत्य अमानवीय हैं। मैंंने बालिका गृह का निरीक्षण किया है, जिसमें और भी अनियमितताएँ सामने आई हैं। विभाग द्वारा अधीक्षक (असमां) को निलंबित किया गया है। आगे भी कार्रवाई जारी रहेगी।”

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम पीड़िता के साथ गैंगरेप, अगवा कर 4 ने बनाया हवस का शिकार

बिहार की बच्चियों का कोई माय-बाप नहीं: बलात्कार से हत्या तक सिर्फ़ एक चुप्पी है

गार्ड सद्दाम और वॉर्डन गिरफ़्तार: ‘गर्ल्स हॉस्टल में आधी रात को बुलाए जाते थे पुरुष, मुखिया भी आता था’

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘इस्लाम ज़िंदाबाद! नबी की शान में गुस्ताखी बर्दाश्त नहीं’: कन्हैया लाल का सिर कलम करने का जश्न मना रहे कट्टरवादी, कह रहे – गुड...

ट्विटर पर एमडी आलमगिर रज्वी मोहम्मद रफीक और अब्दुल जब्बार के समर्थन में लिखता है, "नबी की शान में गुस्ताखी बर्दाश्त नहीं।"

कमलेश तिवारी होते हुए कन्हैया लाल तक पहुँचा हकीकत राय से शुरू हुआ सिलसिला, कातिल ‘मासूम भटके हुए जवान’: जुबैर समर्थकों के पंजों पर...

कन्हैयालाल की हत्या राजस्थान की ये घटना राज्य की कोई पहली घटना भी नहीं है। रामनवमी के शांतिपूर्ण जुलूसों पर इस राज्य में पथराव किए गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
200,225FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe