Monday, March 8, 2021
Home देश-समाज बरेली में मौलाना के घर, फिर मदरसे में रुकने की व्यवस्था: कमलेश हत्याकांड में...

बरेली में मौलाना के घर, फिर मदरसे में रुकने की व्यवस्था: कमलेश हत्याकांड में बीवी-अब्बू सब ने दिया साथ!

अशफाक, उसकी बीवी और उसके अब्बू में हुई बातचीत का एक ऑडियो भी वायरल हुआ। जिसे सुनकर पता लगाया जा सकता है कि अशफाक के गुनाहों का पता होने पर भी उसका परिवार उसका साथ देने को तैयार था।

कमलेश तिवारी हत्याकांड के आरोपित अशफाक और मोइनुद्दीन के पकड़ में आने के बाद हत्या की साजिश से जुड़े कई चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। कल तक जहाँ पूछताछ में ये मालूम चला था कि दोनों को अपने किए जुर्म का कोई पछतावा नहीं है। वहीं आज पता चला है कि दोनों हत्यारे हत्या करने के बाद पुलिस को आत्मसमर्पण करना चाहते थे, लेकिन उन्हें इसके निर्देश नहीं दिए गए, इसलिए वो दोनों दोबारा गुजरात के लिए रवाना हो गए।

हत्याकांड की जाँच से जुड़े पुलिस अधिकारी ने बताया,” इनके प्लान के अनुसार, नागपुर से गिरफ्तार हुआ सैयद आसिम अली इनको आत्मसमर्पण के लिए निर्देश देने वाला था, लेकिन अली की गिरफ्तारी के बाद इन्हें कोई निर्देश नहीं मिला, इसलिए इन्होंने दोबारा गुजरात जाने का फैसला किया।”

गौरतलब है कि अशफाक और मोइनुद्दीन की गिरफ्तारी गुजरात-राजस्थान के बॉर्डर के पास मंगलवार की रात हुई थी। जिसके बाद इन्हें गुजरात एटीएस ने मामले की जाँच में जुटी यूपी पुलिस को सौंप दिया था।

गुजरात एटीएस के डीआईजी हिमांशु शुक्ला ने मीडिया से बातचीत में बुधवार (अक्टूबर 23, 2019) को बताया कि तिवारी को गोली मारने के दौरान अशफाक का निशाना चूक गया था, जिस कारण गोली मोइनुद्दीन के हाथ में जा लगी थी। लेकिन मोइनुद्दीन ने अपने हाथ में रुमाल बाँधी और बाद में तिवारी का गला काट दिया। इस दौरान अशफाक के हाथ में भी चाकू लगा। हत्या को अंजाम देने के बाद दोनों वहाँ से फरार हो गए। इसके बाद अशफाक जो कि एक निजी कंपनी में मेडिकल रिप्रेसेंटेटिव है, उसने मेडिकल स्टोर से मरहम पट्टी खरीदी और लखनऊ के होटल पहुँचकर अपना और मोइनुद्दीन का इलाज किया।

दैनिक जागरण के बरेली संस्करण में प्रकाशित खबर

यहाँ बता दें कि दोनों हत्यारों की गिरफ्तारी के बाद अब गुजरात एटीएस उन लोगों की तलाश में है, जिन्होंने उसे बंदूक मुहैया करवाई। गुजरात एटीएस के डिप्यूटी एसपी केके पटेल के अनुसार, “हमें उस शख्स का नाम पता चल चुका है, जिसने अशफाक को पिस्टल दी। हमारी टीम उसे पकड़ने उसे उसके घर भी गई, लेकिन वो वहाँ से गायब हो चुका था। हम उसे जल्द गिरफ्तार कर लेंगे।”

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार जाँच में जुटे अधिकारियों ने बताया कि हत्या करने के बाद दोनों आरोपित खुद को बचाने के लिए तीन राज्यों में भटके- यूपी, दिल्ली और राजस्थान। उन्होंने बरेली के रेलवे स्टेशन पर भी एक रात गुजारी और नेपाल तक भी गए। लेकिन खुद को बचा नहीं पाए। जाँच अधिकारी के अनुसार गुजरात के शामलाजी के नजदीक से गिरफ्तार होने से पहले ये दोनों ट्रेन, बस, टैक्सी और ट्रक की मदद से 2000 किमी का सफर तय कर चुके थे।

दैनिक जागरण के बरेली संस्करण में प्रकाशित डिटेल्ड खबर

उत्तर प्रदेश पुलिस अधिकारी के अनुसार, “हत्या करने के बाद ये दोनों बरेली गए, वहाँ इन्होंने रेलवे स्टेशन पर रात गुजारी। फिर ये लखीमपुर खेरी आए और वहाँ से नेपाल गए। नेपाल से लौटे तो दोनों दोबारा लखीमपुर खेरी गए और वहाँ से शाहजहाँपुर की ओर रवाना हुए। कुछ समय बाद ये दिल्ली आए और यहाँ से अजमेर चले गए। अजमेर से ही ये दोनों शामलाजी गए, जहाँ गुजरात-राजस्थान बॉर्डर के पास से इन्हें गिरफ्तार किया गया।

अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार बता दें कि अशफाक और मोइनुद्दीन पैसे की कमी होने के कारण पकड़ में आ पाए। जाँच अधिकारियों ने बताया है कि जब ये दोनों अपने घर से निकले, उस समय इनके पास 20 हजार रुपए थे। लेकिन 4 दिन इधर-उधर भटकने के बाद इनके पास से सारे पैसे खत्म हो गए और इन्होंने अपनी परिवार को मदद के लिए फोन किया।

इधर, गुजरात एटीएस ने अशफाक की पत्नी का नंबर सर्विलांस पर लेने की अनुमति ली हुई थी, वे लगातार उसकी पत्नी के फोन पर आने वाली हर कॉल और डिटेल पर नजर बनाए हुए थे। ऐसे में जैसे ही उसने अलग नंबर से अपनी पत्नी को फोन किया, एटीएस को इसकी जानकारी मिल गई। उन्होंने दोनों आरोपितों को पकड़ने के लिए जाल बिछाना शुरू किया और इनकी गिरफ्तारी मुमकिन हुई। इस बीच अशफाक, उसकी पत्नी और उसके पिता में हुई बातचीत की एक ऑडियो भी वायरल हुई। जिसे सुनकर पता लगाया जा सकता है कि अशफाक के गुनाहों का पता होने पर भी उसका परिवार उसका साथ देने को तैयार था।

अशफाक, उसकी बीवी और उसके अब्बू के बीच हुई बातचीत का ऑडियो वायरल (ऑपइंडिया इसकी सत्यता की पुष्टि अभी तक नहीं कर पाया है)

यहाँ उल्लेखनीय है कि दोनों आरोपित तिवारी की हत्या करके लखनऊ के होटल से बरेली के लिए रवाना हुए थे। वहाँ उन्होंने प्रेमनगर निवासी मौलाना कैफी अली से संपर्क किया था और तीन घंटे तक वह उसी मौलाना के घर में रुके थे। बाद में कैफी ने ही दोनों हत्यारों के रुकने की व्यवस्था बरेली के किला क्षेत्र स्थित मदरसे में करवाई थी। हालाँकि इस मामले में अभी कैफी की गिरफ्तारी नहीं हुई है, लेकिन अधिकारियों की मानें तो वे मौलाना कैफी को आरोपितों के सामने लाएँगे, तभी सारी स्थिति साफ होगी। इस हत्या के मामले में अभी तक 5 आरोपितों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिसमें राशिद पठान, फैजान शेख, मौलाना मोहसिन शेख सूरत से धरे गए हैं, और बाकी दोनो हत्यारे गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सबसे आगे उत्तर प्रदेश: 20 लाख कोरोना वैक्सीन की डोज लगाने वाला पहला राज्य बना

उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है, जहाँ 20 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन का लाभ मिला है।

रेल इंजनों पर देश की महिला वीरांगनाओं के नाम: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर भारतीय रेलवे ने दिया सम्मान

झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई, इंदौर की रानी अहिल्याबाई और रामगढ़ की रानी अवंतीबाई इनमें प्रमुख हैं। ऐसे ही दक्षिण भारत में कित्तूर की रानी चिन्नम्मा, शिवगंगा की रानी वेलु नचियार को सम्मान दिया गया।

बुर्का बैन करने के लिए स्विट्जरलैंड तैयार, 51% से अधिक वोटरों का समर्थन: एमनेस्टी और इस्लामी संगठनों ने बताया खतरनाक

स्विट्जरलैंड में हुए रेफेरेंडम में 51% वोटरों ने सार्वजनिक जगहों पर बुर्का और हिजाब पहनने पर प्रतिबंध के पक्ष में वोट दिया है।

BJP पैसे दे तो ले लो… वोट TMC के लिए करो: ‘अकेली महिला ममता बहन’ को मिला शरद पवार का साथ

“मैं आमना-सामना करने के लिए तैयार हूँ। अगर वे (भाजपा) वोट खरीदना चाहते हैं तो पैसे ले लो और वोट टीएमसी के लिए करो।”

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

अनुराग-तापसी को ‘किसान आंदोलन’ की सजा: शिवसेना ने लिख कर किया दावा, बॉलीवुड और गंगाजल पर कसा तंज

संपादकीय में कहा गया कि उनके खिलाफ कार्रवाई इसलिए की जा रही है, क्योंकि उन लोगों ने ‘किसानों’ के विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया है।

प्रचलित ख़बरें

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

14 साल के किशोर से 23 साल की महिला ने किया रेप, अदालत से कहा- मैं उसके बच्ची की माँ बनने वाली हूँ

अमेरिका में 14 साल के किशोर से रेप के आरोप में गिरफ्तार की गई ब्रिटनी ग्रे ने दावा किया है कि वह पीड़ित के बच्चे की माँ बनने वाली है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

‘ठकबाजी गीता’: हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने FIR रद्द की, नहीं माना धार्मिक भावनाओं का अपमान

चीफ जस्टिस अकील कुरैशी ने कहा, "धारा 295 ए धर्म और धार्मिक विश्वासों के अपमान या अपमान की कोशिश के किसी और प्रत्येक कृत्य को दंडित नहीं करता है।"

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,966FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe