Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजशमामा के जरिए मलिक मियाँ ने कमाई अकूत संपत्ति, अरब देशों तक व्यापार: रेड...

शमामा के जरिए मलिक मियाँ ने कमाई अकूत संपत्ति, अरब देशों तक व्यापार: रेड में अधिकारियों के मिले 4-5 करोड़ रुपए कैश और सोना

पुश्तैनी इत्र और शमामा (खास तरह का कंपाउंड) कारोबार से इस परिवार ने अथाह संपदा बनाई है। वर्ष 1886 से यह परिवार इत्र के व्यवसाय में है। बताया जाता है कि इन लोगों ने फारस देश के कारोबारियों के साथ शमामा बनाने का व्यापार शुरू किया था।

उत्तर प्रदेश में आयकर विभाग एक्शन मोड में है। पीयूष जैन के ठिकानों पर छापेमारी के बाद आईटी ने एक अन्य इत्र कारोबारी मोहम्मद याकूब पर शिकंजा कसा है। शुक्रवार (31 दिसंबर 2021) को आयकर विभाग की टीम ने मोहम्मद याकूब के यहाँ छापेमारी की थी, जिसमें उन्हें 4 से 5 करोड़ कैश और सोना बरामद हुआ था। शुक्रवार को ही याकूब के साथ-साथ लखनऊ में रहने वाले उसके भाई मोहसीन के यहाँ भी इनकम टैक्स के 4-5 अधिकारी पहुँचे थे। इत्र के सबसे बड़े और पुराने कारोबारियों में गिने जाने वाले मलिक मियाँ के यहाँ भी छापेमारी हुई थी।

पुश्तैनी इत्र और शमामा (खास तरह का कंपाउंड) कारोबार से इस परिवार ने अथाह संपदा बनाई है। वर्ष 1886 से यह परिवार इत्र के व्यवसाय में है। बताया जाता है कि इन लोगों ने फारस देश के कारोबारियों के साथ शमामा बनाने का व्यापार शुरू किया था। यह फर्म इत्र का व्यवसाय कर करोड़ों की संपत्ति बना चुका है।

मलिक मियाँ ने आगे चलकर इस कारोबार को आधुनिक रूप दिया और अपने खुद के नाम से मलिक शमामा बनाया। अरब देशों में इसकी लोकप्रियता बढ़ने पर उन्होंने अपने भाई मोहसिन के नाम से भी मार्केट में मोहसिन शमामा लॉन्च किया था। मौजूदा समय में मलिक शमामा की कीमत डेढ़ लाख रुपए प्रति किलोग्राम है, जबकि मोहसिन शमामा की कीमत करीब 80 हजार रुपए प्रति किलोग्राम है।

मलिक मियाँ की 2016 में लंबी बीमारी के चलते मौत हो गई थी। मोहसिन, फैशन और अब्दुल हामिद उसके भाई हैं। मलिक मियाँ ने दो शादी की थी। उनके पाँच बेटे फौजान मलिक, अब्दुल्ला मलिक, रहमान मलिक, खुर्रम मलिक और छोटे मलिक हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अजमेर दरगाह के बाहर ‘सर तन से जुदा’ की गूँज के 11 दिन बाद उदयपुर में काट दिया गया था कन्हैयालाल का गला, 2...

राजस्थान के अजमेर दरगाह के सामने 'सर तन से जुदा' के नारे लगाने वाले खादिम मौलवी गौहर चिश्ती सहित छह आरोपितों को कोर्ट ने बरी कर दिया है।

जिस किले में प्रवेश करने से शिवाजी को रोक नहीं पाई मसूद की फौज, उस विशालगढ़ में बढ़ रहा दरगाह: काटे जा रहे जानवर-156...

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में स्थित विशालगढ़ किला में लगातार अतिक्रमण बढ़ रहा है। यहाँ स्थित एक दरगाह के पास कई अवैध दुकानें बन गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -