Monday, May 20, 2024
Homeदेश-समाजकानपुर: तबलीगी जमात के संपर्क में आए मदरसे के 13 छात्र कोरोना वायरस से...

कानपुर: तबलीगी जमात के संपर्क में आए मदरसे के 13 छात्र कोरोना वायरस से संक्रमित

कानपुर में कोरोना संक्रमित तीन मरीजों की मौत होने के साथ ही 7 लोग ठीक होकर अपने-अपने घर चले गए हैं। मरने वालों में तीनों हाॅटस्पाॅट इलाके के रहने वाले हैं। तबलीगी जमात से जुड़े छह सदस्य 14 दिन के इलाज के बाद स्वस्थ्य होकर मंधना स्थित क्वारंटाइन सेंटर में रुके हुए हैं।

उत्तर प्रदेश के सबसे अधिक आबादी वाले जिले कानपुर में कोरोना संकट दिनोंदिन गहराता जा रहा है। यहाँ पर एक मदरसे के 13 छात्र कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। इनके तार भी तबलीगी जमात के लोगों के साथ जुड़ रहे हैं।

बताया जा रहा है कि ये छात्र कोरोना वायरस से संक्रमित तबलीगी जमात के लोगों के साथ संपर्क में आए थे। 13 नए मामले के सामने आने के साथ ही कानपुर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़कर 107 हो गए हैं। 

कुली बाजार स्थित मदरसे से 50 लोगों के सैम्पल लिए गए थे। इनमें से 13 सैम्पल पॉजिटिव आए हैं। सीएमओ डॉ. एके शुक्ला ने बताया कि अधिकतर केस सीलिंग इलाके से आ रहे हैं। ऐसे में कहा जा सकता है कि लोग अब भी लाॅकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं।

डॉ. शुक्ला ने बताया कि इन मरीजों को क्वारंटाइन कर दिया गया था। अब उन्हें सरकारी अस्पतालों के कोविड-19 क्वारंटाइन वार्डों में भर्ती कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह हॉटस्पॉट क्षेत्र है। यहीं के 30 लोग पहले संक्रमित पाए गए थे।

केजीएमयू और जीएसवीएम से गुरुवार देर रात आई रिपोर्ट में 24 लोग संक्रमित पाए गए थे। इनमें अनवरगंज थाने में तैनात एक हेड कांस्टेबल भी शामिल थे। यह हॉटस्पॉट क्षेत्र है। यहीं के 30 लोग पहले संक्रमित पाए गए थे।

हेड कांस्टेबल की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद यहाँ के स्टाफ में हड़कंप मच गया। सूचना पर डीएम एसएसपी मौके पर पहुँचे। अपनी निगरानी में सभी पुलिसकर्मियों की जाँच करवाई।

स्वास्थ्य विभाग ने कांस्टेबल के संपर्क में आए थाना प्रभारी, दो दरोगा समेत 14 पुलिस वालों के सैंपल जाँच के लिए भेजे हैं। इनसे थाने में ही रहने और सावधानी बरतने को कहा गया है। थाने और वहाँ बने आवास परिसर को सैनिटाइज कराया गया और फिर थाने को सील कर दिया गया।

कानपुर में कोरोना संक्रमित तीन मरीजों की मौत होने के साथ ही 7 लोग ठीक होकर अपने-अपने घर चले गए हैं। मरने वालों में तीनों हाॅटस्पाॅट इलाके के रहने वाले हैं। तबलीगी जमात से जुड़े छह सदस्य 14 दिन के इलाज के बाद स्वस्थ्य होकर मंधना स्थित क्वारंटाइन सेंटर में रुके हुए हैं। डीएम ब्रम्हादेव तिवारी ने लोगों से अपील करते हुए कहा है कि लाॅकडाउन का इमानदारी से पालन करें। यदि वह बेवजह घर से बाहर निकलते हैं तो उन पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा। डीएम ने बताया कि हाॅटस्पाॅट इलाकों की निगरानी ड्रोन के जरिए की जा रही है।

गौरतलब है कि कानपुर में  गणेश शंकर विद्यार्थी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज में जमाती सोशल डिस्टेंसिंग को ताक पर रखकर एक साथ नमाज अदा करते नजर आए थे। इन लोगों ने डॉक्टरों के साथ बदतमीजी करने के साथ ही क्वारंटाइन वार्ड में थूक-थूक कर गंदगी भी फैलाई थी। बाद में यही जमाती डॉक्टरों के सामने रो-रोकर उनसे अपने जीवन की भीख माँग रहे थे

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -