Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजकानपुर में कबाड़ बेच कर ₹150 करोड़ का फर्जीवाड़ा: आलम और आसिफ गिरफ्तार,...

कानपुर में कबाड़ बेच कर ₹150 करोड़ का फर्जीवाड़ा: आलम और आसिफ गिरफ्तार, 24+ करोड़ रुपए की टैक्स चोरी

खुफिया एजेंसियों ने दो सगे भाइयों नूर आलम और मोहम्मद आसिफ को पकड़ा है। कुल फर्जीवाड़ा 600 करोड़ रुपए से भी ज्यादा होने के आसार हैं। इस पूरे खेल के पीछे किसी फैजल खान का नाम आ रहा है।

उत्तर प्रदेश के कानपुर में कबाड़ की आड़ में 150 करोड़ रुपए के फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है। जीएसटी खुफिया महानिदेशालय की टीम ने इस मामले में संलिप्त दो युवकों को गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है कि टीम ने 24.14 करोड़ रुपए की टैक्स चोरी पकड़ी है और करीब 95 लाख रुपए सीज किए हैं।

हिंदुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक, खुफिया एजेंसियों ने दो सगे भाइयों नूर आलम और मोहम्मद आसिफ को पकड़ा है। वे इन आरोपितों को महज चेहरा मान रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक इस पूरे खेल के पीछे किसी फैजल खान का नाम आ रहा है। फिलहाल दोनों आरोपितों को 14 दिन की रिमांड पर लिया गया है।

जीएसटी की खुफिया एजेंसियों ने कबाड़ की आड़ में बड़े पैमाने पर टैक्स चोरी की सूचना मिलने के बाद कानपुर और लखनऊ यूनिट के अफसरों को इसके संदर्भ में सूचित किया। अफसरों ने कोयला नगर और उन्नाव के दो गोदामों पर छापेमारी की। ये गोदाम हिंद ट्रेडर्स के नाम पर चल रहे थे। वहीं, कबाड़ की सप्लाई गाजियाबाद और पंजाब की बड़ी स्टील कंपनियों को की जा रही थी।

बता दें कि बरामद दस्तावेजों की स्क्रूटनी में पाया गया कि हिंदुस्तान ट्रेडर्स, भारत इंडस्ट्रीज और रिमझिम स्टील्स ने बिना सप्लाई के बिल-वाउचर प्राप्त किए। 150 करोड़ रुपए के बिल बनाकर इन फर्मों ने बिना टैक्स दिए 24.14 करोड़ रुपए का इनपुट टैक्स क्रेडिट ले लिया।

कुल फर्जीवाड़ा 600 करोड़ रुपए से भी ज्यादा होने के आसार हैं। गोदामों से करीब 100 टन माल बरामद किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe