Sunday, April 21, 2024
Homeदेश-समाजकानपुर हिंसा: उपद्रवियों पर योगी सरकार का शिकंजा, नोटिस के बाद जमा कराई गई...

कानपुर हिंसा: उपद्रवियों पर योगी सरकार का शिकंजा, नोटिस के बाद जमा कराई गई ₹80,856 जुर्माने की पहली किस्त

यूपी पुलिस द्वारा उपद्रवियों के खिलाफ की जा रही सख्त कार्रवाई से घबराए बेकनगंज थाने के 6 उपद्रवियों ने सिटी मजिस्ट्रेट के नोटिस पर बेकनगंज निवासी यासीन, नौबस्ता निवासी मोहम्मद अरमान, बेकनगंज निवासी गुरगुट, इरफान, लियाकत और दिलशाद ने मिलकर 80,856 रुपए का चेक सोमवार को सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय में जमा करा दिया।

सीएए के नाम पर यूपी में हिसा करने और उसकी आड़ में सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुँचाने वाले उपद्रवियों को योगी सरकार किसी भी हाल में नहीं छोड़ना चाहती और कानून के तहत उसे सबक भी सिखाना चाहती है। यही कारण है कि योगी सरकार की सख्ती के चलते कानपुर में हिंसा करने वाले उपद्रवियों ने जुर्माने की पहली किस्त को जमा करा दिया है।

यूपी पुलिस द्वारा उपद्रवियों के खिलाफ की जा रही सख्त कार्रवाई से घबराए बेकनगंज थाने के 6 उपद्रवियों ने सिटी मजिस्ट्रेट के नोटिस पर सोमवार को खुद पर लगे जुर्माने के 80,856 रुपए जमा करा दिए। नोटिस की सूची में शामिल बेकनगंज निवासी यासीन, नौबस्ता निवासी मोहम्मद अरमान, बेकनगंज निवासी गुरगुट, इरफान, लियाकत और दिलशाद ने मिलकर 80,856 रुपए का चेक सोमवार को सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय में जमा करा दिया। दरअसल, कानपुर में हुई हिंसा के लिए सरकार द्वारा गठित की गई जाँच कमेटी ने यतीमखाना में 2 लाख 80 हजार रुपए के नुकसान का आकलन करके वसूली का नोटिस 21 लोगों को जारी किया था।

उधर बाबरपुर पुलिस ने हिंसा में शामिल एक और आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद उसे पुलिस ने कोर्ट में पेश किया और वहाँ से उसे जेल भेज दिया गया। दरअसल, बवाल के दौरान आरोपित को गोली लगी थी। इसके बाद अस्पताल में भर्ती कराने के बाद आरोपित अस्पताल से फरार हो गया था, जिसकी सीसीटीवी फुटेज की मदद से जमील के रूप में पहचान हुई थी। वहीं बाबूपुरवा हिंसा में अब तक 16 आरोपितों को पुलिस जेल भेज चुकी है, जबकि 19 फरार चल रहे हैं। फरार आरोपितों के खिलाफ बाबूपुरवा पुलिस कुर्की की कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है।

गौरतलब है कि 21 दिसंबर को सीएए विरोध के नाम पर उपद्रवियों ने जुमे की नमाज के बाद यतीमखाना और बाबूपुरवा में जमकर उत्पात मचाया था। इस दौरान की गई हिंसा में उपद्रवियों ने पब्लिक और सरकारी संपत्तियों को आग के हवाले तो किया ही साथ ही पत्थरबाजी में दर्जनों गाड़ियों को अपना निशाना बनाया था। इतना ही नहीं उपद्रवियों ने पुलिस पर गोली चलाने के साथ पेट्रोल बम भी चलाए थे। इसके बाद योगी सरकार ने सरकारी नुकसान की भरपाई उपद्रवियों से ही करने के निर्देश दिए थे।

कानपुर हिंसा में 12 लोगों को गोली लगी थी और 263 पुलिसकर्मी घायल हुए थे। इसके बाद पहले तो यूपी पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज और वीडियो की मदद से उपद्रवियों की पहचान की। इसके बाद उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर सरकारी संपत्ति के नुकसान की भरपाई के लिए उन पर जुर्माना लगाया। इसे वसूल करने के लिए प्रशासन ने पहले तो नोटिस जारी किया और फिर अल्टीमेटम भी दिया। इसके बाद दंगाई अपने और अपनी संपत्ति को बचाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपना रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिमों के लिए आरक्षण माँग रही हैं माधवी लता’: News24 ने चलाई खबर, BJP प्रत्याशी ने खोली पोल तो डिलीट कर माँगी माफ़ी

"अरब, सैयद और शिया मुस्लिमों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलता है। हम तो सभी मुस्लिमों के लिए रिजर्वेशन माँग रहे हैं।" - माधवी लता का बयान फर्जी, News24 ने डिलीट की फेक खबर।

रावण का वीडियो देखा, अब पढ़िए चैट्स (वायरल और डिलीटेड): वाल्मीकि समाज की जिस बेटी ने UN में रखा भारत का पक्ष, कैसे दिया...

रोहिणी घावरी ने बताया था कि उनकी हँसती-खेलती ज़िंदगी में आकर एक व्यक्ति ने रात-रात भर अपने तकलीफ-संघर्ष की कहानियाँ सुनाई और ये एहसास कराया कि उसे कभी प्यार नहीं मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe