Friday, April 12, 2024
Homeदेश-समाजकानपुर में CAA पर हिंसा: दंगाइयों ने पुलिस पर तेज़ाब और पेट्रोल बम से...

कानपुर में CAA पर हिंसा: दंगाइयों ने पुलिस पर तेज़ाब और पेट्रोल बम से किया हमला, 50 गिरफ़्तार-12 को लगी गोली

गिरफ्तार उपद्रवियों में पालिकाध्यक्ष शादाब खान भी शामिल है। पुलिस के मुताबिक उनकी तरफ से फायरिंग नहीं की गई। आत्मरक्षा के लिए पैलट गन का प्रयोग किया गया था। जो घायल हुए हैं वे उपद्रवियों द्वारा चलाई गई गोली से हुए हैं।

उत्तर प्रदेश के कानपुर में नागरिकता क़ानून (CAA) के ख़िलाफ़ शुक्रवार (20 दिसंबर) को जुमे की नमाज़ के बाद दंगाइयों ने क़रीब ढाई घंटे तक जमकर उत्पात मचाया। बाबूपुरवा के बेगमपुरवा, बगाही मस्जिद के पास प्रदर्शन के दौरान अराजक तत्वों ने पुलिस पर तेज़ाब से हमला कर दिया। यहाँ आगजनी, पथराव और गोलीबारी में 12 लोगों को गोली लगी है।

पथराव में दो सर्किल ऑफ़िसर (सीओ), दो दारोगा समेत सात पुलिसकर्मी बुरी तरह से ज़ख़्मी हो गए। पुलिस पर पथराव करने के आरोप में मुक़दमा दर्ज कर बिल्हौर के पालिकाध्यक्ष शादाब ख़ान समेत क़रीब 50 उपद्रवियों को गिरफ़्तार किया गया। प्रदर्शनकारियों ने बिल्हौर, नौबस्ता, मुरे कंपनी पुल, चकेरी, जाजमऊ आदि क्षेत्रों में भी प्रदर्शन कर जमकर बवाल काटा।

ख़बर के अनुसार, कानपुर में दंगाइयों ने फ़ोर्स के साथ खड़े बाबूपुरवा चौकी इंचार्ज पर तेज़ाब से भरी बोतल फेंककर हमला कर दिया। बोलत को अपनी तरफ आता देख चौकी इंचार्ज वहाँ से पीछे हट गए। ऐसा करके ही वो हिंसक हमले का शिकार होने से ख़ुद को बाल-बाल बचा सके। हालाँकि, तेज़ाब की छींटे उनकी पैंट पर पड़ गईं थी। पुलिस पर पथराव के साथ-साथ खाली बोतलों से भी हमला किया गया। हमले में पुलिसकर्मियों के अलावा वहाँ मौजूद मीडियाकर्मियों को भी चोटें आई।

उपद्रवियों द्वारा पुलिस पर पथराव किए जाने से पूरी सड़के ईंट-पत्थरों से पट गई। बेक़ाबू हालात पर नियंत्रण पाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज, आँसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ा। लाठीचार्ज से दंगाइयों पर तोड़ा असर तो पड़ा, लेकिन गलियों और छतों से उनके ऊपर पथराव करना शुरू कर दिया गया।

यतीमखाना और नई सड़क की तरफ़ से आ रहे उत्पातियों ने सबसे पहले सद्भावना चौकी के सामने नारेबाज़ी की। इसके बाद नारेबाज़ी करते हुए क़रीब 20 हज़ार दंगाई परेड चौराहे स्थित एकता चौकी पहुँचे। पहले तो उन्होंने सड़क पर बैठकर नारेबाज़ी की फिर इसके बाद प्रेस क्लब में घुसने की कोशिश की।

फ़िलहाल, हाईअलर्ट के बीच भारी पुलिस व अर्धसैनिक बल तैनात किया गया है। बाबूपुरवा में सेवन क्रिमिनल एक्ट के तहत 1500 अज्ञात समेत शहर के 10 थाना क्षेत्रों में 15 हज़ार उपद्रवी भीड़ के ख़िलाफ़ 12 मुक़दमे दर्ज किए गए। उपद्रवियों की ओर से सुरक्षा बलों पर पेट्रोल बम फेंके गए तो हालात और ख़राब हो गए। पुलिस के आला अधिकारी घटनास्थल पर पहुँचे और उपद्रवी भीड़ को तितर-बितर किया। पथराव में सीओ बाबूपुरवा मनोज कुमार गुप्ता, बेगमपुरवा चौकी प्रभारी अनूप कुमार, बाबूपुरवा चौकी प्रभारी राजकुमार रावत समेत सात पुलिस कर्मी घायल हो गए।

इस मामले पर जानकारी देते हुए कानपुर के एडीजी प्रेम प्रकाश ने बताया कि उपद्रवियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने इस बात की पुष्टि की कि बेगमपुर में गोली लगने से 12 लोग घायल हुए हैं। इसके अलावा उन्होंने पुलिस द्वारा गोलीबारी से इनकार किया। उन्होंने बताया कि आत्मरक्षा के लिए पैलट गन का प्रयोग किया गया था, और जो घायल हुए हैं वो उपद्रवियों द्वारा चलाई गई गोली से हुए हैं।

31 जनवरी तक धारा 144, लखनऊ समेत 42 जिलों में इंटरनेट बंद: योगी सरकार ने उठाया सख्त कदम

दंगाइयों की संपत्ति बेच कर होगी नुकसान की भरपाई: उपद्रवियों पर सख्त हुए CM योगी

थाने में आग लगा लगा रहे थे, पुलिस की गोली से मारे गए 2 उपद्रवी, लखनऊ में भी 1 की मौत

उग्र हुए मुस्लिम प्रदर्शनकारी: पत्थरबाजी के साथ लगाई कई बसों में आग, लखनऊ में पुलिस चौकी फूँकी

सपा सांसद शफीकुर्रहमान के ख़िलाफ़ मामला दर्ज, 3000 दंगाई हिरासत में: योगी सरकार की सख़्त कार्रवाई

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों को MSP की कानूनी गारंटी देने का कॉन्ग्रेसी वादा हवा-हवाई! वायर के इंटरव्यू में खुली पार्टी की पोल: घोषणा पत्र में जगह मिली,...

कॉन्ग्रेस के पास एमएसपी की गारंटी को लेकर न कोई योजना है और न ही उसके पास कोई आँकड़ा है, जबकि राहुल गाँधी गारंटी देकर बैठे हैं।

जज की टिप्पणी ही नहीं, IMA की मंशा पर भी उठ रहे सवाल: पतंजलि पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ईसाई बनाने वाले पादरियों के ‘इलाज’...

यूजर्स पूछ रहे हैं कि जैसी सख्ती पतंजलि पर दिखाई जा रही है, वैसी उन ईसाई पादरियों पर क्यों नहीं, जो दावा करते हैं कि तमाम बीमारी ठीक करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe