Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाज'क्लासमेट जोया और उसकी अम्मी करती थी तंग': हिंदू लड़की ने की आत्महत्या, 1...

‘क्लासमेट जोया और उसकी अम्मी करती थी तंग’: हिंदू लड़की ने की आत्महत्या, 1 हफ्ते बाद खुला मामला; जाँच में जुटी कर्नाटक पुलिस

लड़की का नाम अर्चना था और क्लासमेट की पहचान जोया के तौर पर हुई है। अर्चना ने सुसाइड से पहले एक नोट लिखा था जिसमें उसने जोया और उसकी अम्मी को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया है।

कर्नाटक के हावेड़ी जिले में एक 14 साल की बच्ची ने अपनी क्लासमेट के टॉर्चर से तंग आकर एक हफ्ते पहले आत्महत्या कर ली थी, लेकिन मामला अब जाकर प्रकाश में आया है। लड़की का नाम अर्चना था और क्लासमेट की पहचान जोया के तौर पर हुई है। अर्चना ने सुसाइड से पहले एक नोट लिखा था जिसमें उसने जोया और उसकी अम्मी को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया है।

अर्चना डोड्डाननवर जिले के हिरेकेरुर तालुक में मोरारजी देसाई सरकारी आवासीय विद्यालय में पढ़ती थी। द न्यू इंडियन एक्सप्रेस पर प्रकाशित खबर के अनुसार, एक हफ्ते पहले अर्चना ने अपने घर पर आत्महत्या की तो घरवालों ने पुलिस को बताने की बजाय खुद उसका अंतिम संस्कार कर दिया। साथ ही स्कूल प्रबंधन और जोया के परिवार के साथ बैठकर मुआवजे की रकम भी तय कर ली। अर्चना के घरवालों ने इस मामले को रफा-दफा करने के लिए 10 लाख माँगे थे। हालाँकि सहमति एक लाख रुपए में बनी।

बताया जा रहा है कि जब कुछ ग्रामीणों को इन रुपयों में से हिस्सा नहीं मिला तो उन्होंने इस आत्महत्या की बात को फैला दिया और बात पुलिस तक पहुँची। ग्रामीणों ने बताया कि अर्चना की मौत में कुछ तो गड़बड़ थी। वह एक होनहार छात्रा थी। वहीं कुछ लोग अर्चना की फोटो लेने भी सफल हो गए थे। उन्होंने वो सारी तस्वीरें आदि दिखाते हुए स्कूल प्रबंधन और लड़की के माता-पिता का एक्शन लेने की माँग की।

पुलिस ने जानकारी होने पर इलाके का दौरा किया। वह अर्चना के घर गए। उस विद्यालय में गए जहाँ वो पढ़ती थी। पता लगने पर पुलिस ने घटना की जाँच शुरू कर दी है। अर्चना के परिजनों के अलावा ग्रामीणों और स्कूल प्रबंधन से भी पूछताछ की जा रही है। वो सुसाइड नोट भी मिला है जिसमें लड़की ने लिखा था कि उसकी मौत की जिम्मेदार क्लासमेट जोया और उसकी अम्मी हैं जिन्होंने उसे प्रताड़ित किया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जगन्नाथ मंदिर के ‘रत्न भंडार’ और ‘भीतरा कक्ष’ में क्या-क्या: RBI-ASI के लोगों के साथ सँपेरे भी तैनात, चाबियाँ खो जाने पर PM मोदी...

कहा जाता है कि इसकी चाबियाँ खो गई हैं, जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सवाल उठाया था। राज्य में भाजपा की पहली बार जीत हुई है, वर्षों से यहाँ BJD की सरकार थी।

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -