Sunday, May 29, 2022
Homeदेश-समाजस्लीपर सेल, चादर फैलाकर मुस्लिम इलाकों में चंदा, 3 दिन पहले से ही दंगाइयों...

स्लीपर सेल, चादर फैलाकर मुस्लिम इलाकों में चंदा, 3 दिन पहले से ही दंगाइयों का जुटान: खंभात में रामनवमी जुलूस पर हमले का ऐसे बना प्लान

पूरे प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में हिंसा फैलाने का प्लान बनाया गया था, लेकिन इस साजिश को बहुत अधिक समर्थन नहीं मिला। इस साजिश के स्क्रीनशॉट पाकिस्तान तक की सोशल मीडिया में वायरल हो रहे हैं।

गुजरात (Gujarat) के खंभात हिंसा की जाँच में कुछ और नए खुलासे हुए हैं। इस मामले में गिरफ्तार आरोपितों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि हिंसा का मकसद हिन्दुओं के मन में मुस्लिमों का डर बैठाना था, ताकि भविष्य में वे मुस्लिम इलाकों से शोभा यात्रा निकालने का साहस न कर सकें। इस मामले में अब तक तीन मौलवियों सहित 11 आरोपित गिरफ्तार किए गए हैं। इन आरोपितों में 6 लोग इस साजिश रचने में शामिल थे।

एक स्थानीय समाचार दिव्य भास्कर के मुताबिक, इस पूरी घटना को अंजाम देने के लिए स्लीपर सेल ने लंबी तैयारी की थी। आरोपित रामनवमी के 3 दिन पहले ही खंभात में जमा हो गए थे। तैयारियों को अंजाम देने के लिए ईंट-पत्थरों को भी जमा कर लिया था, ताकि शोभा यात्रा पर पत्थरबाजी की जा सके। इस पूरी साजिश को अंजाम देने के लिए मुस्लिम इलाकों में चादर फैलाकर चंदा इकट्ठा किया गया था। जमा हुए इन पैसों का इस्तेमाल केस के बाद गिरफ्तार आरोपितों की जमानत करवाने और उनके केसों को लड़ने के लिए करना था।

इस पूरी घटना का मुख्य आरोपित मौलवी रज़्ज़ाक उर्फ अयूब है। DJ की आवाज पर हंगामे की शुरुआत उसी ने सबसे पहले की थी। इसी हंगामे के दौरान शोभा यात्रा में शामिल लोगों और पुलिस पर पत्थरबाजी शुरू हो गई थी। इस केस की जाँच अब SIT कर रही है। जिले के SP अजीत ने बताया कि हमला पूरी सुनियोजित और साजिश के तहत किए गए थे। इस मामले में अब तक कुल 57 आरोपित चिन्हित कर लिए गए हैं। फिलहाल पुलिस इस केस में विदेशी लिंक की तलाश कर रही है।

गुजरात डेली समाचार के मुताबिक पूरे प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में हिंसा फैलाने का प्लान बनाया गया था, लेकिन इस साजिश को बहुत अधिक समर्थन नहीं मिला। इस साजिश के स्क्रीनशॉट पाकिस्तान तक की सोशल मीडिया में वायरल हो रहे हैं। पुलिस आरोपितों के फोन और मैसेज के रिकॉर्ड तलाश रही है।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक पुलिस ने बताया, “हमले के दौरान पूरे शहर में सोशल मीडिया पर मैसेज भेजे गए। इन संदेशों का मकसद अन्य इलाकों के लोगों को भड़काना था। इसके बाद मुख्य आरोपितों द्वारा अपने रिश्तेदारों को ऐसे संदेश भेजे गए जैसे कि वो कानून-व्यवस्था को सुधारने में पुलिस की मदद कर रहे हों। मौलवी अयूब के साथ माज़िद, जमशेद खान पठान, मौलवी वोहरा उर्फ़ मुस्तकीम, मोहम्मद सैयद और मतीन वोहरा भी इस घटना के मुख्य साजिशकर्ता हैं। रज़्ज़ाक के साथ साजिश में शामिल अन्य आरोपितों में कुछ ने हमलावरों को छिपाने की भी जिम्मेदारी ली थी।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नूपुर शर्मा का सिर कलम करने वाले को ₹20 लाख इनाम का ऐलान, बताया ‘गुस्ताख़-ए-रसूल’: मुस्लिमों को उकसा रहा AltNews वाला जुबैर

तहरीक-ए-लब्बैक (TLP) वही समूह है जिसने कुछ दिनों सियालकोट में पहले श्रीलंकाई नागरिक की हत्या कर दी थी। अब नूपुर शर्मा का सिर कलम करने पर रखा इनाम।

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe