Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाज3 बच्चों के अब्बा के चंगुल से छूटी हिंदू छात्रा, कोर्ट ने भेजा माता-पिता...

3 बच्चों के अब्बा के चंगुल से छूटी हिंदू छात्रा, कोर्ट ने भेजा माता-पिता के साथ: धर्मांतरण के बाद निकाह कर चुका था आरिफ

अदालत में लड़की ने साफ तौर पर आरिफ के साथ रहने से मना कर दिया। उसने वापस अपने माता-पिता के साथ लखीमपुर खीरी लौटने की इच्छा जताई और उनके साथ चली गई।

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में बीकॉम की छात्रा का अपहरण व उसका धर्मांतरण करवा कर निकाह करने वाला आरिफ गिरफ्तारी के बाद जेल भेज दिया गया। इस दौरान पीड़ित लड़की भी अदालत लाई गई। अदालत में लड़की ने साफ तौर पर आरिफ के साथ रहने से मना कर दिया। उसने वापस अपने माता-पिता के साथ लखीमपुर खीरी लौटने की इच्छा जताई और उनके साथ चली गई।

लड़की ने अपने बयान में बताया कि आरिफ उसे पहले कोर्ट मैरिज के लिए ले जा रहा था। मगर बीच रास्ते उसने उसका धर्मांतरण करवाया और फिर किसी को 27 हजार रुपए देकर उससे निकाह रचा लिया। पुलिस अब आरिफ पर लगे आरोपो की जाँच कर रही है। वहीं लड़की को उसके माता-पिता के साथ भेज दिया गया है।

बता दें कि पूरा मामला रसूलपुर थाना क्षेत्र का है। इस इलाके की रहने वाली एक हिंदू लड़की कॉलेज में बी.कॉम की पढ़ाई कर रही थी। लेकिन, 25 अप्रैल 2022 को वह अचानक गायब हो गई। परिजनों के बहुत ढूँढने पर भी जब छात्रा नहीं मिली तो अंत में उसके पिता ने थाने में जाकर पुलिस को तहरीर दी और आरिफ को नामजद किया। 30 वर्षीय आरिफ रामगढ़ थाना क्षेत्र के आकाशवाणी रोड का रहने वाला है। कुछ रिपोर्ट्स में उसे तीन बच्चों का अब्बा बताया जा रहा है।

शिकायत के बाद पुलिस आरिफ को गिरफ्तार करने के लिए लगातार दबिश देने लगी, लेकिन वह कहीं हाथ नहीं आया। इसी दौरान गुरुवार (5 मई 2022) को पुलिस को मुखबिर से आरिफ के बारे में जानकारी मिली। सूचना के आधार पर पुलिस ने आरिफ को दखल की पुलिया के पास से गिरफ्तार कर लिया और उसकी निशानदेही पर छात्रा को भी बरामद कर लिया।

गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने आरिफ से पूछताछ की। पूछताछ में आरिफ ने पुलिस को बताया कि वह छात्रा का धर्मांतरण कराने के बाद उससे निकाह कर चुका है। हालाँकि, धर्म परिवर्तन से संबंंधित उसने किसी तरह का कागजात नहीं दिया। पूछताछ में उसने बताया कि वह लड़की से निकाह करके उसे देहरादून, हरिद्वार में भटका रहा था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -