Wednesday, November 30, 2022
Homeदेश-समाजदिल्ली का 'बदनाम' रिकॉर्ड अब होगा पुणे के नाम: तेजी से बढ़ रहा कोरोना...

दिल्ली का ‘बदनाम’ रिकॉर्ड अब होगा पुणे के नाम: तेजी से बढ़ रहा कोरोना वायरस, एक दिन में 4000 नए पॉजिटिव केस

पुणे कोरोनो वायरस से सबसे बुरी तरह प्रभावित शहर के रूप में उभर रहा है। दिल्ली में अब तक कुल 1,71,366 कोरोना वायरस पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। जबकि पुणे में यह संख्या अभी तक 1,69,448 हो गई है।

महाराष्ट्र के पुणे में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। यहाँ की स्थिति इस हद तक बदतर हो गई है कि अब यह भारत में सबसे अधिक कोरोना से प्रभावित शहर बनता जा रहा है। रविवार 30 अगस्त तक के आँकड़ों के मुताबिक पुणे में शनिवार को लगभग 4,000 नए कोविड-19 पॉजिटिव मामले दर्ज किए गए हैं।

कोरोना वायरस के शुरुआती दौर से सबसे ज्यादा संक्रमण से प्रभावित हुए मुंबई को भी पुणे ने पीछे छोड़ दिया है। अब तक भारत के कुल कोरोना वायरस मामलों में महाराष्ट्र का योगदान 21% से अधिक है। भारत में कोरोनो वायरस के कारण होने वाली कुल मौतों में लगभग 40% मौतें महाराष्ट्र में हुई है। जिसमें सबसे अधिक मुंबई के लोगों की जान इस जानलेवा महामारी के चलते गई है।

पुणे कोरोनो वायरस से सबसे बुरी तरह प्रभावित शहर के रूप में उभर रहा है। संभावना है कि पुणे एक या दो दिनों में दिल्ली से आगे निकल जाएगा। दिल्ली में अब तक कुल 1,71,366 कोरोना वायरस पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। जबकि पुणे में यह संख्या अभी तक 1,69,448 हो गई है।

चीन के वुहान शहर से फैले इस महामारी ने दुनिया भर में 2.5 करोड़ लोगों को संक्रमित किया है। लगभग 8.4 लाख से अधिक लोग इस महामारी के चलते अपनी जान से हाथ धो बैठे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अब वक्फ बोर्ड खुद खोलेगा स्कूल-कॉलेज, मुस्लिम छात्राएँ पहनेंगी बुर्का-हिजाब: बोले आक्रोशित हिन्दू संगठन – देश के लिए खतरा बनेंगे शरिया शैक्षणिक संस्थान

मुस्लिमों की बढ़ती माँगों को देखते हुए वक्फ बोर्ड खोलेगा नए शिक्षण संस्थान। हिन्दू संगठनों ने कहा कि देश में 'शरीया संस्थानों' की जरूरत नहीं।

मॉर्निंग वॉक पर निकली मंदिर के हथिनी ‘लक्ष्मी’ की मौत, लोगों ने रोते हुए दी अंतिम विदाई: लोगों ने एक्टिविस्ट्स को बताया जिम्मेदार

हथिनी लक्ष्मी को इलाज के लिए पशु चिकित्सकों के पास ले जाया गया, लेकिन कार्डियक अरेस्ट के कारण उसने दम तोड़ दिया। मंदिर के सामने अंतिम दर्शन के लिए रखा गया शव।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,216FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe