Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाज'तुम्हारा चेहरा बिगाड़ दूँ, तो तुम क्या कर लोगे': महाराष्ट्र में मेडिकल सर्वे टीम...

‘तुम्हारा चेहरा बिगाड़ दूँ, तो तुम क्या कर लोगे’: महाराष्ट्र में मेडिकल सर्वे टीम पर एसिड अटैक

आरोपित ने पहले महिला डॉक्टर के करीब जाकर आपत्तिजनक टिप्पणी की। इसके बाद वह वहाँ से जाने लगी तो आरोपित ने पीछा कर इस वारदात को अंजाम दिया। पुलिस का कहना है कि आरोपित के पास बाथरूम साफ करने वाली एसिड थी।

महाराष्ट्र के वर्धा जिले के हिंगणघाट में प्राध्यापिका को पेट्रोल छिड़ककर जलाने की घटना के बाद अब राज्य के सावनेर में महिला डॉक्टर पर एसिड हमले की घटना सामने आई है। गुरुवार (फरवरी 13, 2020) की दोपहर हुए इस हमले में महिला डॉक्टर के साथ दो अन्य भी झुलस गए। इनमें एक 14 साल की नाबालिग है।

जानकारी के मुताबिक कि हमलावर नीलेश कान्हेरे ने “तुम्हारा ऐसा चेहरा बिगाड़ दूँ, तो तुम क्या कर लोगे?” कहते हुए महिला डॉक्टर और लेक्चरर के चेहरे की तरफ एसिड फेंका। हालाँकि महिला ने उससे बचने की कोशिश की और काफी हद तक वो इसमें कामयाब भी हुई। उसने अपने चेहरे को तो एसिड अटैक से तो बचा लिया, लेकिन एसिड के कुछ छींटे उसके दाहिने हाथ पर जा गिरे।

दरअसल आरोपित नीलेश ने महिला डॉक्टर के करीब जाकर आपत्तिजनक टिप्पणी की, जिसके बाद वो वहाँ से जाने लगी तो आरोपित ने उसका पीछा करते हुए इस वारदात को अंजाम दिया। पुलिस का कहना है कि आरोपित के पास बाथरूम साफ करने वाली एसिड थी। तीनों घायलों को नागपुर के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

उनका कहना है कि तीनों के चेहरे और शरीर के अन्य हिस्से मामूली रूप से झुलस गए हैं। इस हमले में महिला डॉक्टर के साथ साथ एक मरीज भी घायल हो गया। यह हादसा उस समय हुआ जब वो गुरुवार को नेशनल एड्स कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (NACO) के प्रोजेक्ट के तहत टीम सर्वे करने नागपुर से सटे सावनेर गई थी। GMCH के डॉक्टरों की पाँच सदस्यीय टीम यौन-संक्रमित संक्रमण (STI) और प्रजनन पथ संक्रमण (RTI) पर एक सर्वेक्षण और स्क्रीनिंग परियोजना का काम कर रही थी।

घटना के बाद कलेक्टर रवींद्र ठाकरे ने कहा कि वह एसिड और पेट्रोल की उपलब्धता और ट्रांसपोर्टेशन के खिलाफ सख्त नियम लाने वाले हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि वो इस तरह के हमलों के खिलाफ जागरूकता अभियान भी चलाएँगे। बताया जा रहा है कि घटना के बाद स्थानीय लोगों ने आरोपित को पकड़ कर बुरी तरह से पिटाई कर दी और फिर पुलिस के हवाले किया। 

घटना के बाद सावनेर थाने के सामने भारी भीड़ इकट्ठा हो गई। नागरिक आरोपित के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने की माँग पर अड़ गए। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस मुख्यालय को सूचना दी गई। एडिशनल एसपी मोनिका राऊत सावनेर पहुँची। उन्होंने घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि जाँच की जा रही है। जानकारी के मुताबिक घटना के समय आरोपित नशे की हालत में था। पुलिस यह भी पता लगाने की कोशिश कर रही है कि उसका कोई क्रिमिनल बैकग्राउंड तो नहीं है।

बता दें कि नीलेश बूचड़खाने पर काम करना सीख रहा था, लेकिन कुछ समय पहले ही उसे निकाल दिया गया था। उसने अपने दोस्तों के साथ सिनेमाहॉल में टॉयलेट साफ करना का काम करता था। इसके लिए वो एसिड का इस्तेमाल करता था और बताया जा रहा है कि इसमें कुछ एसिड उसने बचा लिए थे। इससे वो उस आदमी के टू व्हीलर के ऊपर अटैक करना चाहता थाा, जिसके अंदर उसने काम किया था, लेकिन उसने डॉक्टरों को देखा और उन पर हमला कर दिया।

एडिशनल एसपी मोनिका राउत ने कहा कि आरोपित से पूछताछ की जा रही है, लेकिन वो लगातार अपने बयान बदल रहा है, जिससे काफी परेशानी हो रही है। उन्होंने कहा, “हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि उसके हमले का कारण क्या है और उसे ये एसिड कहाँ से मिला। पूछताछ में उसने कई एसिड स्पालयर्स के नाम बताए, लेकिन सभी फर्जी निकले।”  

एसिड अटैक सर्वाइवर का दीपिका ने TikTok पर उड़ाया मजाक… JNU कांड के बाद फिर पड़ रही गाली

आरिफ, शाहनवाज, शरीफ, आबिद ने एसिड से जलाया… क्योंकि पीड़िता ने रेप केस वापस लेने से किया इनकार

छपाक कैसा होता होगा? कोई चंदा बाबू से पूछे…

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस विवाद के पीछे बीडीएस या कतर, वॉशिंगटन पोस्ट की संपादक ने भी फोन नम्बरों की पुष्टि से किया इनकार: एनएसओ सीईओ

स्पाइवेयर पेगासस के मालिक एनएसओ ग्रुप के सीईओ ने कहा, ''मौजूदा 'स्नूपगेट' विवाद के पीछे बीडीएस मूवमेंट या कतर का हाथ हो सकता है।''

‘माँ और बच्चे की कामुकता’ पर पोस्ट कर जनआक्रोश भड़काने वाली महिला ने ‘बीडीएसएम वर्कशॉप’ का ऐलान कर छेड़ा नया विवाद

सोशल मीडिया पर वर्कशॉप का पोस्टर शेयर करके वह लोगों के निशाने पर आ गई हैं। लोगों ने उन्हें ट्रोल करते हुए कहा कि वे sexual degeneracy को क्या मानती हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,047FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe