Saturday, July 2, 2022
Homeदेश-समाज'शिवलिंग होता तो कब का तोड़ कर हटा देते': ज्ञानवापी पर मौलाना सरफ़राज़ अहमद...

‘शिवलिंग होता तो कब का तोड़ कर हटा देते’: ज्ञानवापी पर मौलाना सरफ़राज़ अहमद ने दोहराया, एंकर ने पूछा – पैगंबर मुहम्मद पर कोई ऐसा बोले तो?

एंकर प्रत्यूष खरे ने पूछा कि अगर यही बात पैगंबर मुहम्मद के बारे में किसी ने कह दी होती तो बवाल मच जाता और मौलाना सरफराज अहमद इसी चैनल पर माफ़ी मँगवाने की बात कह रहे होते।

काशी के ज्ञानवापी विवादित ढाँचे के अंदर के नए वीडियोज सामने आने के बाद ये लगभग साफ़ हो गया है कि शिवलिंग के साथ छेड़छाड़ की गई थी और जिसे ‘मस्जिद’ कहा जाता है, उसके भीतर मंदिर होने के कई प्रमाण मौजूद हैं। अब सरफराज अहमद नाम के एक मौलाना ने कहा है कि ज्ञानवापी में शिवलिंग की बातें करने वालों का मकसद ही था कि हिंदुस्तान में बवाल करना है। उन्होंने कहा कि जो न्यूज़ चैनलों में चल रहा है वो क्या है, कानून के दायरे में मना कर दिया गया है कि कोई बात न करे, लेकिन फिर भी मीडिया में चल रहा है।

मौलाना सरफराज ने आगे कहा, “आपको क्या लगता है, जो फव्वारा कहा जा रहा है वो क्या है? फव्वारा है तो फव्वारा ही कहा जाएगा न। और अगर आपने ये आरोप लगा है कि ये शिवलिंग है तो ये जाँच का विषय है। एक बात मैं ‘ऑफ द रिकॉर्ड’ बोलना चाहता हूँ। किसी जमाने में ये मंदिर था। मंदिर तोड़ कर मस्जिद बन दी गई, इसमें कोई संशय की बात नहीं है। तो कहने का मतलब कि क्या बना, किसने बनाया – ये एक अलग विषय है।”

वायरल वीडियो में मौलाना सरफराज कहता दिख रहा है कि ज्ञानवापी के बारे में कोई प्रमाण भी नहीं है, क्योंकि कागजात लेकर अंग्रेज लंदन चले गए थे। ‘Zee Hindustan’ चैनल ने जब मौलाना सरफराज से इस बयान को लेकर पूछा तो उन्होंने कहा कि उन्होंने ‘ऑफ द रिकॉर्ड’ भी ये बात कही थी और अब ‘ऑन द रिकॉर्ड’ भी कह रहे हैं कि अगर वहाँ शिवलिंग होता तो उसे कब का तोड़ कर हटा देते। इस पर टीवी एंकर और डिबेट में मौजूद हिन्दू संत के कड़ी आपत्ति जताई।

मौलाना सरफराज ने इस बयान पर माफ़ी माँगने से इनकार करते हुए कहा कि उन्होंने ऐसा क्या कहा है? एंकर प्रत्यूष खरे ने पूछा कि अगर यही बात पैगंबर मुहम्मद के बारे में किसी ने कह दी होती तो बवाल मच जाता और मौलाना सरफराज अहमद इसी चैनल पर माफ़ी मँगवाने की बात कह रहे होते। बता दें कि सर्वे के लीक वीडियो में मस्जिद के वजूखाना के अंदर शिवलिंग स्पष्ट शिवलिंग दिख रहा है। साथ ही तहखानों की दीवारों पर स्वस्तिक, त्रिशूल, कमल और हिंदू देवताओं के रूपांकरण उकेरे हुए नजर आ रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नूपुर शर्मा पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी गैर-जिम्मेदाराना’: रिटायर्ड जज ने सुनाई खरी-खरी, कहा – यही करना है तो नेता बन जाएँ, जज क्यों...

दिल्ली हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज एसएन ढींगरा ने मीडिया में आकर बताया है कि वो सुप्रीम कोर्ट के जजों की टिप्पणी पर क्या सोचते हैं।

‘क्या किसी हिन्दू ने शिव जी के नाम पर हत्या की?’: उदयपुर घटना की निंदा करने पर अभिनेत्री को गला काटने की धमकी, कहा...

टीवी अभिनेत्री निहारिका तिवारी ने उदयपुर में कन्हैया लाल तेली की जघन्य हत्या की निंदा क्या की, उन्हें इस्लामी कट्टरपंथी गला काटने की धमकी दे रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,399FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe