Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाजमैतेई लोगों का मिजोरम से पलायन, उनकी दुकानों का बहिष्कार: मिजोरम पुलिस जुटी सुरक्षा...

मैतेई लोगों का मिजोरम से पलायन, उनकी दुकानों का बहिष्कार: मिजोरम पुलिस जुटी सुरक्षा में, मणिपुर सरकार करेगी एयरलिफ्ट

मैतेई समुदाय को जो धमकी दी गई है, जिसके कारण लोग पलायन करने पर मजबूर हो गए, उसे मिजोरम का गृह विभाग धमकी नहीं बल्कि सद्भावना में भेजा गया संदेश बता रहा।

मिजोरम से मैतेई समुदाय के लोग पलायन कर रहे हैं। उनकी दुकानों का बहिष्कार किया जा रहा है। ऐसा हुआ है मिजोरम के विद्रोही संगठन मिज़ो नेशनल फ्रंट की एक शाखा पीस एकॉर्ड एमएनएफ रिटर्नीज एसोसिएशन (PAMRA) से मिली धमकी के बाद। इसके बाद राज्य पुलिस ने मैतेई समुदाय के लिए सुरक्षा कड़ी कर दी है।

पीस एकॉर्ड एमएनएफ रिटर्नीज एसोसिएशन (PAMRA) ने शुक्रवार (21 जुलाई 2023) को एक बयान जारी करके मिज़ोरम में रह रहे मैतेई समुदाय के लोगों को धमकाया है। धमकी में मैतेई समुदाय से कहा गया, “अपनी सुरक्षा के लिए जितनी जल्दी हो सके मिजोरम छोड़ कर चले जाओ।”

मिजोरम सरकार ने हालाँकि इस धमकी को सलाह बताया है। इसके साथ ही मैतेई समुदाय के निवासियों से राज्य न छोड़ने की अपील की गई है। मिजोरम सरकार भले ही इस धमकी को सलाह बता रही लेकिन मणिपुर की सरकार पूरे मामले पर नजर रखे हुए है और जरूरत पड़ने पर प्रभावित मैतेई समुदाय के लोगों को एयरलिफ्ट करने का भरोसा दिया है।

मिजोरम की पुलिस ने इस धमकी के बाद चौकसी बढ़ा दी है। उत्तरी क्षेत्र के DIG ने मैतेई लोगों की सुरक्षा के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात करने के निर्देश दिए हैं। वहीं पुलिस के तमाम प्रयासों और भरोसा देने के बावजूद मैतेई लोगों ने मिजोरम छोड़ना शुरू कर दिया है।

एक अनुमान के मुताबिक अकेले मिजोरम की राजधानी आइज़ोल में सरकारी कर्मचारी, छात्र और मजदूर मिला कर लगभग 2000 मैतेई रहते हैं। इसमें पुरुष और महिलाएँ दोनों शामिल हैं। शनिवार (22 जुलाई) तक इसमें से कई लोग मणिपुर चले गए। दावा यह भी किया जा रहा है कि इस धमकी के बाद मिजोरम में मैतेई लोगों की दुकानों का भी बहिष्कार किया गया है।

मैतेई समुदाय को जो धमकी दी गई है, जिसके कारण लोग पलायन करने पर मजबूर हो गए, उसे मिजोरम का गृह विभाग धमकी नहीं बल्कि सद्भावना में भेजा गया संदेश बता रहा। मैतेई लोगों को पूरी तरह से सुरक्षित बताते हुए मिज़ोरम के गृह आयुक्त एच लालेंगमाविया ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में मिज़ो नेशनल फ्रंट की एक शाखा पीस एकॉर्ड एमएनएफ रिटर्नीज एसोसिएशन (PAMRA) से बात की है, जो अपने बयान का गलत अर्थ निकाले जाने की सफाई दे रहा है।

मिज़ोरम के गृह आयुक्त ने यह भी बताया कि PAMRA अपने इस बयान को वापस भी लेगा। मिज़ोरम सरकार ने अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की और ऑल मिजोरम-मणिपुर एसोशिएशन के लोगों की मीटिंग बुला कर मैतेई लोगों से राज्य न छोड़ने की अपील की है।

मणिपुर सरकार हालाँकि हालात पर नजर रखे हुए है। राज्य सरकार के प्रवक्ता सपम रंजन सिंह के मुताबिक शुरुआत में तनाव बढ़ा था लेकिन मिज़ोरम सरकार के प्रयासों से वह कम हुआ है। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि जरूरत पड़ा तो मणिपुर के लोगों को वहाँ से लाने के लिए विमान उपलब्ध करवाए जाएँगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गलत वीडियो डालने वाले अब नहीं बचेंगे: संसद के अगले सत्र में ‘डिजिटल इंडिया बिल’ ला सकती है मोदी सरकार, डीपफेक पर लगाम की...

नरेंद्र मोदी सरकार आगामी संसद सत्र में डीपफेक वीडियो और यूट्यूब कंटेंट को लेकर डिजिटल इंडिया बिल के नाम से पेश किया जाएगा।

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -