Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजबाथरूम में मोबाइल कैमरा से रिकॉर्डिंग, 6 महीने से चल रहा था काम: सॉफ्टवेयर...

बाथरूम में मोबाइल कैमरा से रिकॉर्डिंग, 6 महीने से चल रहा था काम: सॉफ्टवेयर से रिकवरी, कई महिलाओं के आपत्तिजनक वीडियो – चेन्नई में 2 गिरफ्तार

दोनों आरोपित बाथरूम के बाहरी हिस्से में अपने मोबाइल को फिट कर दिया करते थे। ये सुबह अपने मोबाइल को सेट किया करते थे और कुछ घंटों बाद उसे निकाल लेते थे। ऐसा 6 महीने से चल रहा था।

तमिलनाडु के चेन्नई में बाथरूम में कैमरा लगा कर नहाती महिलाओं का आपत्तिजनक वीडियो बनाने के आरोप में पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया है। दोनों ने महिला का वीडियो उनके बाथरूम में कैमरे लगा कर बनाया था। ये कैमरे बिल्डिंग के बाहर से सेट किए गए थे। दोनों आरोपितों के पास मिले कई वीडियो को पुलिस ने सीज कर लिया है। यह गिरफ्तारी मंगलवार (20 सितम्बर 2022) को हुई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दोनों आरोपित वेलचेली के रहने वाले हैं। दोनों दिहाड़ी मजदूर हैं। दोनों आरोपित वेलचेली क्षेत्र के नर्मदा स्ट्रीट पर घूम कर वहाँ रहने वाले लोगों के बाथरूम में कैमरे लगाने की फिराक में थे। स्थानीय निवासियों को दोनों की हरकतें संदिग्ध लगीं तो उनसे पूछताछ की। शुरू में दोनों आरोपितों ने लोगों को गुमराह करने की पूरी कोशिश की। इसके बाद लोगों ने दोनों के मोबाइल ले लिए।

बताया जा रहा है कि दोनों आरोपितों ने अपने मोबाइल को लोगों से छीन कर उसमें मौजूद वीडियो को डिलीट करने की कोशिश की। इस दौरान दोनों संदेहास्पद जवाब देते रहे, जिससे स्थानीय निवासियों का शक उन पर और गहरा होता चला गया। दोनों को पकड़ने वाले लोगों ने पाया कि कई वीडियो मोबाइल की गैलरी से डिलीट कर दी गई हैं। इसके बाद लोगों ने पुलिस बुलाई और दोनों आरोपितों को उनकी कस्टडी में दे दिया।

पुलिस ने जब उन दोनों के मोबाइल की सॉफ्टवेयर से उसकी रिकवरी की, तब उसमें बेहद आपत्तिजनक वीडियो पाए गए। बताया जा रहा है कि उन दोनों के मोबाइल में कई अलग-अलग जगहों के बाथरूम में बने वीडियो मौजूद थे।

पुलिस के मुताबिक दोनों आरोपित बाथरूम के बाहरी हिस्से में अपने मोबाइल को फिट कर दिया करते थे। पुलिस का ये भी मानना है कि जिस बाथरूम में वीडियो बनाए गए, वो कॉमन थे इसलिए उनकी इंट्री पर कोई शक नहीं करता था। जाँच अधिकारी का ये कहना है कि आरोपित सुबह अपने मोबाइल को सेट किया करते थे और कुछ घंटों बाद उसे निकाल लेते थे।

पूछताछ में पकड़े गए आरोपितों ने पुलिस को बताया कि वो अपने बनाए गए वीडियो को खुद देखते थे। हालाँकि पुलिस इस बात की भी जाँच कर रही है कि क्या दोनों ने वो वीडियो किसी और को भी फॉरवर्ड किया है।

पुलिस ने अब तक की जाँच में यह भी पाया है कि दोनों के खिलाफ किसी महिला द्वारा अभी तक शिकायत भी नहीं की गई है। दोनों ने बताया कि वो इस काम को पिछले 6 महीने से कर रहे हैं। फिलहाल दोनों को गिरफ्तार करके न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -