Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाज'अल फ़लाह' हॉस्टल के संचालक मोहम्मद इम्तियाज ने 10वीं के नाबालिग छात्र के साथ...

‘अल फ़लाह’ हॉस्टल के संचालक मोहम्मद इम्तियाज ने 10वीं के नाबालिग छात्र के साथ किया अप्राकृतिक दुष्कर्म, धक्का-मुक्की कर परिजनों को बाहर निकाला

पीड़ित छात्र की उम्र 14 साल बताई जा रही है। कहा जा रहा है कि अप्राकृतिक कुकर्म के चलते उसकी तबीयत खराब होने लगी थी।

बिहार में पूर्णिया जिले के एक निजी हॉस्टल में नाबालिग बच्चे के साथ अप्राकृतिक कुकर्म का मामला सामने आया है। हॉस्टल का नाम ‘अल-फलाह’ बताया जा रहा है। कुकर्म का आरोप हॉस्टल संचालक इम्तियाज पर लगा है। पीड़ित कक्षा 10 का छात्र है। घटना बुधवार (23 नवम्बर, 2022) की बताई जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला सहायक खजांची हाट थाना क्षेत्र की है। जिस हॉस्टल में यह घटना घटित हुई है वो लाइन बाजार के मेजर कॉलोनी में है। यहाँ पर अमौर थाना क्षेत्र के रहने वाले छात्र ने गुरुवार को अपने घर पहुँच कर अपनी आपबीती बताई। छात्र ने हॉस्टल के संचालक मुन्ना उर्फ़ मोहम्मद इम्तियाज पर अपने साथ जबरन कुकर्म का आरोप लगाया। छात्र का कहना है कि उसके साथ लगभग 3 दिनों तक कुकर्म हुआ है।

पीड़ित छात्र की उम्र 14 साल बताई जा रही है। कहा जा रहा है कि अप्राकृतिक कुकर्म के चलते उसकी तबीयत खराब होने लगी थी। पीड़ित छात्र द्वारा दी गई जानकारी पर उसके परिजन आरोपित इम्तियाज़ के पास पहुँचे। आरोप है कि यहाँ पर मुन्ना ने छात्र के घर वालों से झगड़ा किया और उनके साथ धक्का-मुक्की की। इसी दौरान इम्तियाज ने छात्र के घर वालों को हॉस्टल से बाहर भी निकाल दिया। पीड़ित छात्र के पिता का कहना है कि उन्होंने एक सप्ताह पहले ही अपने बेटे को हॉस्टल में रखा था। उन्होंने बताया कि वो अपने बेटे को उच्च शिक्षा देना चाहते थे।

परिजनों के शोरगुल से जब आस-पास के लोग जमा होने लगे तब इम्तियाज वहाँ से फरार हो गया। बताया जा रहा है कि फरार होने से पहले वो अपना मोबाइल और गाड़ी छोड़ कर गया है। इम्तियाज के फरार होने के बाद पीड़ित छात्र के घर वाले सीधे सहायक खजांचीहाट थाने पहुँचे। यहाँ उन्होंने आरोपित के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस ने हॉस्टल संचालक इम्तियाज़ के खिलाफ केस दायर कर के जाँच शुरू कर दी है। थाना प्रभारी सुनीता कुमारी के मुताबिक, आरोपित की तलाश की जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15 अगस्त को दिल्ली कूच का ऐलान, राशन लेकर पहुँचने लगे किसान: 3 कृषि कानूनों के बाद अब 3 आपराधिक कानूनों से दिक्कत, स्वतंत्रता...

15 सितंबर को जींद और 22 सितंबर को पीपली में किसानों की रैली प्रस्तावित है। किसानों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा 'टेनी' के बेटे आशीष को जमानत दिए जाने की भी निंदा की।

केंद्र सरकार ने 4 साल में राज्यों को की ₹1.73 लाख करोड़ की मदद, फंड ना मिलने पर धरना देने वाली ममता सरकार को...

वित्त मंत्रालय ने बताया है कि केंद्र सरकार 2020-21 से लेकर 2023-24 तक राज्यों को ₹1.73 लाख करोड़ विशेष मदद योजना के तहत दे चुकी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -