Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाज'रेप करने दो... वरना पत्थर से कुचल दूँगा' - 18 साल की बेटी और...

‘रेप करने दो… वरना पत्थर से कुचल दूँगा’ – 18 साल की बेटी और 35 साल की माँ का दिल्ली में बलात्कार, वीडियो भी वायरल

वीडियो में टोपी पहने 20 साल का एक लड़का हाथ में पत्थर लेकर महिला को धमका रहा है कि वो उसकी बेटी का सिर कुचल देगा। धमकी के बाद माँ-बेटी के साथ 2 युवकों ने रेप किया।

ठंड के मौसम में दिल्ली से फिर शर्मसार करने वाली खबर आई है। जिस महिला के पास रहने को घर तक नहीं थे, जो सड़क पर रह कर और कूड़े जमा कर के अपना जीवन-यापन कर रही थी – दरिंदो ने उसे और उसकी बेटी को भी नहीं छोड़ा। नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली के भारत नगर में आरोपितों ने बेटी को पत्थर से कुचलने की धमकी देकर बेघर माँ-बेटी के साथ रेप किया। इस घटना का वीडियो किसी ने बना लिया, जो सोशल मीडिया पर भी चलने लगा।

इसके बाद पुलिस ने भी छानबीन शुरू कर दी। अचानक इस तरह से घटना के सामने आने के कारण पुलिस भी हैरान है। उसने पीड़िता, वीडियो बनाने वाले युवक और आरोपितों को खोज लिया है। हालाँकि, पुलिस का कहना है कि वो युवक आरोपितों में शामिल नहीं है और उसने छत से ये वीडियो बनाया। वीडियो में टोपी पहने 20 साल का एक लड़का हाथ में पत्थर लेकर महिला को धमका रहा है कि वो उसकी बेटी का सिर कुचल देगा।

पीड़ित महिला का पति के साथ झगड़ा चल रहा था, जिस कारण वो बेघर हो गई थी। उसका पति उसे छोड़ कर गाँव भाग गया था। ऐसे में महिला और उसकी बेटी के पास किराए के लिए रुपए नहीं थे। वो दोनों ही सड़क पर रहने लगीं। वो सड़क पर सोतीं और दिन में कूड़ा बीनतीं। लेकिन, एक रात 2 बजे दो नशेड़ी युवकों की बुरी नजर उन पर पड़ी और उन्होंने डरा-धमका कर रेप की इस घटना को अंजाम दिया।

पुलिस ने दोनों आरोपितों को भी गिरफ्तार कर लिया है और उनसे पूछताछ जारी है। गिरफ्तार आरोपितों में एक जहाँगीरपुरी का सोनू (22) है और एक जेजे कॉलोनी का उसका साथी अमित (24) है। महिला की उम्र करीब 35 साल है, जबकि उसकी बेटी 18 साल की है। वीडियो बनाने वाले युवक ने बताया कि उसने अपने एक सामाजिक कार्यकर्ता दोस्त को ये वीडियो दिया था, जिसने आरोपितों को पकड़वाने के लिए इसे वायरल किया। उसने बताया कि वो डरते-डरते वीडियो बना रहा था।

पुलिस ने IPC के तहत मामला दर्ज कर लिया है। माँ-बेटी की मेडिकल जाँच के लिए अस्पताल भेजा गया है, ताकि रेप की पुष्टि हो सके। ये घटना शुक्रवार (दिसंबर 29, 2020) की रात की बताई जा रही है, जो अब जाकर संज्ञान में आई है। जब यह घटना हुई, तब माँ-बेटी सड़क पर ही सो रही थी। पीड़िता ने आरोपितों की शिनाख्त भी कर ली है। डीसीपी विजयंता गोयल आर्य ने बताया कि आरोपितों की गिरफ़्तारी के लिए कई टीमें बनाई गई थीं, जिन्होंने CCTV फुटेज और लोकल इंटेलिजेंस के आधार पर आरोपितों को धर-दबोचा।

दिसंबर 2020 में ही दिल्ली के ही सरिता विहार इलाके से एक हिंदू लड़की के यौन शोषण की घटना सामने आई थी। पीड़िता का आरोप था कि साहिब अली नाम के 20 वर्षीय लड़के ने पहचान छिपा कर उस पर शादी का दबाव बनाया और बाद में उसका रेप किया। इस बाबत उसने सरिता विहार थाने में अपनी शिकायत दर्ज करवाई थी। शिकायत में पीड़िता ने साकिब के घरवालों पर भी गंभीर इल्जाम लगाए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe