Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजओडिशा: मरकज़ से लौटे शख्स ने 50 लोगों को इकट्ठा कर अधिकारियों पर किया...

ओडिशा: मरकज़ से लौटे शख्स ने 50 लोगों को इकट्ठा कर अधिकारियों पर किया हमला, बनाया बंधक

"जब अधिकारियों ने पीछा किया तो तीनों ने भीड़ एकत्र कर उन पर हमला कर दिया और उन्हें बंधक बना लिया। भीड़ में तकरीबन 50 लोग थे। बाद में पुलिस ने मौके पर पहुँचकर अधिकारियों को बचाया। आरोपितों में से एक ने मार्च में मरकज में आयोजित तबलीगी जमात के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था।"

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज से लौटे एक व्यक्ति ने शनिवार (अप्रैल 18, 2020) को अपने दो साथियों और कुछ ग्रामीणों के साथ मिलकर ओडिशा के जाजपुर जिले के एक गाँव में राज्य सरकार के दो अधिकारियों पर हमला कर दिया और उन्हें बंधक बना लिया। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। बाद में तीनों को हिरासत में लेकर क्वारंटाइन के लिए भेज दिया गया।

घटना कुआखिया पुलिस थाने के अंतर्गत आने वाले गोपीनाथपुर गाँव में उस समय हुई, जब जिला अधिकारी रंजन कुमार दास अन्य अधिकारियों के साथ लॉकडाउन के दिशा-निर्देशों के पालन का जायजा लेने और यह सुनिश्चित करने पहुँचे थे कि लोगों ने मास्क पहना है या नहीं। 

जिलाधिकारी ने कहा, “जब बीडीओ और तहसीलदार गलियों में लोगों की जाँच-पड़ताल कर रहे थे, उसी समय मोटरसाइकिल पर सवार बिना मास्क पहने तीन लोग नहीं रूके और गोपीनाथपुर गाँव की ओर भाग निकले।”

50 लोगों को इकट्ठा कर बनाया बंधक

पुलिस ने कहा कि जब दोनों अधिकारियों ने उनका पीछा किया तो तीनों ने भीड़ एकत्र कर उन पर हमला कर दिया और उन्हें बंधक बना लिया। भीड़ में तकरीबन 50 लोग थे। बाद में पुलिस ने मौके पर पहुँचकर अधिकारियों को बचाया। रंजन दास ने कहा कि बाद में जाँच में सामने आया कि इनमें से एक आरोपित ने मार्च में दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में आयोजित तबलीगी जमात के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। 

जिलाधिकारी का कहना है कि बाइक सवार तीनों ने सोचा होगा कि उनके निजामुद्दीन लिंक के कारण अधिकारी उन्हें रोकने की कोशिश कर रहे हैं, इसलिए वह फरार हो गए और फिर ग्रामीणों को इकट्ठा कर बंधक बना लिया।

पुलिस ने बताया कि फिलहाल निजामुद्दीन से लौटे शख्स और उसके दोनों सहयोगियों को हिरासत में लेकर क्वारंटाइन कर दिया गया है। सैंपल परीक्षण के बाद उनके संपर्क में आए लोगों का पता लगाया जाएगा। 

घटना के बाद गाँव में तनाव का माहौल उत्पन्न हो गया था। जाजपुर के एसपी चरण सिंह मीणा ने गाँव में फ्लैग मार्च किया। इस बीच पुलिस ने राज्य में पिछले 24 घंटों में लॉकडाउन दिशा-निर्देशों और अन्य मानदंडों का उल्लंघन करने के आरोप में 67 लोगों को गिरफ्तार किया है।

बता दें कि राजधानी दिल्ली में पिछले महीने तबलीगी जमात के मजहबी कार्यक्रम में भाग लेने वालों में से कई लोगों को बाद में कोरोना पॉजिटिव पाया गया। राज्य के 61 कोरोना वायरस मामलों में से कम से कम 6 का निजामुद्दीन की घटना से ताल्लुक है।

एक अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की एक अपील के बाद राज्य के 42 लोग, जो निज़ामुद्दीन कार्यक्रम में शामिल हुए थे, स्वेच्छा से कोरोना वायरस परीक्षण के लिए आगे आए। लेकिन शनिवार को हिरासत में लिया गया व्यक्ति उनमें शामिल नहीं था।

गौरतलब है कि कश्मीर के बडगाम जिले के वाथुरा गाँव के शेखपुरा इलाके में कोरोना संदिग्ध की जाँच करने पहुँची एक मेडिकल टीम को भीड़ ने बंधक बना लिया था और फिर छुड़ाने पहुँची पुलिस पर भी पथराव किया गया था। हैदराबाद के गॉंधी हॉस्पिटल में जमातियों ने डॉक्टर पर हमला बोल दिया था, जिसके बाद वहाँ पर पुलिस को तैनात किया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक शक्तिपीठ जहाँ गर्भगृह में नहीं है प्रतिमा, जहाँ हुआ श्रीकृष्ण का मुंडन संस्कार: गुजरात का अंबाजी मंदिर

गुजरात के बनासकांठा जिले में राजस्थान की सीमा पर अरासुर पर्वत पर स्थित है शक्तिपीठों में से एक श्री अरासुरी अंबाजी मंदिर।

5 या अधिक हुए बच्चे तो हर महीने पैसा, शिक्षा-इलाज फ्री: जनसंख्या बढ़ाने के लिए केरल के चर्च का फैसला

केरल के चर्च के फैसले के अनुसार, 2000 के बाद शादी करने वाले जिन भी जोड़ों के 5 या उससे अधिक बच्चे हैं, उन्हें प्रत्येक माह 1500 रुपए की मदद दी जाएगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,576FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe