Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजकालाराम मंदिर में की सफाई, देश को सौंपा अटल सेतु: नासिक से मुंबई तक...

कालाराम मंदिर में की सफाई, देश को सौंपा अटल सेतु: नासिक से मुंबई तक PM मोदी ने सेवा, स्वच्छता और विकास की लिखी नई गाथा

पीएम मोदी ने मुंबई में जिस अटल बिहारी वाजपेयी सेवारी-न्हावा शेवा अटल सेतु का उद्घाटन किया, उसे पहले मुंबई ट्रांसहार्बर लिंक (एमटीएचएल) का नाम दिया गया था। करीब 17,840 करोड़ रुपए की लागत से बना अटल सेतु भारत का सबसे लंबा पुल है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (12 जनवरी 2024) को मुंबई में अटल सेतु का उद्घाटन किया। लगभग 17 हजार करोड़ रुपए की बने इस का शिलान्यास पीएम मोदी ने साल 2016 में किया था। इस पुल के शुरू हो जाने से मुंबई और नवी मुंबई के बीच की दूरी घटकर महज 20 मिनट की रह गई है। उद्धाटन के समय पीएम के साथ महाराष्ट्र के राज्यपाल रमेश बैंस, मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और उपमुख्यमंत्री अजित पवार भी मौजूद रहे।

2 घंटे की दूरी महज 20 मिनट में पूरी

पीएम मोदी ने मुंबई में जिस अटल बिहारी वाजपेयी शिवड़ी-न्हावा शेवा अटल सेतु का उद्घाटन किया है, उसे पहले मुंबई ट्रांसहार्बर लिंक (एमटीएचएल) का नाम दिया गया था। करीब 17,840 करोड़ रुपए की लागत से बना अटल सेतु भारत का सबसे लंबा पुल है। अभी तक दक्षिणी मुंबई से नवी मुंबई पहुँचने में 1.30 घंटे से 2 घंटे तक का समय लगता था, लेकिन इस पुल से यह दूरी 20 मिनट में हो जाएगी। इस पुल से औसतन 70 हजार वाहन हर दिन गुजरेंगे।

अटल सेतु से जुड़ी खास बातें…

अटल सेतु की लंबाई लगभग 21.8 किलोमीटर है। 6 लेन वाला यह समुद्री पुल 16.5 किलोमीटर समुद्र में और लगभग 5.5 किलोमीटर जमीन पर बना है। यह भारत का ना सिर्फ सबसे लंबा पुल है, बल्कि सबसे लंबा समुद्री पुल भी है। यह पुल मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे और नवी मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को जोड़ेगा। इससे मुंबई से पुणे, गोवा और दक्षिण भारत की यात्रा में लगने वाला समय भी बचेगा।

इससे मुंबई बंदरगाह और जवाहरलाल नेहरू बंदरगाह के बीच कनेक्टिविटी भी बेहतर बनेगा। अटल पुल पर वाहनों की अधिकतम गति सीमा 100 किलोमीटर प्रति घंटे तय की गई है। इस पर बाइक, ऑटो रिक्शा और ट्रैक्टरों को पुल से गुजरने की अनुमति नहीं होगी। पुल पर ध्वनि प्रदूषण को रोकने के लिए 8.5 किमी लंबा नॉइज बैरियर लगा है। साल 2018 से 5403 मजदूरों और इंजीनियरों ने इसमें काम किया है।

नवी मुंबई में 12,700 करोड़ की परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुंबई में अटल सेतु का उद्घाटन करने के बाद नवी मुंबई पहुँचे। यहाँ प्रधानमंत्री मोदी ने 12,700 करोड़ रुपए से अधिक की कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इस दौरान उन्होंने ईस्टर्न फ्री-वे के ऑरेंज गेट को मरीन ड्राइव से जोड़ने वाली भूमिगत सड़क सुरंग की आधारशिला भी रखी।

प्रधानमंत्री रत्न और आभूषण क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए एसईईपीजेड एसईजेड में ‘भारत रत्नम’ और न्यू एंटरप्राइजेज एंड सर्विसेज टॉवर (एनईएसटी) 01 का भी उद्घाटन हुआ। इस दौरान पीएम मोदी ने रेल और पेयजल से संबंधित कई परियोजनाएँ राष्ट्र को समर्पित की। यही नहीं, पीएम मोदी ने महिला सशक्तिकरण की दिशा के एक प्रयास में ‘नमो महिला सशक्तिकरण’ अभियान भी शुरू किया।

इससे पहले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल यूथ फेस्टिवल का भी उद्घाटन किया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा, “आज भारत दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में चमक रहा है और दुनिया के शीर्ष-3 स्टार्टअप इकोसिस्टम में से एक है। आज भारत नवाचार की शक्ति और वैश्विक विनिर्माण केंद्र के रूप में चमक रहा है। इन उपलब्धियों के पीछे हमारी युवा शक्ति है, हमारे युवाओं की क्षमताएँ हैं।”

बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी शुक्रवार (12 जनवरी 2024) को महाराष्ट्र के दौरे पर हैं। उन्होंने नासिक में भगवान राम को समर्पित कालाराम मंदिर में जाकर पूजा अर्चना भी की। उन्होंने मंदिर की सफाई भी की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वो अयोध्या में रामलला के मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा से पहले 11 दिनों तक व्रत रखेंगे और नियमों का पालन करेंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -