Thursday, October 1, 2020
Home देश-समाज 'हथिनी ने गलती से विस्फोटक खा लिया' - शुरुआती जाँच का यह एंगल खतरनाक...

‘हथिनी ने गलती से विस्फोटक खा लिया’ – शुरुआती जाँच का यह एंगल खतरनाक और बहुत ही असंवेदनशील

'हाथी ने गलती से फल खा लिया होगा'; 'हाथी को नहीं बताया गया था कि उसे खाने से पहले फल की गुणवत्ता की जाँच कर लेनी चाहिए थी' या फिर 'निर्देश पुस्तिका को पढ़ना चाहिए था'। - ऐसे तर्क या स्पष्टीकरण किसी तरह से एक संवेदनशील इंसान को आश्वस्त नहीं कर सकते हैं।

केरल के पलक्कड़ से कुछ दिन पहले एक गर्भवती हथिनी की मौत का मामला सामने आया था। जहाँ उसने विस्फोटक से भरा अनानास खा लिया था। उसके मौत की खबर सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद देश भर में इसको लेकर बवाल मच गया था।

इस फ़ोटो में आप देख सकते हैं कि किस तरह मुँह में विस्फोटक के फटने की वजह से असहनीय दर्द को बर्दाश्त करते हुए पल-पल मरती हुई हथिनी शांतिपूर्वक पानी में खड़ी है। इस दृश्य को देखकर क्या कहा जा सकता है? क्या हथिनी को जानबूझकर टॉर्चर करने के लिए ये किया गया या फिर इन सब के पीछे कोई और मकसद था?

इस मामले में नकदी फसलों और मसालों की खेती करने वाले एक इस्टेट के कर्मचारी पी विल्सन को गिरफ्तार किया गया है। वहीं दो अन्य संदिग्ध अपराधी इस्टेट के मालिक अब्दुल करीम और उसका बेटा रियासुद्दीन फिलहाल फरार हैं। पी विल्सन इन्हीं के यहाँ काम करता था।

कथित तौर पर जाँच अधिकारियों के पूछे जाने पर आरोपित ने कहा कि उन्होंने जंगली सूअरों को डराने के लिए पटाखे से भरे फलों का एक जाल बनाया था, जो अक्सर उनके खेतों को नष्ट कर देते हैं। जाहिर तौर पर, खेतों में घुसने और फसलों को नष्ट करने वाले जंगली सूअरों को “डराने” के लिए केरल में फलों के अंदर विस्फोटक या विस्फोटक पदार्थों का इस्तेमाल करना उनके लिए आम बात है।

हालाँकि, आरोपित द्वारा अपने बचाव में कही गई बात सुनने में ही थोड़ी अजीब है, क्योंकि एक जंगली सूअर या किसी भी जानवर को फलों में विस्फोटक लगाकर डराने का कोई तुक ही नहीं बनता है। इसका उद्देश्य स्पष्ट रूप से जानवर को किसी तरह फल खिलाना है, जिसका परिणाम बहुत ही घातक होगा, जैसा कि हाथी के मामले में हुआ।

सरकार, राज्य और केंद्र सरकार द्वारा जारी स्पष्टीकरण किसी तरह से एक संवेदनशील इंसान को आश्वस्त नहीं कर सकता है। यह स्पष्टीकरण प्रकाश जावड़ेकर की अध्यक्षता में पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जारी किया गया है। संभवत: पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जारी किया गया यह बयान केरल सरकार द्वारा की जा रही जाँच के आधार पर है।

पर्यावरण मंत्रालय ने अपने बयान में पहले इस बात को स्वीकार किया था कि जंगली सूअर, जो पेड़ो को नुकसान पहुँचाते हैं, उन्हें फँसाने के लिए विस्फोटक से भरे फल लगाना ‘गैरकानूनी’ है। हालाँकि, इस बात पर भी जोर दिया कि हाथी ने ‘गलती से फल खा लिया होगा’।

एक तरह से यह कह देना कि ‘हाथी ने गलती से फल खा लिया होगा’; ‘हाथी को नहीं बताया गया था कि उसे खाने से पहले फल की गुणवत्ता की जाँच कर लेनी चाहिए थी’ या फिर ‘निर्देश पुस्तिका को पढ़ना चाहिए था’। हालाँकि यहाँ सवाल बहुत बड़ा है कि ऐसे बयान जारी करते वक़्त पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जरूरी बातों को कैसे नजरअंदाज किया जा सकता है।

न्यूज़ 18 की एक रिपोर्ट के अनुसार हाथी को आखिरी बार खेत में देखा गया था और जो आरोपित है, वह भी उसी खेत में काम करता था। दो अपराधी, जो इस वक़्त फरार है, वो उस खेत के मालिक हैं। इससे यह साबित होता है कि जंगली सूअरों को प्रताड़ित करने और उन्हें खेतों से दूर भगाने के लिए फलों में भरे हुए विस्फोटक का उपयोग करने का तरीका केरल में लंबे समय से स्थापित गैरकानूनी तरीका है।

अगर जंगली सूअरों की हत्या करने के लिए पहले से ही खेत में फलों से भरे विस्फोटक लगाए गए थे और चूँकि हाथी खेत में था, तो उसने वहाँ लगाए गए बहुत से विस्फोटक भरे फलों का सेवन किया होगा।

गौरतलब है चूँकि विस्फोटक में किसी भी प्रकार का मशीन नहीं लगा था कि यह केवल जंगली सूअर के खाने पर ही विस्फोट होगा, तो फिर इसका सेवन कोई भी दूसरा जानवर कर सकता था जिससे उसके मुँह में यह विस्फोटक फट जाता। और यही उस वक़्त गर्भवती हथिनी के साथ भी हुआ।

इस प्रकार यह कहना कि हथिनी ने गलती से जंगली सुअरों के लिए बनाया गया विस्फोटक खा लिया, तर्कसंगत नहीं है। इस तरह की बातें सिर्फ़ हमसे कुछ जंगली धारणाएँ बनाने के लिए गढ़ी या कही जाती है।

पहली बात, खेत के मालिक और वहाँ काम करने वाले ने क्या वहाँ से हथिनी के खाने के बाद विस्फोटक को हटा दिया होगा? जैसे हाथी के साथ ये हुआ, वैसे ही अगर खेत में सुअर होता तब भी श्रमिकों और मालिकों द्वारा केवल उनकी खेती को रौंदने की संभवना को लेकर उस जानवर की जिंदगी को बर्बाद करने का मकसद था?

इसलिए हाथी द्वारा गलती से विस्फोटक का सेवन करने जैसा तर्क किसी भी तरह उन लोगों का बचाव नहीं करता है। विस्फोटक खेत में आने वाले किसी भी जानवर के लिए था और उस वक़्त गर्भवती हाथी की किस्मत उसके साथ नहीं था। मीडिया में यह मामला फैलने के बाद लोगों हुए आक्रोश के कारण इसे केवल प्रसिद्धि मिली है।

जिस बयान में यह कहा गया कि हथिनी ने गलती से विस्फोटक खा लिया था, उसका अनिवार्य रूप से मतलब है कि उसे जानबूझकर खिलाने वाली अफवाह या खबर दरअसल झूठी है।

हथिनी को टारगेट करके विस्फोटक नहीं खिलाया गया था, उसे कोई और भी खा सकता था। किसी ने भी उसे जबरदस्ती विस्फोटक नहीं खिलाया है, इस मामले में जानबूझकर कर खिलाने वाला कहने का मतलब बिल्कुल अलग है।

केरल में खेत के मालिकों द्वारा क्रूर तरीके से गर्भवती हथिनी के विस्फोटक खाने की वजह से हुए मौत को लेकर देश भर में लोग आक्रोशित हैं। हालाँकि पर्यावरण मंत्रालय स्वीकार कर रहा है कि यह तरीका गैरकानूनी है, लेकिन इस बात पर भी अधिक जोर नहीं दिया गया कि हथिनी द्वारा गलती से विस्फोटक का सेवन कैसे किया गया।

इसमें यह भी कहा गया कि इन क्रूर तरीकों को लागू करने वालों को किसी भी तरह से छूट नहीं देनी चाहिए लेकिन कानूनी सीमा के अंतर्गत ही इन्हें सजा दी जाएगी।

यह कहना कि हथिनी ने गलती से विस्फोटक खा लिया, जो किसी दूसरे जानवर के लिए बना था। यह बात इस ओर संकेत करती है कि इस तरह की क्रूर घटना वन जीवन को हानिकारक रूप में प्रभावित करेगी। इस तरह की क्रूर प्रथा को न ही राज्य सरकार और न ही पर्यावरण मंत्रालय को सामान्य रूप से देखा जाना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Editorial Deskhttp://www.opindia.com
Editorial team of OpIndia.com

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बलरामपुर: दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार, लड़की की मौत, शाहिद और साहिल गिरफ्तार

अनुसूचित जाति की एक युवती के साथ शाहिद और साहिल द्वारा सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आई है। युवती की अस्पताल में मौत हो गई।

हाथरस केस में पुलिस पर सवाल उठना लाजमी: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras Case

भयावहता को दर्शाने के लिए जीभ काटने, रीढ़ की हड्डी तोड़ने, आँख फोड़ने की बात कही गई। ये भी कहा गया कि आरोपित सवर्ण है, इसलिए पुलिस छेड़छाड़ का मामला बताकर रफा-दफा करने की कोशिश कर रही है।

इलाज के लिए अमित शाह के न्यूयॉर्क जाने, उनके बीमार होने के वायरल दावों की क्या है सच्चाई, पढ़ें पूरी डिटेल

सोशल मीडिया पर गृह मंत्री अमित शाह को इलाज के लिए न्यूयॉर्क शिफ्ट करने की बात पूरी तरह से गलत है। इसके इतर, उनका स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है। उन्होंने आज मंत्रालय और पार्टी दोनों ही कामों में हिस्सा लिया है।

CM योगी ने की हाथरस पीड़िता के परिजनों से बात, परिवार को 25 लाख की आर्थिक मदद, मकान और सरकारी नौकरी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजनों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की। बुधवार शाम को हुई बातचीत में सीएम योगी ने न्याय का भरोसा दिलाया। मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवार को ढाँढस बँधाया।

लड़कियों को भी चाहिए सेक्स, फिर ‘काटजू’ की जगह हर बार ‘कमला’ का ही क्यों होता है रेप?

बलात्कार आरोपित कटघरे में खड़ा और लोग तरस खा रहे... सबके मन में बस यही चल रहा है कि काश इसके पास नौकरी होती तो यह आराम से सेक्स कर पाता!

मस्जिद शहीद हुई कॉन्ग्रेस की मौजूदगी में, इसकी जड़ कॉन्ग्रेस पार्टी: बाबरी मस्जिद पर कोर्ट के फैसले से ओवैसी नाखुश

''सीबीआई कोर्ट का आज का फैसला भारत की अदालत की तारीख का काला दिन है, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने जो 9 नवंबर को जो फैसला दिया था, वो..."

प्रचलित ख़बरें

ईशनिंदा में अखिलेश पांडे को 15 साल की सजा, कुरान की ‘झूठी कसम’ खाकर 2 भारतीय मजदूरों ने फँसाया

UAE के कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध माना जा सकता है। इसी आधार पर...

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

पिता-दादाजी ने किया हाथरस मामले की पीड़िता का अंतिम संस्कार, पुलिस भी रही मौजूद

दावा किया जा रहा था कि गाँव में हाथरस के अधिकारियों ने बलपूर्वक परिजनों को पीड़िता का अंतिम संस्कार करने के लिए दबाव बनाया।

अजमेर में टीपू सुल्तान ने अपने 2 दोस्तों के साथ दलित युवती के मुँह में कपड़ा ठूँसकर किया सामूहिक दुष्कर्म, 8 घंटे तक दी...

राजस्थान के अजमेर में एक युवती के साथ सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आई है। आरोपित टीपू सुल्तान पर अपने दो साथियों के साथ इस घटना को अंजाम देने का आरोप है।

बलरामपुर: दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार, लड़की की मौत, शाहिद और साहिल गिरफ्तार

अनुसूचित जाति की एक युवती के साथ शाहिद और साहिल द्वारा सामूहिक बलात्कार की घटना सामने आई है। युवती की अस्पताल में मौत हो गई।

#RebuildBabri: सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए मुस्लिमों को बरगलाने की कोशिश, पोस्टर के जरिए बाबरी ढाँचे के पुनर्निर्माण का आह्वान

अदालत ने बुधवार को बाबरी विध्वंस मामले में सभी 32 आरोपितों को बरी कर दिया। वहीं इस फैसले से बौखलाए मुस्लिमों ने सोशल मीडिया पर लोगों से बाबरी ढाँचे के पुनर्निर्माण का आह्वान किया है।
00:48:35

हाथरस केस में पुलिस पर सवाल उठना लाजमी: अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras Case

भयावहता को दर्शाने के लिए जीभ काटने, रीढ़ की हड्डी तोड़ने, आँख फोड़ने की बात कही गई। ये भी कहा गया कि आरोपित सवर्ण है, इसलिए पुलिस छेड़छाड़ का मामला बताकर रफा-दफा करने की कोशिश कर रही है।

इलाज के लिए अमित शाह के न्यूयॉर्क जाने, उनके बीमार होने के वायरल दावों की क्या है सच्चाई, पढ़ें पूरी डिटेल

सोशल मीडिया पर गृह मंत्री अमित शाह को इलाज के लिए न्यूयॉर्क शिफ्ट करने की बात पूरी तरह से गलत है। इसके इतर, उनका स्वास्थ्य बिल्कुल ठीक है। उन्होंने आज मंत्रालय और पार्टी दोनों ही कामों में हिस्सा लिया है।

कॉन्ग्रेस के दबाव में झुकी उद्धव सरकार: महाराष्ट्र में नया कृषि कानून लागू करने का आदेश लिया वापस

कॉन्ग्रेस की तरफ से कैबिनेट बैठक के बहिष्कार की धमकी के बाद महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने बुधवार को नए कृषि कानून लागू करने का अगस्त महीने में दिया अपना आदेश वापस ले लिया है।

अतीक अहमद के करीबी राशिद, कम्मो और जाबिर के आलीशान बंगलों पर चला योगी सरकार का बुलडोजर, करोड़ो की संपत्ति खाक

प्रशासन ने अब अतीक गैंग के खास रहे तीन गुर्गों राशिद, कम्मो और जाबिर के अवैध आलीशान मकानों को जमींदोज कर दिया। यह सभी मकान प्रयागराज के बेली इलाके में स्थित थे।

अनलॉक-5.0 में खोल दिए गए सिनेमाघर, मल्टीप्लेक्स: स्कूल और कोचिंग सेंटर को लेकर भी दी गई विशेष जानकारी

स्कूल और कोचिंग संस्थानों को खोलने के लिए राज्य सरकारों को 15 अक्टूबर के बाद फैसला लेने की इजाजत होगी। लेकिन, इसके लिए परिवार की मंजूरी अनिवार्य होगी।

आंध्र प्रदेश: पठान सलार खान ने 15 सालों में 80 से भी ज्यादा मंदिरों की दानपेटियों से चुराए रुपए, गिरफ्तार

जाँच के दौरान 50 वर्षीय पठान सलार नाम के एक युवक को गिरफ्तार किया। जिसके बाद पुलिस की जाँच पड़ताल में उसने चोरी की सारी वारदातों को कबूल किया।

राजस्थान में दो नाबालिग लड़कियों को अगवाकर, तीन दिनों तक किया गया सामूहिक बलात्कार, केस दर्ज

अपहरण के बाद आरोपित दोनों लड़कियों को कोटा, जयपुर और अजमेर ले गए । कथिततौर पर तीन दिनों तक उनके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया।

हमसे जुड़ें

267,758FansLike
78,083FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe