Saturday, March 6, 2021
Home देश-समाज 'हथिनी ने गलती से विस्फोटक खा लिया' - शुरुआती जाँच का यह एंगल खतरनाक...

‘हथिनी ने गलती से विस्फोटक खा लिया’ – शुरुआती जाँच का यह एंगल खतरनाक और बहुत ही असंवेदनशील

'हाथी ने गलती से फल खा लिया होगा'; 'हाथी को नहीं बताया गया था कि उसे खाने से पहले फल की गुणवत्ता की जाँच कर लेनी चाहिए थी' या फिर 'निर्देश पुस्तिका को पढ़ना चाहिए था'। - ऐसे तर्क या स्पष्टीकरण किसी तरह से एक संवेदनशील इंसान को आश्वस्त नहीं कर सकते हैं।

केरल के पलक्कड़ से कुछ दिन पहले एक गर्भवती हथिनी की मौत का मामला सामने आया था। जहाँ उसने विस्फोटक से भरा अनानास खा लिया था। उसके मौत की खबर सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद देश भर में इसको लेकर बवाल मच गया था।

इस फ़ोटो में आप देख सकते हैं कि किस तरह मुँह में विस्फोटक के फटने की वजह से असहनीय दर्द को बर्दाश्त करते हुए पल-पल मरती हुई हथिनी शांतिपूर्वक पानी में खड़ी है। इस दृश्य को देखकर क्या कहा जा सकता है? क्या हथिनी को जानबूझकर टॉर्चर करने के लिए ये किया गया या फिर इन सब के पीछे कोई और मकसद था?

इस मामले में नकदी फसलों और मसालों की खेती करने वाले एक इस्टेट के कर्मचारी पी विल्सन को गिरफ्तार किया गया है। वहीं दो अन्य संदिग्ध अपराधी इस्टेट के मालिक अब्दुल करीम और उसका बेटा रियासुद्दीन फिलहाल फरार हैं। पी विल्सन इन्हीं के यहाँ काम करता था।

कथित तौर पर जाँच अधिकारियों के पूछे जाने पर आरोपित ने कहा कि उन्होंने जंगली सूअरों को डराने के लिए पटाखे से भरे फलों का एक जाल बनाया था, जो अक्सर उनके खेतों को नष्ट कर देते हैं। जाहिर तौर पर, खेतों में घुसने और फसलों को नष्ट करने वाले जंगली सूअरों को “डराने” के लिए केरल में फलों के अंदर विस्फोटक या विस्फोटक पदार्थों का इस्तेमाल करना उनके लिए आम बात है।

हालाँकि, आरोपित द्वारा अपने बचाव में कही गई बात सुनने में ही थोड़ी अजीब है, क्योंकि एक जंगली सूअर या किसी भी जानवर को फलों में विस्फोटक लगाकर डराने का कोई तुक ही नहीं बनता है। इसका उद्देश्य स्पष्ट रूप से जानवर को किसी तरह फल खिलाना है, जिसका परिणाम बहुत ही घातक होगा, जैसा कि हाथी के मामले में हुआ।

सरकार, राज्य और केंद्र सरकार द्वारा जारी स्पष्टीकरण किसी तरह से एक संवेदनशील इंसान को आश्वस्त नहीं कर सकता है। यह स्पष्टीकरण प्रकाश जावड़ेकर की अध्यक्षता में पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जारी किया गया है। संभवत: पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जारी किया गया यह बयान केरल सरकार द्वारा की जा रही जाँच के आधार पर है।

पर्यावरण मंत्रालय ने अपने बयान में पहले इस बात को स्वीकार किया था कि जंगली सूअर, जो पेड़ो को नुकसान पहुँचाते हैं, उन्हें फँसाने के लिए विस्फोटक से भरे फल लगाना ‘गैरकानूनी’ है। हालाँकि, इस बात पर भी जोर दिया कि हाथी ने ‘गलती से फल खा लिया होगा’।

एक तरह से यह कह देना कि ‘हाथी ने गलती से फल खा लिया होगा’; ‘हाथी को नहीं बताया गया था कि उसे खाने से पहले फल की गुणवत्ता की जाँच कर लेनी चाहिए थी’ या फिर ‘निर्देश पुस्तिका को पढ़ना चाहिए था’। हालाँकि यहाँ सवाल बहुत बड़ा है कि ऐसे बयान जारी करते वक़्त पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जरूरी बातों को कैसे नजरअंदाज किया जा सकता है।

न्यूज़ 18 की एक रिपोर्ट के अनुसार हाथी को आखिरी बार खेत में देखा गया था और जो आरोपित है, वह भी उसी खेत में काम करता था। दो अपराधी, जो इस वक़्त फरार है, वो उस खेत के मालिक हैं। इससे यह साबित होता है कि जंगली सूअरों को प्रताड़ित करने और उन्हें खेतों से दूर भगाने के लिए फलों में भरे हुए विस्फोटक का उपयोग करने का तरीका केरल में लंबे समय से स्थापित गैरकानूनी तरीका है।

अगर जंगली सूअरों की हत्या करने के लिए पहले से ही खेत में फलों से भरे विस्फोटक लगाए गए थे और चूँकि हाथी खेत में था, तो उसने वहाँ लगाए गए बहुत से विस्फोटक भरे फलों का सेवन किया होगा।

गौरतलब है चूँकि विस्फोटक में किसी भी प्रकार का मशीन नहीं लगा था कि यह केवल जंगली सूअर के खाने पर ही विस्फोट होगा, तो फिर इसका सेवन कोई भी दूसरा जानवर कर सकता था जिससे उसके मुँह में यह विस्फोटक फट जाता। और यही उस वक़्त गर्भवती हथिनी के साथ भी हुआ।

इस प्रकार यह कहना कि हथिनी ने गलती से जंगली सुअरों के लिए बनाया गया विस्फोटक खा लिया, तर्कसंगत नहीं है। इस तरह की बातें सिर्फ़ हमसे कुछ जंगली धारणाएँ बनाने के लिए गढ़ी या कही जाती है।

पहली बात, खेत के मालिक और वहाँ काम करने वाले ने क्या वहाँ से हथिनी के खाने के बाद विस्फोटक को हटा दिया होगा? जैसे हाथी के साथ ये हुआ, वैसे ही अगर खेत में सुअर होता तब भी श्रमिकों और मालिकों द्वारा केवल उनकी खेती को रौंदने की संभवना को लेकर उस जानवर की जिंदगी को बर्बाद करने का मकसद था?

इसलिए हाथी द्वारा गलती से विस्फोटक का सेवन करने जैसा तर्क किसी भी तरह उन लोगों का बचाव नहीं करता है। विस्फोटक खेत में आने वाले किसी भी जानवर के लिए था और उस वक़्त गर्भवती हाथी की किस्मत उसके साथ नहीं था। मीडिया में यह मामला फैलने के बाद लोगों हुए आक्रोश के कारण इसे केवल प्रसिद्धि मिली है।

जिस बयान में यह कहा गया कि हथिनी ने गलती से विस्फोटक खा लिया था, उसका अनिवार्य रूप से मतलब है कि उसे जानबूझकर खिलाने वाली अफवाह या खबर दरअसल झूठी है।

हथिनी को टारगेट करके विस्फोटक नहीं खिलाया गया था, उसे कोई और भी खा सकता था। किसी ने भी उसे जबरदस्ती विस्फोटक नहीं खिलाया है, इस मामले में जानबूझकर कर खिलाने वाला कहने का मतलब बिल्कुल अलग है।

केरल में खेत के मालिकों द्वारा क्रूर तरीके से गर्भवती हथिनी के विस्फोटक खाने की वजह से हुए मौत को लेकर देश भर में लोग आक्रोशित हैं। हालाँकि पर्यावरण मंत्रालय स्वीकार कर रहा है कि यह तरीका गैरकानूनी है, लेकिन इस बात पर भी अधिक जोर नहीं दिया गया कि हथिनी द्वारा गलती से विस्फोटक का सेवन कैसे किया गया।

इसमें यह भी कहा गया कि इन क्रूर तरीकों को लागू करने वालों को किसी भी तरह से छूट नहीं देनी चाहिए लेकिन कानूनी सीमा के अंतर्गत ही इन्हें सजा दी जाएगी।

यह कहना कि हथिनी ने गलती से विस्फोटक खा लिया, जो किसी दूसरे जानवर के लिए बना था। यह बात इस ओर संकेत करती है कि इस तरह की क्रूर घटना वन जीवन को हानिकारक रूप में प्रभावित करेगी। इस तरह की क्रूर प्रथा को न ही राज्य सरकार और न ही पर्यावरण मंत्रालय को सामान्य रूप से देखा जाना चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Editorial Deskhttp://www.opindia.com
Editorial team of OpIndia.com

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वह शिक्षित है… 21 साल की उम्र में भटक गया था’: आरिब मजीद को बॉम्बे हाई कोर्ट ने दी बेल, ISIS के लिए सीरिया...

2014 में ISIS में शामिल होने के लिए सीरिया गया आरिब मजीद जेल से बाहर आ गया है। बॉम्बे हाई कोर्ट ने उसकी जमानत बरकरार रखी है।

अमेज़न पर आउट ऑफ स्टॉक हुई राहुल रौशन की किताब- ‘संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा’

राहुल रौशन ने हिंदुत्व को एक विचारधारा के रूप में क्यों विश्लेषित किया है? यह विश्लेषण करते हुए 'संघी' बनने की अपनी पेचीदा यात्रा को उन्होंने साझा किया है- अपनी किताब 'संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा' में…"

मुंबई पुलिस अफसर के संपर्क में था ‘एंटीलिया’ के बाहर मिले विस्फोटक लदे कार का मालिक: फडणवीस का दावा

मनसुख हिरेन ने लापता कार के बारे में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी। आज उसी हिरेन को मुंबई में एक नाले में मृत पाया गया। जिससे यह पूरा मामला और भी संदिग्ध नजर आ रहा है।

कल्याणकारी योजनाओं में आबादी के हिसाब से मुस्लिमों की हिस्सेदारी ज्यादा: CM योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश में आबादी के अनुपात में मुसलमानों की कल्याणकारी योजनाओं में अधिक हिस्सेदारी है। यह बात सीएम योगी आदित्यनाथ ने कही है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘हिंदू भगाओ, रोहिंग्या-बांग्लादेशी बसाओ पैटर्न का हिस्सा है मालवणी’: 5 साल पहले थे 108 हिंदू परिवार, आज बचे हैं 7

मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा ने महाराष्ट्र विधानसभा में मालवणी में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार का मसला उठाया है।

प्रचलित ख़बरें

16 महीने तक मौलवी ‘रोशन’ ने चेलों के साथ किया गैंगरेप: बेटे की कुर्बानी और 3 करोड़ के सोने से महिला का टूटा भ्रम

मौलवी पर आरोप है कि 16 माह तक इसने और इसके चेले ने एक महिला के साथ दुष्कर्म किया। उससे 45 लाख रुपए लूटे और उसके 10 साल के बेटे को...

‘मैं 25 की हूँ पर कभी सेक्स नहीं किया’: योग शिक्षिका से रेप की आरोपित LGBT एक्टिविस्ट ने खुद को बताया था असमर्थ

LGBT एक्टिविस्ट दिव्या दुरेजा पर हाल ही में एक योग शिक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया है। दिव्या ने एक टेड टॉक के पेनिट्रेटिव सेक्स में असमर्थ बताया था।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘जाकर मर, मौत की वीडियो भेज दियो’ – 70 मिनट की रिकॉर्डिंग, आत्महत्या से ठीक पहले आरिफ ने आयशा को ऐसे किया था मजबूर

अहमदाबाद पुलिस ने आयशा और आरिफ के बीच हुई बातचीत की कॉल रिकॉर्ड्स को एक्सेस किया। नदी में कूदने से पहले आरिफ से...

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,954FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe