Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाज'शाहीन बाग़ में फैसला हो चुका है..आपकी कब्र खुदेगी..आपको तय करना है कि 2...

‘शाहीन बाग़ में फैसला हो चुका है..आपकी कब्र खुदेगी..आपको तय करना है कि 2 फ़ीट नीचे या 20 फ़ीट नीचे’

"फैसला हम कर चुके हैं अब हिन्दुस्तान उसे मानेगा, कोई एडजस्टमेन्ट नहीं होगा। फैसला शाहीन बाग से हो चुका है। ये आपके ऊपर है कि कब मानेगें। जितना जल्दी करेंगे उतना अच्छा होगा, जितना डिले करेंगे आपकी कब्र उतनी गहरी खुदेगी।"

शाहीन बाग़ में CAA और अदृश्य NRC के खिलाफ धरना-प्रदर्शन जारी है। शाहीन बाग की तर्ज पर शाहीन बाग़ के मास्टरमाइंड शरजील इमाम के शुरूआती अपील पर कई और प्रदर्शन स्थल देश के अलग-अलग शहरों में बनाए गए जहाँ से अक्सर तरह-तरह के भड़काऊ बयान आते रहते हैं।

अब धमकी भरा और इस प्रोटेस्ट को बेनकाब करता एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें दिल्ली के शाहीन बाग के सपोर्ट में नांदेड़ से जो बयान जारी हुआ है वो इस प्रदर्शन के खतरनाक मंसूबों को उजागर करता है। कि इनकी लड़ाई CAA के खिलाफ नहीं है बल्कि देश को अस्थिर करने की साजिश है।

वायरल वीडियो में कहा जा रहा है, “इस लड़ाई में अगर-मगर की कोई गुंजाइश नहीं है। ये कानून वापस जायेगा, हुकूमत वापस जाएगी। CAA भी नहीं रहेगा, हुकूमत भी नहीं रहेगा। और अगर ये दोनों नहीं रहेंगे तो कुछ भी नहीं रहेगा। ये बात भी बहुत क्लियर करने की ज़रूरत है कि CAA भी नहीं रहेगा और हुकूमत भी नहीं रहेगा। अगर दोनों रहेंगे तो कुछ भी नहीं रहेगा। चाहे उसके लिए कुछ भी करना हो मुस्लिम कम्युनिटी और नौजवान इसके लिए तैयार है। ये कोई बाबरी मस्जिद वाली स्ट्रैटजी की बात नहीं है कि कोर्ट का फैसला मान लेंगे। शाहीन बाग़ में फैसला हो चुका है, फैसला हम कर चुके हैं अब हिन्दुस्तान उसे मानेगा, कोई एडजस्टमेन्ट नहीं होगा। फैसला शाहीन बाग से हो चुका है। ये आपके ऊपर है कि कब मानेगें। जितना जल्दी करेंगे उतना अच्छा होगा, जितना डिले करेंगे आपकी कब्र उतनी गहरी खुदेगी। आपको तय करना है कि 2 फ़ीट नीचे जाना है या 20 फ़ीट नीचे जाएँगे।”

ये क्या है? क्या अब भी आपको लगता है ये प्रोटेस्ट सिर्फ CAA के खिलाफ है। आप खुद देखिए वीडियो और तय कीजिए। ऐसे कई और बयान पहले भी सामने आ चुके हैं। जो न सिर्फ देश के खिलाफ है बल्कि खुलेआम देश के बहुसंख्यक आबादी को धमकी है।

शाहीन बाग़ पर पूछे सवाल तो अमानतुल्लाह ने अँधेरे में CM केजरीवाल को पीटा: अटकलों का बाजार गर्म

शाहीन बाग़ के 50 दिन: मंसूबे फेल हुए तो भीड़ जुटाने के लिए उपद्रवियों ने दिया इश्तेहार

शाहीन बाग आंदोनल को खड़ा करने में शरजील ने निभाई अहम भूमिका, गिरफ्तारी पर नहीं कोई अफ़सोस

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हिंदी राष्ट्रभाषा है, थोड़ी-बहुत सबको आनी चाहिए’: ये कहने पर Zomato ने कर्मचारी को कंपनी से निकाला, तमिल ग्राहक ने की थी शिकायत

फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato ने अपने एक कस्टमर केयर कर्मचारी को फायर कर दिया, क्योंकि उसने कहा था कि थोड़ी-बहुत हिंदी सबको आनी चाहिए।

बाप कम्युनिस्ट हो, सत्ता में वामपंथी हों तो प्यार न करें, प्यार हो जाए तो माँ न बने: अपने ही बच्चे के लिए भटक...

अजीत और अनुपमा को एक-दूसरे से प्यार हुआ और एक बच्चे का जन्म हुआ। कम्युनिस्ट पिता को ये रिश्ता और बच्चा दोनों नागवार थे। बच्चा इस जोड़े से छीन लिया गया...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe