Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजकोरोना की मार झेल रहे केरल में नए साल पर शराब की रिकॉर्ड बिक्री,...

कोरोना की मार झेल रहे केरल में नए साल पर शराब की रिकॉर्ड बिक्री, एक दिन में ₹100 करोड़ की शराब पी गए लोग

राजधानी तिरुवनंतपुरम के 'पॉवर हाउस रोड' पर स्थित शराब की आउटलेट ने अकेले 96.06 लाख रुपए की शराब बेची है।

अंग्रेजी नववर्ष 2022 के अवसर पर केरल ने शराब की बिक्री के सरे रिकार्ड्स तोड़ दिए हैं। शुक्रवार (दिसंबर 31, 2021) को केरल में जश्न का माहौल रहा और उस दिन शराब की बिक्री के सरे रिकार्ड्स टूट गए। उस दिन 82.26 करोड़ रुपए के शराब की बिक्री केरल में हुई। केरल में ये किसी भी नए साल के मौके पर सबसे ज्यादा शराब बिक्री का रिकॉर्ड है। नया साल 2021 के मौके पर केरल में 70.55 करोड़ रुपए की शराब बिकी थी। वो भी एक रिकॉर्ड ही था।

राजधानी तिरुवनंतपुरम के ‘पॉवर हाउस रोड’ पर स्थित शराब की आउटलेट ने अकेले 96.06 लाख रुपए की शराब बेची है। क्रिसमस के दौरान भी सबसे ज्यादा शराब इसी दुकान ने बेची थी। इरिंजलक्कुडा के आउटलेट ने 72 लाख रुपए तो कन्नूर के आउटलेट ने 70 लाख रुपए की शराब की बिक्री की है। इसी तरह ओणम के मौके पर मलयालियों ने 85 करोड़ रुपए की शराब गटकी थी। केरल अक्सर शराब की बिक्री के कारण चर्चा में रहता है और इस बार भी ऐसा ही है।

इस दौरान एक घटना काफी चर्चा में रही। नए साल से पहले की शाम के दौरान बेवको स्थित शराब की दुकान से शराब खरीद कर जा रहे एक स्वीडन के नागरिक को पुलिस ने पकड़ लिया और उससे बिल की माँग करने लगे। जब पुलिस ने उससे कहा कि वो बिल के बिना शराब की बोतल लेकर यात्रा नहीं कर सकता, तो उसने सड़क पर ही साड़ी बोतलें खाली कर दी। उसने विरोध प्रदर्शन के रूप में ऐसा किया। इसके बाद उक्त अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की गई।

साथ ही केरल के शिक्षा एवं लेबर मंत्री वी शिवनकुट्टी को उस पर्यटक से व्यक्तिगत रूप से माफ़ी भी माँगनी पड़ी। वहीं नए आँकड़े की मानें तो केरल के लोगों ने नए साल और उससे पहले के दिन मिला कर ‘बेवरेजेज कॉर्पोरेशन (Bevco)’ और ‘Consumerfed’ के आउटलेट्स के जरिए ही सिर्फ 96.86 करोड़ रुपए की शराब की बिक्री हुई। चूँकि जनवरी का पहला दिन ‘ड्राई डे’ रहता है, इसीलिए साडी बिक्री इससे पहले के दो दिनों में ही हुई है।

ये स्थिति तब है, जब केरल में कोरोना के कारण हालात भयावह हैं। वहाँ अब तक कोरोना के 52,47,177 मामला सामने आए हैं, जिनमें से 19,416 अभी भी सक्रिय हैं। केरल में कोरोना के कारण 47,794 लोगों को अपनी जान गँवानी पड़ी है। वहीं रिकवर हुए लोगों की संख्या 51,79,277 है। केरल में पिछले 7 दिनों में औसतन टेस्ट पॉजिटिविटी रेट 4.39 है। इन सबके बावजूद वहाँ की वामपंथी सरकार की मीडिया में प्रशंसा की जाती रही है। वहाँ अभी भी महामारी के कारण स्थिति भयावह है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इन्सिटटे ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -