Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजकॉन्ग्रेसी ट्रोल की 'भगवा आतंक' को फिर हवा देने की कोशिश, RSS को बताया...

कॉन्ग्रेसी ट्रोल की ‘भगवा आतंक’ को फिर हवा देने की कोशिश, RSS को बताया इजरायली दूतावास ब्लास्ट का जिम्मेदार

कॉन्ग्रेसी ट्रोल साकेत गोखले ने अपने ट्वीट में लिखा, “हमले में भाजपा/आरएसएस के गुंडों की भूमिका की संभावना को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है हालाँकि, अब तक इसे निश्चित रूप से दबाया जा चुका होगा।”

दिल्ली स्थित इजरायली दूतावास के नज़दीक हुए बम धमाकों के बाद प्रोपेगेंडा फैलाने वाले ट्रोल भी सक्रिय हो चुके हैं। इसी कड़ी में कॉन्ग्रेसी ट्रोल साकेत गोखले कल (जनवरी 29, 2021) हुए बम धमाकों के पीछे की साज़िश का शिगूफा लेकर हाजिर है। उनका कहना है कि संभावित रूप से यह आतंकवादी हमला राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने कराया होगा जिसे नज़रअंदाज़ नहीं किया जाना चाहिए और निश्चित रूप से अब तक इसे दबाया जा चुका होगा। 

साकेत गोखले के झूठे दावे

साकेत गोखले ने नफरत फैलाने वाले षड्यंत्र को भड़काते हुए यह प्रसारित किया है, जिसके आधार पर कॉन्ग्रेस पार्टी ने ‘भगवा आतंक’ की नकारात्मक अवधारणा का आविष्कार किया था। हालाँकि, सालों बीत चुके हैं लेकिन कॉन्ग्रेसी ट्रोल ने ‘भगवा आतंक’ नैरेटिव की पुष्टि करने वाला एक भी सबूत पेश नहीं किया है। एक बार फिर वो वही दोहराना चाहता है लेकिन इस बार भी उसके पास कोई सबूत मौजूद नहीं है। 

साकेत गोखले ने अपने ट्वीट में लिखा, “हमले में भाजपा/आरएसएस के गुंडों की भूमिका की संभावना को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है हालाँकि, अब तक इसे निश्चित रूप से दबाया जा चुका होगा।” 

साकेत गोखले के झूठे दावे

फर्जी और भ्रामक जानकारी साझा करने के मामले में साकेत गोखले का इतिहास पुराना है। जुलाई 2020 में साकेत गोखले ने बिना सबूत दावा किया था कि आरएसएस कार्यकर्ता उनके घर के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे। आरएसएस ने इस झूठे और पब्लिसिटी बटोरने वाले दावे को खारिज कर दिया था। 

एक और मौके पर साकेत गोखले ने दावा किया था कि दिल्ली पुलिस ने उसे अनुमति दी है कि वह रैली आयोजित करके देश के गद्दारों को गोली मारो सालों को दोहरा सकता है। दिल्ली पुलिस ने कॉन्ग्रेसी ट्रोल के इस दावे को झूठा बताते हुए कहा था कि जो पत्र प्रचारित किया जा रहा है, वह साकेत द्वारा माँगी गई अनुमति का पत्र था जो कि उसे दी नहीं गई थी। 

झूठे दावों का प्रचार करके कॉन्ग्रेस पार्टी के लिए माहौल बनाने के मामले में साकेत गोखले का इतिहास पुराना रहा है। ठीक उसी तरह अब कॉन्ग्रेसी ट्रोल ने ‘भगवा आतंक’ जैसी खोखली अवधारणा में प्राण फूँकने का प्रयास किया है। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

बकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण के 22129 केस, 156 मौतें भी

पूरे देश भर में रिपोर्ट हुए कोविड केसों में 53 % मामले अकेले केरल से आए हैं। भारत में कुल मामले जहाँ 42, 917 रिपोर्ट हुए। वहीं राज्य में 1 दिन में 22129 केस आए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,634FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe