Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाज'न्यूए निचोड़ देंगे मोदी, कभी कोई वहम हो': बजरंग पूनिया की बीवी की इंस्टाग्राम...

‘न्यूए निचोड़ देंगे मोदी, कभी कोई वहम हो’: बजरंग पूनिया की बीवी की इंस्टाग्राम स्टोरी, ‘जाट’ लिख कर प्रधानमंत्री के खिलाफ टिप्पणी

इस इंस्टाग्राम स्टोरी को देखने के बाद लोग पूछ रहे हैं कि ये विरोध प्रदर्शन आखिर बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ है या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के?

दिल्ली के जंतर-मंतर पर पहलवानों का धरना प्रदर्शन चल रहा है। ये विरोध प्रदर्शन WFI (भारतीय कुश्ती संघ) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ है। 6 बार के सांसद बृजभूषण शरण सिंह पर यौन शोषण के आरोप लगाए गए हैं और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के आबाद दिल्ली पुलिस ने FIR भी दर्ज की है। इसी बीच पहलवानों का आंदोलन पूरी तरह राजनीतिक हो गया है और अब वहाँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक बातें हो रही हैं।

इसका कारण है, शुक्रवार (28 अप्रैल, 2023) को बजरंग पूनिया की पत्नी संगीता फोगट द्वारा इंस्टाग्राम पर शेयर की गई एक स्टोरी। संगीता फोगट, पहलवानी की दुनिया में बड़े कोच के रूप में पहचाने जाने वाले महावीर सिंह फोगट की बेटी हैं। गीता, बबीता और ऋतु उनकी बहनें हैं। वहीं बजरंग पूनिया जंतर-मंतर पर चल रहे विरोध प्रदर्शन का मुख्य चेहरा बने हुए हैं। उनके अलावा साक्षी मलिक और विनेश फोगट को भी वहाँ सक्रिय देखा जा सकता है।

संगीता फोगट ने जो इंस्टाग्राम स्टोरी शेयर की, उसमें उनके पति बजरंग पूनिया को एक कपड़ा निचोड़ते हुए देखा जा सकता है। साथ ही कैप्शन में लिखा है, “न्यूए निचोड़ देने मोदी, कभी कोई वहम हो।” ये पोस्ट इंस्टाग्राम पर ‘जाट रेजिमेंट’ नाम के एक पेज ने शेयर किया। साथ ही इसमें बड़े-बड़े अक्षरों में ‘जाट’ भी लिखा हुआ है। ‘I stand with Wrestlers’ और ‘I stand with my champions’ का कैप्शन भी लगाया गया है।

इस इंस्टाग्राम स्टोरी को देखने के बाद लोग पूछ रहे हैं कि ये विरोध प्रदर्शन आखिर बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ है या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के? किसी खास जाति का नाम लेकर पीएम मोदी के लिए इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल करना कहाँ तक उचित है? जिस तरह ‘किसान आंदोलन’ के दौरान जातिवादी भावनाएँ भड़काने की कोशिशें हुई थीं, उसी तरह पहलवानों का आंदोलन में भी किया जा रहा है। प्रियंका गाँधी और पप्पू यादव जैसे मौकापरस्त नेता वहाँ पहुँच ही चुके हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -