मस्जिद में छिपा था शाहीन बाग़ का सरगना शरजील इमाम, चाचा ने कहा- दिल्ली चुनाव के कारण फँसाया गया

शरजील की तलाश 6 राज्यों की पुलिस कर रही थी- बिहार, मणिपुर, असम, अरुणाचल प्रदेश, दिल्ली और उत्तर प्रदेश। महात्मा गाँधी को सबसे बड़ा फासिस्ट नेता बताने वाले शरजील को फिलहाल जहानाबाद थाने में रखा गया है। शरजील इमाम की जहानाबाद कोर्ट में पेशी होगी। फिर ट्रांजिट रिमांड के बाद दिल्ली पुलिस उसे ले जाएगी।

शाहीन बाग़ उपद्रव के मुख्य साज़िशकर्ता शरजील इमाम को जहानाबाद से गिरफ़्तार किया गया। वहाँ उनके कुछ राजनीतिक कनेक्शन भी सामने आए हैं। उसके पिता अकबर इमाम तो नीतीश कुमार की पार्टी जदयू से चुनाव भी लड़ चुके हैं। उसका भाई पूर्व सांसद अरुण कुमार का क़रीबी है। उसके भाई से पूछताछ के बाद पुलिस को कुछ अहम सुराग मिले, जिसके बाद ये कार्रवाई की गई। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्पष्ट कर दिया है कि देश के ख़िलाफ़ बात करने वालों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और इस मामले में कोर्ट अपना काम करेगा। राजद प्रवक्ता भाई वीरेंदर ने भी कड़ी कार्रवाई की माँग की है।

एक और चौंकाने वाली बात ये है कि भारत के ‘टुकड़े-टुकड़े’ करने की बात करने वाला शरजील इमाम जहानाबाद के एक मस्जिद में छिपा हुआ था। शरजील ने एएमयू में भाषण देते हुए लोगों को भड़काते हुए कहा था कि वो सिलीगुड़ी कॉरिडोर (चिकेन्स नेक) को यूँ ठप्प कर दें कि भारत से असम व अन्य उत्तर-पूर्वी राज्य टूट कर अलग हो जाएँ। शरजील की तलाश 6 राज्यों की पुलिस कर रही थी- बिहार, मणिपुर, असम, अरुणाचल प्रदेश, दिल्ली और उत्तर प्रदेश। महात्मा गाँधी को सबसे बड़ा फासिस्ट नेता बताने वाले शरजील को फिलहाल जहानाबाद थाने में रखा गया है।

शरजील इमाम की जहानाबाद कोर्ट में पेशी होगी। फिर ट्रांजिट रिमांड के बाद दिल्ली पुलिस उसे ले जाएगी। दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने उसे बिहार पुलिस के सहयोग से जहानाबाद के काको से गिरफ़्तार किया, जहाँ उसका पैतृक निवास भी है। नीतीश कुमार ने इस कार्रवाई के लिए पुलिस की तारीफ करते हुए कहा कि किसी में दम नहीं है कि वो भारत के टुकड़े-टुकड़े कर सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश का माहौल इन दिनों ख़राब करने की कोशिश की जा रही है, जिसे सामान्य किया जाना चाहिए।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

शरजील इमाम के ख़िलाफ़ राजद्रोह का मुक़दमा चलाया जाएगा। जेएनयू प्रशासन ने भी इस मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए शरजील को समन जारी किया है। उसे 3 फ़रवरी तक स्पष्टीकरण देने को कहा गया है। वहीं शरजील के परिवार वालों ने साज़िश का रोना रोया है। उसके चाचा अरशद इमाम ने कहा है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में राजनीतिक फायदा लेने के लिए उनके भतीजे का इस्तेमाल किया जा रहा है। वहीं शरजील की अम्मी ने कहा है कि मेरा बेटा निर्दोष है। परिवार ने कहा कि उन्हें संविधान पर पूरा भरोसा है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

मोदी, उद्धव ठाकरे
इस मुलाकात की वजह नहीं बताई गई है। लेकिन, सीएम बनने के बाद दिल्ली की अपनी पहली यात्रा पर उद्धव ऐसे वक्त में आ रहे हैं जब एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार के साथ अनबन की खबरें चर्चा में हैं। इससे महाराष्ट्र में राजनीतिक सरगर्मियॉं अचानक से तेज हो गई हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,901फैंसलाइक करें
42,179फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: