Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाज'जैसे जानवरों को बेचते हैं तुझे बेच दूँगा': समीर अहमद ने पहचान छिपा फँसाया,...

‘जैसे जानवरों को बेचते हैं तुझे बेच दूँगा’: समीर अहमद ने पहचान छिपा फँसाया, फिर इतना प्रताड़ित किया कि कोमल शर्मा ने कर ली आत्महत्या

सुसाइड नोट में कोमल ने बताया है कि शादी के कुछ दिनों बाद ही समीर उसे टॉर्चर करने लगा। पैसों की डिमांड करता था। निजी फोटो उसके परिजनों को भेजने और सोशल मीडिया पर डालने की धमकी देता था।

लव जिहाद ने एक और हिंदू युवती की जान ले ली है। इस युवती की पहचान हरियाणा के यमुनानगर की कोमल शर्मा के तौर पर सामने आई है। आरोपित समीर अहमद उत्तर प्रदेश के शामली जिले के झिंझाना कस्बे का रहने वाला है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार युवती ने करीब तीन महीने पहले आत्महत्या कर ली थी। प्रकरण तब सामने आया जब युवती की सुसाइड नोट लेकर उसकी भाभी 7 नवंबर 2022 को शामली जिला अधिकारी के पास पहुँची।

शिकायत में बताया गया है कि फेसबुक के जरिए समीर और कोमल का संपर्क हुआ था। समीर ने खुद को हिंदू बता 5 साल पहले कोमल से शादी की। इस दौरान कई बार उसका गर्भपात कराया गया। बाद में वह कोमल को ब्लैकमेल करने लगा और खुद आकर शामली में रहने लगा। इसी बीच कोमल को उसके मुस्लिम होने का पता चला और सदमे में आकर उसने आत्महत्या कर ली।

कोमल की भाभी ने बताया ​है कि अपने बच्चे की तबीयत खराब होने और पति की मौत की वजह से उन्हें शिकायत करने में देरी हुई है। यह भी कहा है कि कानूनी कार्रवाई रोकने के लिए समीर उन्हें भी धमकी दे रहा है। दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार शामली की डीएम जसजीत कौर ने पुलिस को जाँच के निर्देश दिए हैं। शामली पुलिस ने भी ट्ववीट कर इसकी पुष्टि की है।

कोमल ने मरने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा था। यह नोट भी उसकी भाभी ने अपनी शिकायत के साथ दी है। इसमें कोमल ने बताया है कि शादी के कुछ दिनों बाद ही समीर उसे टॉर्चर करने लगा। उससे पैसों की डिमांड करता था। निजी फोटो उसके परिजनों को भेजने और सोशल मीडिया पर डालने की धमकी देता था। जान से मारने की धमकी देते हुए कहा कि जैसे जानवर को बेचते हैं, वैसे तुझे बेच दूँगा। नोट में समीर की अम्मी और भाई पर भी धमकी देने का आरोप लगाया गया है।

(नोट: पुलिस जाँच में पता चला है कि कोमल शर्मा जीवित है। जो महिला लक्ष्मी बनकर शिकायत करने आई थी, असल में वही कोमल शर्मा है। केस में आए नए मोड़ के बारे में आप इस लिंक पर क्लिक कर पढ़ सकते हैं)

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -