Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजजिंदा है कोमल शर्मा... समीर अहमद कर रहा था प्रताड़ित, इसलिए लक्ष्मी बन अपनी...

जिंदा है कोमल शर्मा… समीर अहमद कर रहा था प्रताड़ित, इसलिए लक्ष्मी बन अपनी ही मौत की शिकायत लेकर आई थी शामली

शामली के SP अभिषेक ने बताया है कि जिस महिला के आत्महत्या करने का दावा किया गया था, वो जीवित है। कोमल शर्मा ही अपनी भाभी लक्ष्मी बनकर DM के यहाँ शिकायत करने पहुँची थी।

उत्तर प्रदेश के शामली के समीर अहमद से जुड़े केस में नया मोड़ आया है। उसकी प्रताड़नाओं से तंग आकर कोमल शर्मा के सुसाइड करने का दावा गलत निकला है। यह बात सामने आई है कि जो महिला लक्ष्मी बनकर शामली आई थी, असल में वही कोमल शर्मा है। अब उसने खुद को समीर अहमद से आर्थिक रूप से प्रताड़ित बताया है। पुलिस ने इस संबंध में नए सिरे से केस दर्ज किया है।

हरियाणा के यमुनानगर से एक महिला शिकायत लेकर 7 नवंबर 2022 को शामली DM के यहाँ पहुँची थी। उसने अपना नाम लक्ष्मी बताया था। वह खुद को कोमल शर्मा का भाभी बता रही थी। शिकायत में कहा था कि खुद को हिंदू बता समीर फेसबुक के जरिए कोमल के संपर्क में आया। फिर उसे प्रताड़ित करने लगा। इससे तंग आ कोमल ने करीब तीन महीने पहले आत्महत्या कर ली।

वह एक सुसाइड नोट भी लेकर आई थी। बताया था कि कोमल ने मरने से पहले इसे लिखा था। यह भी बताया था कि बच्चे की बीमारी और पति की मौत की वजह से उसे शिकायत करने में देरी हुई। महिला की शिकायत पर शामली की DM ने पुलिस को जाँच कर के आवश्यक कार्रवाई के आदेश दिए थे।

जाँच के बाद शामली के SP अभिषेक ने बताया है कि जिस महिला के आत्महत्या करने का दावा किया गया था, वो जीवित है। कोमल शर्मा ही अपनी भाभी लक्ष्मी बनकर DM के यहाँ शिकायत करने पहुँची थी।

ऑपइंडिया को मिली जानकारी के अनुसार शामली पुलिस की एक टीम जाँच के लिए हरियाणा गई थी। पुलिस ने वहाँ लक्ष्मी से उसके और कोमल शर्मा के पहचान पत्र माँगे तो वह आनाकानी करने लगी। महिला की हरकतों से पुलिस को शक हुआ तो उसने मामले की गहराई से जाँच की। इसके बाद पता चला कि लक्ष्मी और कोमल एक ही हैं।

महिला की शिकायत के बाद समीर अहमद को IPC की धरा 406, 420, 376 और 506 में गिरफ्तार कर लिया गया था। इस मामले में पुलिस आगे की जाँच व कार्रवाई कर रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -