Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजश्रद्धा की प्रेगनेंसी किट से लेकर सिल्वर रिंग तक: 6629 पन्नों की चार्जशीट में...

श्रद्धा की प्रेगनेंसी किट से लेकर सिल्वर रिंग तक: 6629 पन्नों की चार्जशीट में दर्ज हुए आफताब के कुकर्म, दिल्ली से दुबई तक में थी कई GF

आफताब पूनावाला ने श्रद्धा वालकर के साथ 17 मई 2019 को संबंध बनाया था। जिसके बाद श्रद्धा के घरवालों ने उसकी प्रेगनेंसी किट देखी और उसे आफताब के साथ रहने से मना किया। मगर श्रद्धा उनका विरोध करके आफताब के साथ रहने लगी।

दिल्ली के श्रद्धा वालकर मर्डर केस में चार्जशीट दाखिल होने के बाद मीडिया में कई नए खुलासे हुए हैं। पुलिस की जाँच में सामने आया है कि आफताब ने श्रद्धा से 2019 में शारीरिक संबंध बनाए थे जिसके बाद उसने ने प्रेगनेंसी भी चेक की थी। आफताब की दिल्ली से लेकर दुबई तक में गर्लफ्रेंड होने का खुलासा भी पुलिस पड़ताल में हुआ। ये भी पता चला कि श्रद्धा को मारने के बाद उसकी जो नई GF बनी थी उसे उसने श्रद्धा की ही अंगूठी तोहफे में दे दी थी। इसी तरह कई बातें हैं जो 6629 पन्नों की चार्जशीट से पता चली हैं। इनमें से कुछ बिंदुओं को हम बताने जा रहे हैं

चार्जशीट के मुताबिक:

  • आफताब पूनावाला ने श्रद्धा वालकर के साथ 17 मई 2019 को पहली दफा संबंध बनाया था। इसके बाद श्रद्धा के घरवालों ने उसकी प्रेगनेंसी किट देखी और उसे आफताब के साथ रहने से मना किया, मगर श्रद्धा उनका विरोध करके आफताब के साथ रहने लगी।
  • आफताब पूनावाला श्रद्धा को जान से मारने से पहले भी उसको बेरहमी से मार-मारकर अधमरा कर चुका था। श्रद्धा इस बारे में किसी से कुछ नहीं कह पाती थी क्योंकि वह अपने परिवार की इच्छा के विरुद्ध अपनी मर्जी से आफताब के साथ दिल्ली रहने आई थी।
  • आफताब ने बंबल एप पर कई गर्लफ्रेंड बनाईं थीं। इनमें एक दुबई भी रहती थी। श्रद्धा को जब इस संबंध में पता चला तो उसे आफताब की ईमानदारी और सच्चाई पर शक होने लगा। दोनों के बीच इसे लेकर काफी लड़ाई भी हुई थी और आफताब ने श्रद्धा को पीटा भी था। हालाँकि दुबई वाली लड़की अकेली उसकी करीबी नहीं थी। उसने नागरपुर और एक गुरुग्राम में भी लड़की से दोस्ती की हुई थी।
  • आफताब कभी-कभी श्रद्धा को इतना पीट देता था कि उसे अक्सर दफ्तर से छुट्टी लेकर घर पर रहना पड़ता था। वह बताती भी थी कि उसे आफताब ने कितना पीटा है।
  • चार्जशीट के अनुसार, श्रद्धा को मारने के बाद पूनावाला अपनी एक गर्लफ्रेंड को लेकर घर आया और तब उसने फ्रिज में छिपाए सारे बॉडी पार्ट किचन में रख दिए। जैसे ही लड़की फ्लैट से गई उसने दोबारा उन्हें फ्रिज में डाला।
  • आफताब ने अपनी नई गर्लफ्रेंड को वालकर की चाँदी की अंगूठी दी थी। जब पुलिस ने उस महिला से पूछताछ की तो उसने वो अंगूठी पुलिस को लौटाई जिसे देख एक दोस्त ने बताया कि वह अंगूठी श्रद्धा की थी।
  • मामले का खुलासा होने के बाद शुरुआत में पूनावाला पुलिस को झूठी बातें बताता था। प्रारंभिक जाँच में वो कहता था कि वॉलकर तो पिछले साल उसे छोड़कर पता नहीं कहा चली गई थी, फिर एक दिन आकर सामान भी ले गई।
  • सख्ती से पूछताछ के बाद उसने बताया कि श्रद्धा को मारने के बाद वो आरती, ब्लेड, हथौड़ा, प्लास्टिक क्लिप लेने गया था। जब सामान लेकर लौटा तो शव को बाथरूम में काटना शुरू किया। उसने पहले उसकी कलाई काटकर पॉलीथीन में रखी और फिर अगले पाँच दिन में शव के 17 टुकड़े कर दिए। इन 17 टुकड़ों में दोनों हाथ-पाँव के 6-6 टुकड़े शामिल थे। इसके अलावा सिर, धड़, अंगूठों को भी काट डाला गया था।
  • आफताब ने सबूत मिटाने के लिए छतरपुर पहाड़ी में ही अलग-लग जगह पर श्रद्धा की लाश के टुकड़ों पर पेट्रोल डालकर आग भी लगा दी थी। बाद में बची हुई हड्डियों को वह अपने किराए वाले मकान में ले आया था। वहाँ छत में मार्बल घिसने वाले ग्राइंडर से हड्डियों का पाउडर बनाया। हालाँकि, यह सब करने के बाद भी आफताब को पकड़े जाने का डर था। इसलिए उसने श्रद्धा के सिर, टॉरसो और दोनों कलाइयों को फ्रिज में ही रख दिया था।
  • चार्जशीट में आफताब ने यह भी कहा है कि श्रद्धा की हत्या करने के बाद करीब तीन-चार महीनों बाद उसने श्रद्धा के सिर और चेहरे को ब्लो टॉर्च से जलाकर उसकी पहचान मिटाने की कोशिश की। इसके बाद उसने चेहरे को जंगल में जबकि बालों और कपड़ों को छतरपुर पहाड़ी के पास डस्टबिन में फेंक दिया था।

उल्लेखनीय है कि पुलिस ने कोर्ट में श्रद्धा मर्डर केस की 6629 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की है। इस चार्जशीट के अनुसार, आफताब पूनावाला ने पुलिस के सामने कहा है कि 18 मई, 2022 को उसने श्रद्धा की हत्या कर दी थी। 19 मई, 2022 को छतरपुर से ट्रैश बैग, एक चाकू और एक चॉपर खरीदा था। यही नहीं, उसने पुलिस को बताया है कि उसने छतरपुर से ही 25,000 रुपए का एक फ्रिज भी खरीदा था। फ्रिज के लिए उसने क्रेडिट कार्ड से पेमेंट किया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -