Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजहज यात्रियों की आरती, पैगंबर का गुणगान: कश्मीरी हिंदुओं से स्वागत करवाकर लहालोट हुए...

हज यात्रियों की आरती, पैगंबर का गुणगान: कश्मीरी हिंदुओं से स्वागत करवाकर लहालोट हुए मुस्लिम, Video देख कहा- यही हैं हमारे असली पंडित

एक ओर जहाँ इस वीडियो को देख कुछ लोग खुश हो रहे है, वहीं दूसरी ओर कुछ ऐसे भी लोग हैं जो सवाल उठा रहे हैं कि क्या ऐसा ही स्वागत तीर्थ से लौटे तीर्थयात्रियों का भी होता है। एक यूजर कहता है, "वैष्णो देवी के दर्शन करके आने वालों के स्वागत में फूल बिछाता भी कोई मिल जाता तो ठीक होता।"

जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में शेख-उल-आलम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से आज (16 जुलाई 2022) एक वीडियो वायरल हो रही है। इस वीडियो में सऊदी से लौटे हज यात्रियों के पहले जत्थे का स्वागत कश्मीरी हिंदुओं द्वारा किया जा रहा है।

देख सकते है कि कैसे वह लोग हज यात्रियों की आरती करते हैं और उसके बाद पैगंबर का गुणगान करते हैं। दावा किया जा रहा है कि हिंदुओं द्वारा गुनगुनाए जाने वाले गाने में पैगंबर से आशीर्वाद माँगा जा रहा है। फिर हज से वापसी आए लोगों को फूल देकर, गले लगाकर उन्हें घर के लिए विदा किया जा रहा है।

पीडीपी नेता मोहित भान ने वीडियो शेयर करके लिखा, “हमारे कश्मीरी पंडित हज से लौटे यात्रियों का श्रीनगर में नात गाकर स्वागत कर रहे हैं और पैगंबर से आशीर्वाद माँग रहे हैं। ये हमारी समन्वित संस्कृति है कि इस्लाम को मानने वाले अमरनाथ को समर्थन करते हैं और शैव एकता के संदेशवाहक हैं।”

सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से शेयर हो रही है। केंद्र शासित प्रदेश के कुछ मुस्लिम इसे देख फूले नहीं समा रहे। उन्हें खुशी है कि हिंदुओं ने उनके लिए नात गाया। एक गुफ्तार अहमद ने कहा,

“एक अलग अंदाज में कश्मीरी पंडितों ने हज यात्रियों के पहले जत्थे का स्वागत श्रीनगर में किया। यही लोग असली कश्मीरी पंडिंत हैं जो दशकों से कश्मीर में रह रहे हैं। विवेक अग्निहोत्री, अनुपम खेर जैसे पाखंडी ये देखने के बाद गहरी पीड़ा में चले जाएँगे।”

गौरतलब है कि एक ओर जहाँ इस वीडियो को देख कुछ लोग खुश हो रहे है, वहीं दूसरी ओर कुछ ऐसे भी लोग हैं जो सवाल उठा रहे हैं कि क्या ऐसा ही स्वागत तीर्थ से लौटे तीर्थयात्रियों का भी होता है। एक यूजर कहता है, “वैष्णो देवी के दर्शन करके आने वालों के स्वागत में फूल बिछाता भी कोई मिल जाता तो ठीक होता।”

अतुल शर्मा लिखते हैं, “हाँ भाई हम भाई चारा निभाते रहें और तुम हम हिंदुओं को चारा समझ काटते रहो। बगल में ही अमरनाथ और वैष्णो देवी की यात्रा होती है वहाँ पर बम फोड़कर कौन सा भाईचारा निभाया जाता है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -