Monday, May 16, 2022
Homeदेश-समाजबच्ची के रोने की आवाज सुन घर से बाहर निकले लालाजी, गोलियों से भून...

बच्ची के रोने की आवाज सुन घर से बाहर निकले लालाजी, गोलियों से भून दिया: कश्मीर में इस्लामी आतंकियों ने ऐसे कुचली थी हिंदुओं की आवाज

पेशे से वकील व भाजपा उपाध्यक्ष टीका लाल टपलू की हत्या को 14 सितंबर 1989 को अंजाम दिया गया। वह कश्मीरी पंडितों में सबसे जाना माना चेहरा थे। लोग उन्हें लालाजी यानी बड़ा भाई कहते थे।

साल 1990 मे कश्मीर घाटी में हिंदुओं की निर्मम हत्याओं की अंतहीन कहानियाँ आपको द कश्मीर फाइल्स के रिलीज के बाद से पढ़ने को मिल रही होंगी। इस बीच आपने शायद कश्मीरी पंडित टीका लाल टपलू का नाम भी सुना हो। पंडित टीका लाल टपलू की हत्या 1990 में नहीं हुई थी बल्कि वह तो वो पहले शख्स थे जिन्हें इस्लामी आतताइयों ने 1989 में अपना निशाना बनाकर पूरे नरसंहार की शुरुआत की थी।

पेशे से वकील व भाजपा उपाध्यक्ष टीका लाल टपलू की हत्या को 14 सितंबर 1989 को अंजाम दिया गया। वह कश्मीरी पंडितों में सबसे जाना माना चेहरा थे। लोग उन्हें लालाजी यानी बड़ा भाई कहते थे। आतंकी उन्हें मारने के लिए लंबे समय से साजिशें रच रहे थे जिसका टपलू को कहीं न कहीं एहसास था। इसीलिए कट्टरपंथियों से परिवार को बचाने के लिए उन्होंने अपने परिवार को अपने से दूर दिल्ली लाकर छोड़ दिया और वापस अपने लोगों के बीच लौट गए अपने कश्मीर।

8 सितंबर 1989 को वह जब दिल्ली से वापस अपने चिंकराल मोहल्ला स्थित घर पहुँचे तो आतंकियों को उनकी आवाज को दबाने का एक मौका मिल गया, जिसका फायदा उठाते हुए 12 सितंबर 1989 को उनके घर पर उन्हें डराने के लिए हमला किया गया और फिर 14 सिंतबर को उन्हें मौत के घाट उतार दिया गया। घटना से पहले टीका लाल क्या कर रहे थे, कहाँ थे…ये सब बातें मीडिया में मौजूद हैं।

वह सुबह सामान्य सुबह थी। टीका लाल कट्टरपंथ के मंसूबों से वाकिफ थे और जानते थे कि आतंकी उन पर कभी भी हमला बोल सकते हैं। लेकिन बावजूद इसके वह उस दिन अपने घर से बाहर निकल गए। कारण था घर के बाहर एक बच्ची का तेज-तेज रोना। टपलू जब उसके पास गए तो उसकी माँ से पूछा कि वह क्यों रो रही है। माँ ने बताया कि बच्ची के स्कूल में कोई फंक्शन है और उसके पास पैसा नहीं है, इसलिए वह रो रही है।

टीका लाल टपलू ने बच्ची की माँ की सारी बातें सुनीं और अपनी जेब से 5 रुपए निकालकर जैसे ही उन्होंने बच्ची को पकड़ाए, तभी सामने से आतंकी बंदूक लेकर आए और उन्हें गोलियों से भून दिया। इस हत्या से आतंकियों के दो काम पूरे हुए थे। एक तो उनके रास्ते से टीका लाल हमेशा के लिए हट गए थे और दूसरा निजाम-ए-मुस्तफा का जो संदेश वो कश्मीरी पंडितों तक पहुँचाना चाहते थे वो हर पंडित के घर पहुँच गया था। इस एक हत्या से हालात इतने तनावपूर्ण हो गए थे कि लोगों ने अपने बच्चों को स्कूल भेजने से मना कर दिया था और कई दिन घरों में बंद रहे थे। आतंकियों ने नारा दिया था:

यहाँ क्या चलेगा, निजाम ए मुस्तफा
ला शरकिया ला गरबिया, इस्लामिया इस्लामिया;

जलजला आया है कुफ्र के मैदान में 
लो मुजाहिद आ गए हैं मैदान में

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चर्च में मौजूद थे 30-40 लोग, बाहर से चलने लगीं ताबड़तोड़ गोलियाँ: 1 की मौत, 5 घायल, दहशतगर्द हिरासत में

अमेरिका के कैलिफोर्निया के चर्च में गोलीबारी में 1 शख्स की मौत हो गई जबकि 5 लोग घायल हो गए। पुलिस ने संदिग्ध हमलावर को हिरासत में ले लिया है।

भोजपुरी, हिंदी, मराठी – सब में गरजे फडणवीस, कहा – ‘अरे ओवैसी सुन ले, कुत्ता भी ना पेशाब करेगा, औरंगजेब की पहचान पर’, CM...

बोले देवेंद्र फडणवीस, "बाला साहब बाघ थे, लेकिन इस समय एक बाघ है - नरेंद्र मोदी। आतंकियों के घर में घुसकर मारने का काम नरेंद्र मोदी ने किया।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
185,988FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe