Wednesday, May 27, 2020
होम देश-समाज गुलबर्गा यूनिवर्सिटी से कन्हैया कुमार को 'आंबेडकर' ने भगाया, कार्यक्रम रद्द

गुलबर्गा यूनिवर्सिटी से कन्हैया कुमार को ‘आंबेडकर’ ने भगाया, कार्यक्रम रद्द

गुलबर्गा विश्वविद्यालय में कन्हैया कुमार के कार्यक्रम पर प्रशासन द्वारा अनुमति न देने को लेकर विश्वविद्यालय की वाइस-चांसलर परिमला आंबेडकर ने कहा कि 'कैम्पस में इस कार्यक्रम के लिए अनुमति न देने में सबसे बड़ी वजह......

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

फरवरी 2016 में जेएनयू कैंपस में देश विरोधी नारा लगाने और उसे जायज़ ठहराने के लिए हर-जगह घूम-घूमकर बोलने की आज़ादी का डंका पीटने वाले कन्हैया कुमार को कर्नाटक की गुलबर्गा यूनिवर्सिटी से तगड़ा झटका लगा है। देश भर में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का डंका पीटने वाले कन्हैया दरअसल गुलबर्गा यूनिवर्सिटी में कार्यक्रम करने के सपने देख रहे थे मगर प्रशासन के एक ही निर्णय ने कन्हैया के पूरे ख्वाब पर पानी फेर दिया।

दरअसल जिस यूनिवर्सिटी में कन्हैया कुमार कार्यक्रम करने को उतावले थे और अपनी ओर से बहुत कुछ तैयारियाँ भी कर चुके थे वहाँ प्रशासन ने उन्हें उनकी करतूतों का आइना दिखाते हुए कार्यक्रम करने के लिए अनुमति देने से मना कर दिया है।

गुलबर्गा विश्वविद्यालय में कन्हैया कुमार के कार्यक्रम पर प्रशासन द्वारा अनुमति न देने को लेकर विश्वविद्यालय की वाइस-चांसलर परिमला आंबेडकर ने कहा कि ‘कैम्पस में इस कार्यक्रम के लिए अनुमति न देने में सबसे बड़ी वजह सुरक्षा को लेकर है, उन्होंने बताया कि इस बारे में उनसे सुरक्षा को लेकर उठने वाले सवालों के बारे में भी कहा गया था।’

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

स्पष्ट है कि विश्वविद्यालय की सुरक्षा से बड़ा कुछ नहीं हो सकता, यही वजह है की विवादस्पद हरकतों से अपना इतिहास बनाने वाले कन्हैया कुमार को विश्वविद्यालय में किसी तरह का कार्यक्रम करने की परमिशन नहीं दी गई।

बता दें कि इस कार्रवाई को लेकर जब वाइस चांसलर परिमला आंबेडकर से पूछा गया तो उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि इसमें राज्यपाल की ओर से कोई आदेश नहीं दिया गया है बल्कि यह फैसला विश्वविद्यालय प्रशासन के स्तर पर किया गया है। वीसी परिमला आंबेडकर ने इस फैसले को अमल में लाए जाने के सन्दर्भ में किसी भी तरह के राजनीतिक दबाव के होने से साफ़ इनकार करते हुए कहा कि कार्यक्रम रद्द करना विश्वविद्यालय स्तर का अपना फैसला है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

‘उत्तराखंड जल रहा है… जंगलों में फैल गई है आग’ – वायरल तस्वीरों की सच्चाई का Fact Check

क्या उत्तराखंड के जंगल इस साल की गर्मियों में वास्तव में आग में झुलस रहे हैं? जवाब है- नहीं।

ईद का जश्न मनाने के लिए दी विशेष छूट: उद्धव के तुष्टिकरण की शिवसेना के मुखपत्र सामना ने ही खोली पोल

शिवसेना के मुखपत्र सामना में प्रकाशित एक लेख के मुताबिक मुंब्रा में समुदाय विशेष के लोगों को ईद मनाने के लिए विशेष रियायत दी गई थी।

वियतनाम: ASI को खुदाई में मिला 1100 साल पुराना शिवलिंग, बलुआ पत्थर से है निर्मित

ASI को एक संरक्षण परियोजना की खुदाई के दौरान 9वीं शताब्दी का शिवलिंग मिला है। इसकी जानकारी विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर दी है।

‘मोदी मंदिर’ बनाने की खबर फर्जी: MLA गणेश जोशी ने कॉन्ग्रेस को बताया ‘मोदीफोबिया’ से ग्रसित

"मोदी मंदिर' बनाने की खबर पूरी तरह फर्जी है। जबकि मोदी-आरती लिखने वाली डॉ. रेनू पंत का भाजपा से कोई लेना-देना नहीं है और वो सिर्फ..."

प्रजासुखे सुखं राज्ञः… तबलीगी और मजदूरों की समस्या के बीच आपदा में राजा का धर्म क्या

सभी ग्रंथों की उक्तियों का एक ही निचोड़ है कि राजा को जनता का उसी तरह ध्यान रखना चाहिए जिस तरह एक पिता अपने पुत्र की देखभाल करता है।

चुनाव से पहले फिर ‘विशेष राज्य’ के दर्जे का शिगूफा, आखिर इस राजनीतिक जुमले से कब बाहर निकलेगा बिहार

बिहार के नेता और राजनीतिक दल कब तक विशेष राज्य का दर्जा माँगते रहेंगे, जबकि वे जानते हैं कि यह मिलना नहीं है और इसके बिना भी विकास संभव है।

प्रचलित ख़बरें

‘चीन, पाक, इस्लामिक जिहादी ताकतें हो या नक्सली कम्युनिस्ट गैंग, सबको एहसास है भारत को अभी न रोक पाए, तो नहीं रोक पाएँगे’

मोदी 2.0 का प्रथम वर्ष पूरा हुआ। क्या शानदार एक साल, शायद स्वतंत्र भारत के इतिहास का सबसे ज्यादा अदभुत और ऐतिहासिक साल। इस शानदार एक वर्ष की बधाई, अगले चार साल अद्भुत होंगे। आइए इस यात्रा में उत्साह और संकल्प के साथ बढ़ते रहें।

लगातार 3 फेक न्यूज शेयर कर रवीश कुमार ने लगाई हैट्रिक: रेलवे पहले ही बता चुका है फर्जी

रवीश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर ‘दैनिक भास्कर’ अखबार की एक ऐसी ही भावुक किन्तु फ़ेक तस्वीर शेयर की है जिसे कि भारतीय रेलवे एकदम बेबुनियाद बताते हुए पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि ये पूरी की पूरी रिपोर्ट अर्धसत्य और गलत सूचनाओं से भरी हुई है।

मोदी-योगी को बताया ‘नपुंसक’, स्मृति ईरानी को कहा ‘दोगली’: अलका लाम्बा की गिरफ्तारी की उठी माँग

अलका लाम्बा PM मोदी और CM योगी के मुँह पर थूकने की बात करते हुए उन्हें नपुंसक बता रहीं। उन्होंने स्मृति ईरानी को 'दोगली' तक कहा और...

‘राम मंदिर की जगह बौद्ध विहार, सुप्रीम कोर्ट ने माना’ – शुभ कार्य में विघ्न डालने को वामपंथन ने शेयर की पुरानी खबर

पहले ये कहते थे कि अयोध्या में मस्जिद था। अब कह रहे हैं कि बौद्ध विहार था। सुभाषिनी अली पुरानी ख़बर शेयर कर के राम मंदिर के खिलाफ...

38 लाख फॉलोवर वाले आमिर सिद्दीकी का TikTok अकॉउंट सस्पेंड, दे रहा था कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी

जब आमिर सिद्दीकी का अकॉउंट सस्पेंड हुआ, उस समय तक उसके 3.8 मिलियन फॉलोवर्स थे। आमिर पर ये कार्रवाई कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी...

हमसे जुड़ें

207,939FansLike
60,325FollowersFollow
242,000SubscribersSubscribe
Advertisements