Thursday, January 28, 2021
Home देश-समाज विश्व की सबसे बड़ी सेनिटेशन योजना 'स्वच्छ भारत अभियान' से हमें क्या मिला

विश्व की सबसे बड़ी सेनिटेशन योजना ‘स्वच्छ भारत अभियान’ से हमें क्या मिला

स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत अब तक देश भर में नौ करोड़ से अधिक शौचालय बनाए जा चुके हैं। 2014 में देश में सैनिटेशन कवरेज 39% था जो अब बढ़कर 98% तक पहुँच चुका है।

साठ के दशक के आरंभिक दिनों में जब विद्याधर सूरजप्रसाद नायपॉल अपने पुरखों की भूमि भारत आए थे तब उन्हें कश्मीर से लेकर मद्रास तक और गोवा से लेकर उत्तर प्रदेश तक हर जगह लोग खुले में शौच करते दिखते थे। उन्होंने अपने अनुभव 1964 में आई अपनी पुस्तक ‘An Area of Darkness’ में लिखे हैं।

नायपॉल ने लिखा है कि भारतवासी कहीं भी शौच कर सकते हैं: चाहे वह रेलवे ट्रैक हो, बस अड्डा, समुद्र का किनारा, पहाड़ी, सड़कें या नदी का किनारा। भारतीयों को खुले में शौच करने से कोई परहेज नहीं होता। नायपॉल के 50 वर्ष पुराने अनुभव उस जमाने के भारत का ऐसा चित्रण करते हैं जिसका उल्लेख नायपॉल की पुस्तक आने के कई दशक बाद भी तत्कालीन साहित्य में लगभग नहीं के बराबर हुआ।

इसकी पीड़ा स्वयं नायपॉल ने भी अनुभव की थी। उन्होंने अपनी पुस्तक में लिखा था कि खुले में शौच करने की गंदी आदत के बारे में कहीं भी लिखा नहीं जाता, उसपर चलचित्र नहीं बनते न ही कोई बात करता है। यह समाज में एक प्रकार से स्वीकार्य प्रथा थी जिसका कोई विरोध नहीं करता था। लोग अपनी परंपरागत आदतों जैसे दाहिने हाथ से खाने और प्रतिदिन नहाने को यूरोप के लोगों की आदतों से ज़्यादा अच्छा मानते थे लेकिन खुले में शौच को बुरा नहीं मानते थे। नायपॉल के अनुसार तर्कों से स्वयं को श्रेष्ठ सिद्ध करने का यह भारतीय तरीका था।

बहुत से लोगों को बाहर शौच करना अधिक सुविधाजनक लगता था और बंद कमरे में शौच करने में डर लगता था। नायपॉल के जमाने में एक व्यक्ति ने उनसे यहाँ तक कहा था कि उसे बाहर शौच करना इसलिए पसंद था क्योंकि उस समय वह कुदरत के क़रीब होता था जिससे वह उर्दू में अच्छी शायरी लिख पाता था।  

आज से पचास वर्ष पहले जो भी मान्यताएँ रही हों, लेकिन विडंबना यह है कि आज भी लोग खुले में शौच करने के पीछे विचित्र और अनर्गल तर्क देते दिखाई देते हैं। गाँवों में कुछ लोगों को लगता है कि घर में शौचालय बनवाना गंदगी को घर में लाने के समान है।

नायपॉल ने 50 वर्ष पहले ही यह लिखा था कि भारतीयों को पश्चिम की आलोचना करने से पहले उनसे ‘म्युनिसिपल सैनिटेशन’ सीखना चाहिए। इस सिद्धांत को ली कुआन यू ने सिंगापुर में अपनाया था। सिंगापुर को ‘फर्स्ट वर्ल्ड’ देशों की श्रेणी में लाने के लिए ली कुआन यू ने 1959 में स्वयं झाड़ू उठाई थी और सड़कों को साफ़ किया था। यह वही समय रहा होगा जब नायपॉल भारत में भ्रमण कर रहे होंगे और अपने विचारों को पुस्तक के रूप में लिखने के बारे में सोच रहे होंगे।   

ध्यान देने वाली बात यह भी है कि नायपॉल की पुस्तक को भारत की खराब छवि दिखाने के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया था लेकिन खुले में शौच की समस्या के निदान के बारे में सोचना तो दूर उसे समस्या माना ही नहीं जाता था। सरकारों, नीति निर्माताओं और नेताओं को इसका भान ही नहीं था कि गंदगी जनित विभिन्न प्रकार की बीमारी होने पर इलाज में होने वाले खर्च का सीधा संबंध खुले में शौच करने से था।

अर्थशास्त्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त एंगस डीटन के शोध के अनुसार गंदगी में जीने से मनुष्य क़द में छोटा रह जाता है। यूरोप के लोग भारतीयों से लंबे इसलिए भी होते हैं क्योंकि वे सेनिटेशन का ध्यान रखते हैं।  

हमें शौचालय के प्रयोग और स्वछता के महत्व को समझने में 50 वर्षों से अधिक का समय लगा। शौचालय को लेकर मनःस्थिति में परिवर्तन आज से पाँच वर्ष पूर्व देखने को मिला था जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वयं आगे आकर स्वच्छ भारत अभियान का नेतृत्व किया था। स्वच्छ भारत अभियान के पीछे सरकार की मंशा यह थी कि लोगों की मानसिकता में परिवर्तन हो।

जब जनमानस की मानसिकता बदलती है तभी सरकारी योजनाएँ फल देती हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई अपील के फलस्वरूप न केवल लोगों की आदतों में सुधार हुआ बल्कि स्वच्छ भारत अभियान को महिला सशक्तिकरण की दिशा में किए गए सबसे महत्वपूर्ण प्रयासों में गिना जा रहा है। ऐसी अनेक कहानियाँ हैं जहाँ ग्रामीण महिलाओं को शौच के लिए घर से एक किमी से अधिक दूर जाना पड़ता था लेकिन अब घर में शौचालय बनने से उनकी दिक्कतें खत्म हो गई हैं।

शौच जैसे काम के लिए महिलाओं को प्रतिदिन (कभी-कभी दिन में दो बार) घर से दूर एकांत में जाने की अनिवार्यता किसी अनहोनी का बहाना भी हो सकती है। इसका उदाहरण मई 2014 में घटित हुए बदायूं कांड में दो बहनों की मृत्यु के रूप में देखने को मिला था। कारण चाहे जो कुछ भी रहा हो किंतु दोनों बहनें शौच के बहाने ही घर से बाहर गई थीं।

समस्या युवतियों और महिलाओं के घर से बाहर जाने में नहीं है, समस्या यह है कि शौच के लिए उन्हें ऐसे समय की प्रतीक्षा करनी पड़ती है जब अंधकार हो जाए और स्थान ऐसा खोजना पड़ता है जहाँ एकांत हो। अनहोनी और अपराध का यह सर्वाधिक उपयुक्त समय और स्थान होता है। कई बार महिलाओं को इन परिस्थितियों की प्रतीक्षा करने के चलते शौच को काफी देर तक रोककर रखना पड़ता है जिसके कारण शारीरिक पीड़ा भोगनी पड़ती है।

स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत अब तक देश भर में नौ करोड़ से अधिक शौचालय बनाए जा चुके हैं। 2014 में देश में सैनिटेशन कवरेज 39% था जो अब बढ़कर 98% तक पहुँच चुका है। स्वच्छता और शौचालय अब ऐसे विषय बन गए हैं जिनपर बात होती है, फिल्म बनती है, प्रशंसा और आलोचना भी होती है। इस दृष्टि से अब हम खुले में शौच करने के कारण होने वाली बीमारियों के प्रति सचेत हो चले हैं। मानसिकता में यह परिवर्तन जो स्वतंत्रता के सत्तर वर्षों तक नहीं आया था अब दिखने लगा है। और ऐसा भी नहीं कि यह एकदम से आया और इसके लिए केवल नरेंद्र मोदी ही ज़िम्मेदार हैं।

नगरों में शौचालय बनवाने का प्रथम अभियान बिंदेश्वर पाठक ने सुलभ शौचालय बनवा कर चलाया था लेकिन सुलभ की पहुँच नगरों तक ही सीमित थी। सुलभ के बारे में यह जानना भी आवश्यक है कि इसकी प्रेरणा मैला ढोने की प्रथा को समाप्त करने के विचार से मिली थी। जबकि स्वच्छ भारत अभियान समग्रता में नगरों के साथ गाँवों को भी सैनिटेशन की प्रक्रिया से जोड़ता है।

शौचालयों के निर्माण में केंद्र के साथ राज्य सरकारों की 60:40 के अनुपात में सहभागिता सही मायने में ‘कोऑपरेटिव फेडरलिज़्म’ से ‘कंस्ट्रक्टिव फेडरलिज़्म’ की ओर उन्मुख नीति को दर्शाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 2014-19 के मध्य गाँवों में 3,00,000 लोगों को डायरिया और प्रोटीन की कमी से मरने से बचाया जा चुका है।

बीमारियों से ग्रसित न होने से अब लोग अधिक दिनों तक काम कर सकते हैं जिसके कारण उनकी कमाई में वृद्धि हुई है। यूनिसेफ की रिपोर्ट के अनुसार जो गाँव पूरी तरह से खुले में शौच से मुक्त घोषित हो चुके हैं वहाँ एक घर को औसतन ₹50,000 प्रतिवर्ष बचत हो रही है। वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के अनुसार गंदगी के कारण 2011 में भारत की जीडीपी को जहाँ 6% की हानि हो रही थी वहीं 2016 की एक रिपोर्ट के अनुसार यह हानि 5.2% रह गई है।

पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय में सचिव परमेश्वरन अय्यर स्वच्छ भारत अभियान का नेतृत्व कर रहे हैं। अय्यर बताते हैं कि विश्वभर में खुले में शौच करने वालों की संख्या में से 60% लोग भारत में थे जिनमें से लगभग 55 करोड़ जनसंख्या ग्रामीण है। इन 55 करोड़ लोगों में से 45 करोड़ लोग आज की तारीख में खुले में शौच करने की बाध्यता से मुक्त हो चुके हैं। शौचालय निर्माण में महिलाओं ने बढ़चढ़ कर भागीदारी की है। हजारों महिलाओं ने शौचालय निर्माण को रोज़गार के एक अवसर के रूप में लिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

योगेन्द्र यादव, राकेश टिकैत सहित 37 किसान नेताओं पर FIR: गिरफ्तारी पर कोई बात नहीं

राजधानी में हुई हिंसा के बाद एक्शन मोड में आई दिल्ली पुलिस ने 37 नेताओं पर एफआईआर दर्ज की है। इनमें राकेश टिकैत, डाॅ दर्शनपाल, जोगिंदर सिंह, बूटा, बलवीर सिंह राजेवाल और राजेंद्र सिंह के नाम शामिल हैं।

डर के मारे पड़ी फूट या समझदारी: दो ‘किसान’ संगठन हुए आंदोलन से अलग

भारतीय किसान यूनियन 'भानु' के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह और राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के वीएम सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना आंदोलन खत्म करने का एलान किया है।

प्रचलित ख़बरें

लाइव TV में दिख गया सच तो NDTV ने यूट्यूब वीडियो में की एडिटिंग, दंगाइयों के कुकर्म पर रवीश की लीपा-पोती

हर जगह 'किसानों' की थू-थू हो रही, लेकिन NDTV के रवीश कुमार अब भी हिंसक तत्वों के कुकर्मों पर लीपा-पोती करके उसे ढकने की कोशिशों में लगे हैं।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।

अब पूरे देश में ‘किसान’ करेंगे विरोध प्रदर्शन, हिंसा के लिए माँगी ‘माफी’… लेकिन अगला निशाना संसद को बताया

दिल्ली में हुई हिंसा पर किसान नेता 'गलती' मान रहे लेकिन बेशर्मी से बचाव भी कर रहे और पूरे देश में विरोध प्रदर्शन की बातें कर रहे।

26 जनवरी 1990: संविधान की रोशनी में डूब गया इस्लामिक आतंकवाद, भारत को जीतना ही था

19 जनवरी 1990 की भयावह घटनाएँ बस शुरुआत थी। अंतिम प्रहार 26 जनवरी को होना था, जो उस साल जुमे के दिन थी। 10 लाख लोग जुटते। आजादी के नारे लगते। गोलियॉं चलती। तिरंगा जलता और इस्लामिक झंडा लहराता। लेकिन...
- विज्ञापन -

 

किसान नहीं बल्कि पुलिस हुई थी हिंसक: दिग्विजय सिंह ने दिल्ली पुलिस को ही ठहराया दंगों का दोषी

कॉन्ग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि दिल्ली में किसान उग्र नहीं हुए थे बल्कि दिल्ली पुलिस उग्र हुई थी।

‘छात्र’ हैं, ‘महिलाएँ’ हैं, ‘अल्पसंख्यक’ हैं और अब ‘किसान’ हैं: लट्ठ नहीं बजे तो कल और भी आएँगे, हिंसा का नंगा नाच यूँ ही...

हिन्दू वोट भी दे, अपना कामधाम भी करे और अब सड़क पर आकर इन दंगाइयों से लड़े भी? अगर कल सख्त कार्रवाई हुई होती तो ये आज निकलने से पहले 100 बार सोचते।

कल तक क्रांति की बातें कर रहे किसान समर्थक दीप सिद्धू के वीडियो डिलीट कर रही है कॉन्ग्रेस, जानिए वजह

एक समय किसान विरोध प्रदर्शनों को 'क्रांति' बताने वाले दीप सिद्धू को लिबरल गिरोह, कॉन्ग्रेस और किसान नेता भी अब अपनाने से इंकार कर रहे हैं।

ट्रैक्टर रैली में हिंसा के बाद ट्विटर ने किया 550 अकाउंट्स सस्पेंड, रखी जा रही है सबपर पैनी नजर

ट्विटर की ओर से कहा गया है कि इसने उन ट्वीट्स पर लेबल लगाए हैं जो मीडिया पॉलिसी का उल्लंघन करते हुए पाए गए। इन अकाउंट्स पर पैनी नजर रखी जा रही है।

वीडियो: खालिस्तान जिंदाबाद कहते हुए तिरंगा जलाया, किसानों के ‘आतंक’ से परेशान बीमार बुजुर्ग धरने पर बैठे

वीडियो में बुजुर्ग आदमी सड़क पर बैठे हैं और वहाँ से उठते हुए कहते हैं, "ये बोलते है आगे जाओगे तो मारूँगा। अरे क्या गुनाह किया है? हम यहाँ से निकले नहीं? हमारे रास्ते में आ गए।"

किसानों नेताओं ने हिंसा भड़काई, धार्मिक झंडे लहराए और विश्वासघात किया: दिल्ली पुलिस

गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आन्दोलनकारियों के लाल किले पर उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस आज शाम 8 बजे प्रेस वार्ता कर रही है।

घायल पुलिसकर्मियों ने बयान किया हिंसा का आँखों देखा मंजर: लाल किला, ITO, नांगलोई समेत कई जगहों पर थी तैनाती

"कई हिंसक लोग अचानक लाल किला पहुँच गए। नशे में धुत किसान या वे जो भी थे, उन्होंने हम पर अचानक तलवार, लाठी-डंडों और अन्य हथियारों से हमला कर दिया।"

बिहार में टेंपो में सवार 2-3 लोगों ने दिनदहाड़े बीजेपी प्रवक्ता को मारी दो गोली: स्थिति नाजुक

कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य ललन प्रसाद सिंह से प्रभार को लेकर डॉ शम्शी का विवाद चल रहा था। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है।

महाराष्ट्र-कर्नाटक के बीच मराठी भाषी क्षेत्र घोषित हो केंद्र शासित प्रदेश: उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे ने कहा कि कर्नाटक के कब्जे वाले मराठी-भाषी क्षेत्रों को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया जाना चाहिए, जब तक कि सुप्रीम कोर्ट अपना अंतिम फैसला नहीं दे देता।

हिंदू लड़की ने माता-पिता पर लगाया जबरन ईसाई बनाने का आरोप: 9 लोग गिरफ्तार, 2 की तलाश जारी

इंदौर से एक बेहद ही सनसनीखेज मामला सामने आ रहा है, जहाँ एक लड़की ने अपने ही माता-पिता के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है कि वे उसका जबरन धर्मांतरण करवा रहे थे।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
387,000SubscribersSubscribe