Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजसरकारी स्कूल में दलित बच्चियों के कपड़े उतार प्राइवेट पार्ट नोचता था मोहम्मद अली,...

सरकारी स्कूल में दलित बच्चियों के कपड़े उतार प्राइवेट पार्ट नोचता था मोहम्मद अली, शाजिया देती थी धमकी: बाथरूम में मिले कंडोम, 13 का यौन शोषण

मामला तिलहर थाना क्षेत्र के रायखुर्द का है। यहाँ के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाली 13 बच्चियों के अभिभावकों ने आरोप लगाया है कि स्कूल में उनकी बेटियों का यौन शोषण किया जाता है।

उत्तर प्रदेश के शाहजहॉंपुर जिले में 13 बच्चियों के यौन शोषण का मामला सामने आया है। पीड़िताओं में कुछ दलित समुदाय से भी हैं। मामले में मुख्य आरोपित मोहम्मद अली है जो कम्प्यूटर टीचर के पद पर तैनात हैं। इसी स्कूल की सहायक अध्यापिका शाजिया अली पर भी मोहम्मद अली की करतूतों को छिपाने का आरोप है। घटना सोमवार (8 मई, 2023) की है। पुलिस ने बताया कि प्रिंसिपल सहित कुल 3 लोगों पर केस दर्ज कर के जाँच शुरू कर दी गई है।

मुख्य आरोपित मोहम्मद अली को गिरफ्तार कर लिया गया है। अली की बर्खास्तगी की कार्रवाई शुरू हो चुकी है। स्कूल के एक अन्य शिक्षक ने बताया कि मोहम्मद अली सिर्फ हिन्दू छात्राओं को ही निशाना बनाता था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला तिलहर थाना क्षेत्र के रायखुर्द का है। यहाँ के सरकारी स्कूल में पढ़ने वाली 13 बच्चियों के अभिभावकों ने आरोप लगाया है कि स्कूल में उनकी बेटियों का यौन शोषण किया जाता है। स्कूल में कम्प्यूटर की क्लास लेने वाले मोहम्मद अली पर आरोप है कि वह बच्चियों के प्राइवेट पार्ट से छेड़छाड़ करता है। स्कूल के बाथरूम से बाल, ब्लेड और कंडोम भी मिलने की बात कही जा रही है। स्कूल की बच्चियों बाथरूम जाने से भी डरती थीं।

इसी स्कूल की सहायक टीचर शाजिया पर भी इस बात का दबाव बनाने का आरोप है कि वो अपने साथ होने वाले यौन उत्पीड़न के बारे में किसी को कुछ न बताएँ।

पुलिस ने इस मामले में मोहम्मद अली और शाजिया के साथ स्कूल प्रिंसिपल अनिल कुमार को भी नामजद किया है। अनिल कुमार पर आरोप है कि उन्होंने शिकायत होने के बावजूद शाजिया और मोहम्मद अली पर कोई कार्रवाई नहीं की। इसी स्कूल की एक अन्य पर महिला टीचर नीरजा ने इस घटना को सत्य बताया है। उन्होंने कहा कि बच्चियों ने सबसे पहले उन्हें ही अपने साथ हो रहे दुर्व्यवहार की जानकारी दी। महिला टीचर के मुताबिक, स्कूल में ‘लव जिहाद’ चलाया जा रहा था। आरोप है कि मोहम्मद अली अपनी बात न मानने पर बच्चियों को फेल करने की भी धमकी देता था।

आरोप लगाने वाली अध्यापिका के मुताबिक मोहम्मद अली न सिर्फ बच्चियों के प्राइवेट पार्ट को छूता था उसे नोचता-खसोटता भी था। पीड़ित बच्चियाँ अलग-अलग क्लास की हैं। एक पीड़िता की माँ ने बताया कि उनकी बेटी का कच्छा निकाल कर आरोपित ने किसी से कुछ भी न बताने की धमकी दी। आखिरकार इस मामले में ग्राम प्रधान की तहरीर पर केस दर्ज कर लिया गया है। तिलहर के डिप्टी SP प्रियांक जैन के मुताबिक मामले की जाँच की जा रही है, जिसके बाद कानूनी कार्रवाई की जाएगी। आरोपितों पर 354, 352, 120 B, SC/ST और पॉक्सो एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

बेसिक शिक्षा अधिकारी शाहजहाँपुर कुमार गौरव ने बताया कि मोहम्मद अली को बरख़ास्त करने की भी प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। वहीं अन्य नामजद प्रिंसिपल अनिल कुमार और अध्यापिका शाजिया को सस्पेंड कर दिया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -