Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजकानपुर: 3 मदरसों के 53 बच्चे मिले कोरोना पॉजिटिव, जमातियों से फैले संक्रमण ने...

कानपुर: 3 मदरसों के 53 बच्चे मिले कोरोना पॉजिटिव, जमातियों से फैले संक्रमण ने मचाई तबाही

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में शामिल होने के बाद जमाती शहर की विभिन्न मस्जिदों और मदरसों में ठहरे थे। ये जमाती मदरसों में दीनी तालीम देने के लिए जाते थे। जमातियों के संक्रमित होने के बाद कानपुर में भी कई जमाती पॉजिटिव पाए गए। जिसके बाद उनके सम्पर्क मे रहने वाले लोगों की जाँच की गई। इनमें बड़े पैमाने पर मदरसें के छात्रों में कोराना संक्रमण पाया गया।

देश में हर जगह कोरोना संक्रमण जिस तरह से फैल रहा है उसको नियंत्रण करना बहुत ही मुश्किल हो रहा है। यह मामला यूपी का है। जहाँ कानपुर जिले में 3 मदरसों के 53 बच्चे कोरोना वायरस से संक्रमित मिले हैं। इन सभी बच्चों की उम्र 10 से 20 साल के बीच की है। जिसकी वजह से यहाँ संक्रमितों का आँकड़ा बढ़ कर 170 पहुँच गया हैं। आए दिन बढ़ते मामलों के कारण कानपुर की स्थिति बद से बदत्तर होती चली जा रही हैं। उत्तर प्रदेश में अब कानपुर शहर कोरोना हॉटस्पॉट के रूप में उभरा है।

छोटे बच्चें भी आए कोरोना के चपेट में

जिला स्वास्थ्य और प्रशासनिक अधिकारियों के अनुसार, दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में शामिल होने के बाद जमाती शहर की विभिन्न मस्जिदों और मदरसों में ठहरे थे। ये जमाती मदरसों में दीनी तालीम देने के लिए जाते थे। मरकज के जमातियों के संक्रमित होने के बाद कानपुर में भी कई जमाती पॉजिटिव पाए गए। जिसके बाद उनके सम्पर्क मे रहने वाले लोगों की जाँच की गई। इनमें बड़े पैमाने पर मदरसें के छात्रों में कोराना संक्रमण पाया गया।

रिपोर्ट के अनुसार, मजिस्ट्रेट ब्रह्म देव तिवारी का कहना है कि कानपुर सिटी में कई जिले हॉटस्पॉट हैं, लेकिन पिछले 12 दिनों में तीन मदरसों से बड़ी संख्या में मामले सामने आए हैं। संक्रमित लोगों में बहुत छोटे बच्चे हैं। जो इन मदरसों में पढ़ रहे हैं।

कुली बाजार क्षेत्र बन सकता है सबसे बड़ा हॉटस्पॉट

साथ ही डीएम ने कहा कि तीन मदरसों में से सबसे ज्यादा मामले कुली बाजार मदरसा में सामने आए हैं। इस मदरसे में ज्यादातर छात्र बिहार, झारखंड के रहने वाले है। यहाँ लगभग 38 कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके बाद एक मदरसा हाते वाली मस्जिद के पास है, जो तबलीगी जमात वालों के कनेक्शन में रहने के कारण एक हॉटस्पॉट रूप में उभरा है। इसमे राहत की बात यह है कि नए पॉजिटिव केसेस में अभी किसी की हालत गंभीर नही है। राज्य निगरानी अधिकारी विकासेंदु अग्रवाल के अनुसार, कुली बाज़ार लखनऊ के सदर क्षेत्र के बाद राज्य का सबसे बड़ा हॉटस्पॉट बन सकता है, जहाँ से 80 से अधिक सकारात्मक मामले सामने आए हैं।

अस्पताल प्रशासन के साथ जमातियों द्वारा की गई बदसुलूकी

इससे पहले कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती जमातियों का अस्पताल प्रशासन के साथ की गई बदसुलूकी की हरकतें भी सामने आयी थी। जहाँ उनकी मनमानी और उपद्रव के बारे में बताते हुए मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. आरती लालचंदानी ने कहा था कि बीते दिनों जमातियों ने वार्ड बॉय के साथ मारपीट की। खाने की थाली में लात मार दी। क्योंकि वें शाकाहारी खाने की जगह बिरयानी और नॉनवेज माँग रहे थे।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में अभी तक 1873 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जबकि 30 लोगों की इस जानलेवा वायरस से मौत हो गई। इनमें से 327 मरीज उपचार के बाद स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं। वहीं कानपुर में अब 170 लोग कोरोना से संक्रमित हैं। जिसमें सात लोग स्वस्थ हो चुके जबकि तीन लोगों की मौत हो गई है। फिलहाल इस वक़्त यूपी में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक 372 मामले आगरा से हैं। आगरा में 49 लोग पूर्णतया स्वस्थ हो चुके हैं जबकि दस लोगों की मौत हो गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -