Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजहथौड़े से फोड़ा सिर, गला काटा, चेहरा पत्थरों से कूचा: कर्नाटक में बहनों ने...

हथौड़े से फोड़ा सिर, गला काटा, चेहरा पत्थरों से कूचा: कर्नाटक में बहनों ने ही सुपारी दे भाई को मरवाया, 4 कातिलों को दिए थे ₹50000

पति को छोड़कर अपने भाई के घर रहने वाली मिनाक्षी और अनीता ने अपने भाई की सुपारी देकर उसे मरवा डाला। दोनों बहनों के कथिततौर पर दूसरे आदमियों से नाजायज संबंध थे और उनका भाई उन्हें इन्हीं अवैध रिश्तों पर टोकता था।

कर्नाटक के कलबुर्गी में एक युवक की हत्या के आरोप में उसकी 2 बहनों को गिरफ्तार किया गया है। आरोप है कि दोनों बहनों ने भाई द्वारा अपनी निजी जिंदगी में दखल देने के कारण उसे सुपारी दे कर रास्ते से हटवा दिया। पुलिस ने सुपारी ले कर हत्या करने के आरोपित 4 अन्य लोगों को भी गिरफ्तार कर लिया है। मृतक का शव 29 जुलाई 2022 को अलंद रोड पर मिला था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मृतक का नाम नागराज था जिसकी उम्र 29 साल थी। आरोपित दोनों सगी बहनें मिनाक्षी और अनीता अपने पतियों से अलग हो कर नागराज और उसकी माँ के साथ रहती थीं। बताया जा रहा है कि मृतक नागराज शक था कि उसकी बहनें किसी और के साथ रिलेशनशिप में हैं। इसके चलते वह दोनों बहनों पर कड़ी नजर रखता था। वह लगातार अपनी बहनों से उनके पार्टनरों से शादी कर के उनके साथ रहने या उन्हें छोड़ देने का दबाव बनाता था। इसी बात पर आए दिन विवाद होता रहता था।

एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक आरोपित अविनाश से मृतक की बहन के अवैध संबंध थे। बताया जा रहा है कि आए दिन के झगड़े और टोका-टाकी से नाराज हो कर दोनों बहनों ने अपने भाई को रास्ते से हटाने का प्लान बना डाला। दोनों ने इस कत्ल के लिए अविनाश को 50 हजार रुपए भी दिए। अविनाश ने अपने साथ अपने साथियों आसिफ़, मोहसिन और रोहित को भी मिला लिया।”

बताया जा रहा है कि इन चारों आरोपितों ने पहले नागराज के सिर पर बीयर की बोतल से वार किया। इसके बाद सिर पर हथौड़े से चोट की। बाद में नागराज का गला काटा फिर उसकी पहचान बदलने के लिए उसके सिर पर भारी पत्थर से वार कर के चेहरे को कुचल डाला। पुलिस के मुताबिक बाद में भाड़े के चारों हत्यारों ने मृतक का शव ऑटोरिक्शा में डाल कर शहर से बाहर फेंक दिया और फरार हो गए थे।

पुलिस ने मृतक नागराज के कपड़ों से उसकी पहचान करवाई। बाद में बहनों की कॉल डिटेल निकलवाने पर पुलिस भाड़े के चारों हत्यारों तक पहुँची। आरोपित दोनों बहनों की कत्ल की सुपारी लेने वालों से लगातार बात हुई थी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपातकाल तो उत्तर भारत का मुद्दा है, दक्षिण में तो इंदिरा गाँधी जीत गई थीं’: राजदीप सरदेसाई ने ‘संविधान की हत्या’ को ठहराया जायज

सरदेसाई ने कहा कि आपातकाल के काले दौर में पूरे देश पर अत्याचार करने के बाद भी कॉन्ग्रेस चुनावों में विजयी हुई, जिसका मतलब है कि लोग आगे बढ़ चुके हैं।

तिब्बत को संरक्षण देने के लिए अमेरिका ने बनाया कानून, चीन से दो टूक – दलाई लामा से बात करो: जानिए क्या है उस...

14वें दलाई लामा 1959 में तिब्बत से भागकर भारत आ गये, जहाँ उन्होंने हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में निर्वासित सरकार स्थापित की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -