Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाजदाढ़ी कटाना इस्लाम विरोधी.. नौकरी छोड़ देते, शरीयत में ये गुनाह है: SI इंतसार...

दाढ़ी कटाना इस्लाम विरोधी.. नौकरी छोड़ देते, शरीयत में ये गुनाह है: SI इंतसार अली को देवबंदी उलेमा ने दिया ज्ञान

"मु###न का दाढ़ी ना रखना भी जुर्म है और दाढ़ी रखकर कटवा देना और बड़ा जुर्म है। दाढ़ी कटाकर नौकरी या अपने कारोबार को अहमियत देना गलत है। इस्लाम और सुन्नत को तवज्जो ना देकर के किसी कारोबार को करना मैं समझता हूँ बिल्कुल गलत है।"

पिछले दिनों अपनी दाढ़ी को लेकर चर्चा में आने वाले बागपत जिले के रमाला थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर इंतसार अली एक बार फिर सुर्खियों में हैं। इस बार खबरों में होने की वजह उनका निलंबन या बहाली नहीं है बल्कि एक देवबंदी उलेमा का बयान है। इस बयान में उलेमा ने कहा है कि इंतसार अली ने दाढ़ी कटवाकर शरीयत और इस्लाम विरोधी काम किया है। उलेमा ने यह भी कहा कि सुन्नत और इस्लाम को छोड़कर कारोबार चुनना मजहब का अपमान है।

सहारनपुर स्थित दारुल उलूम देवबंद के उलेमा लुत्फुर रहमान ने इस पूरे मामले पर अपना बयान दिया है। उनका कहना है कि दरोगा को दाढ़ी नहीं कटवानी चाहिए थी चाहे तो वह नौकरी छोड़ देते।

मौलाना ने दाढ़ी कटवाने को नाजायज बताया है। साथ ही कहा है कि मुस्लिम अगर दाढ़ी नहीं रखता है तो शरीयत के हिसाब से जुर्म है लेकिन अगर उसने रखकर दाढ़ी कटवा दी है तो यह उससे भी बड़ा गुनाह है।

उनका कहना है कि यदि बात शरीयत और सुन्नत की आती है तो ऐसे मौके पर दाढ़ी नहीं बल्कि नौकरी ही छोड़ देनी चाहिए थी। शरीयत के हिसाब से उन्होंने बहुत बड़ा जुर्म किया है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा:

“मैं यही कहूँगा कि मु###न का दाढ़ी ना रखना भी जुर्म है और दाढ़ी रखकर कटवा देना और बड़ा जुर्म है। दाढ़ी कटाकर नौकरी या अपने कारोबार को अहमियत देना गलत है। इस्लाम और सुन्नत को तवज्जो ना देकर के किसी कारोबार को करना मैं समझता हूँ बिल्कुल गलत है। दूसरी बात यह है कि ऐसे मौके पर अगर कहीं ऐसी बात आती है तो दाढ़ी नहीं बल्कि नौकरी छोड़ देनी चाहिए।”

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के बागपत जिला स्थित रमाला थाने में इंतसार अली बतौर सब इंस्पेक्टर (एसआई) तैनात थे। उन्होंने बिना अनुमति पिछले कुछ समय से लंबी दाढ़ी रखी हुई थी नतीजतन उन्हें पुलिस अधीक्षक ने निलंबित कर दिया था। इसके बाद उन्हें पुलिस लाइन भेज दिया गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उन्हें कई बार दाढ़ी रखने के लिए विभाग से अनुमति लेने का आदेश दिया गया था। इसके बावजूद उन्होंने बिना किसी भी तरह की अनुमति लिए पिछले काफी समय से दाढ़ी रखी थी। बाद में जब उन्हें निलंबित किया गया तो अगले ही दिन वह दाढी कटवाकर वापस काम पर आ गए। यह देख एसपी अभिषेक सिंह ने भी उनका निलंबन वापस ले लिया और उनकी थाने में बहाली कर दी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2047 तक भारत को बनाना था इस्लामी राज्य, गृहयुद्ध के प्लान पर चल रहा था काम: राजस्थान में जातीय संघर्ष भड़का PFI का सरगना...

PFI 'मिशन 2047' की तैयारी में था, अर्थात स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूरे होने तक भारत को एक इस्लामी मुल्क में तब्दील कर देना, जहाँ शरिया चले।

बैन लगने के बाद भी PFI को Twitter का ब्लू टिक: भारत और हिंदू-विरोधी रवैया है इस सोशल मीडिया साइट की पहचान, लग चुकी...

देश विरोधी गतिविधियों के कारण सरकार द्वारा प्रतिबंध लगाने के बावजूद ट्विटर कर्नाटक PFI के हैंडल को वैरिफाइड बनाए रखा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe