Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजआगरा में बस हाइजैक करने वाले को मुठभेड़ में लगी गोली, UP पुलिस ने...

आगरा में बस हाइजैक करने वाले को मुठभेड़ में लगी गोली, UP पुलिस ने 24 घंटे के भीतर किया गिरफ्तार

वह पुलिस से बच कर आगरा से बाहर भागना चाहता था। क्राइम ब्रांच, एसओजी और कई थानों की पुलिस ने उसे घेर लिया। उसने पुलिस पर गोली चला दी। पुलिस की जवाबी गोली प्रदीप गुप्ता के पैर में गोली लगी और वह...

मंगलवार (18 अगस्त 2020) को प्रदीप गुप्ता नाम के व्यक्ति ने आगरा दक्षिणी बाईपास से 34 यात्रियों को ले जा रही बस का अपहरण कर लिया था। गुरूवार की सुबह एसओजी, क्राइम ब्रांच और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में आरोपित प्रदीप के पैर में गोली लगी और उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

इस अभियान में यूपी पुलिस का एक सिपाही सुदर्शन घायल भी हुआ था। आरोपित प्रदीप ने पूछताछ में बताया कि उसे बस मालिक से 65 लाख रुपए लेने थे लेकिन कुछ समय पहले उसकी मौत हो गई थी। यह रुपए वसूलने के लिए उसने बस कब्ज़े में लेने की कोशिश की थी।   

पूरे मामले में सबसे उल्लेखनीय बात यह रही कि पुलिस ने घटना के एक दिन के भीतर ही आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित को गिरफ्तार करने के दौरान उत्तर प्रदेश पुलिस के सामने एनकाउंटर जैसे हालात बन गए। लेकिन पुलिस तैयार थी और अंत में आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया।

मंगलवार को मुख्य आरोपित प्रदीप और उसके साथियों ने यात्रियों से भरी बस का अपहरण किया था। बुधवार (19 अगस्त 2020) की सुबह बस के चालाक और परिचालक ने मालपुरा थाने में इस घटना की जानकारी दी।   

परिचालक रामविलास की शिकायत के आधार पर पुलिस ने अज्ञात आरोपित पर डकैती और अपहरण की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया। इसके बाद आगरा और लखनऊ की पुलिस सक्रिय हुई। जाँच पड़ताल के दौरान खाली बस इटावा में मिली और वहाँ यह भी पता चला कि सवारियों को दूसरी बस में बैठा दिया गया है। वह बस छतरपुर (मध्य प्रदेश) पहुँच गई थी।

उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा की गई शुरूआती खोजबीन में जैतपुर के रहने वाले प्रदीप गुप्ता का नाम सामने आया। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर फिरोजाबाद, आगरा और इटावा में उसकी तलाश की।   

प्रदीप गुप्ता की सीसीटीवी फुटेज (साभार – हिंदुस्तान टाइम्स)

उसी दिन शाम के वक्त प्रदीप गुप्ता की एक गाड़ी कचौरा घाट चित्राहट में मिली। यह बात भी सामने आई कि साल 2018 के दौरान प्रदीप पर समानांतर आरटीओ कार्यालय चलाने का आरोप था और वह इस मामले में जेल भी जा चुका था।

गुरूवार (20 अगस्त 2020) की सुबह लगभग 5 बजे आरोपित प्रदीप गुप्ता अपने साथी यतेन्द्र यादव फतेहाबाद के भलोखरा चौराहा के नज़दीक बाइक से जा रहा था। वह पुलिस से बच कर भाग रहा था, इसलिए वह आगरा से बाहर जाना चाहता था। 

तभी मौके पर उसे क्राइम ब्रांच, एसओजी और कई थानों की पुलिस ने घेर लिया। खुद को पुलिस से घिरा हुआ देख कर उसने पुलिस पर गोली चला दी। इसके बाद पुलिस ने भी जवाब में गोली चलाई, जिसके बाद प्रदीप गुप्ता के पैर में गोली लगी और वह बाइक से गिर पड़ा। इस दौरान उसका साथी घटनास्थल से फ़रार हो गया और पुलिस ने मौके से तमंचा और चोरी की बाइक बरामद की। घटना की जानकारी मिलते ही एसएसपी बबलू कुमार भी वहाँ पहुँचे।   

फ़िलहाल आरोपित को नज़दीक के एसएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। पूछताछ में प्रदीप ने पुलिस को कई बातें बताई। उसने कहा वह बस मालिक अशोक अरोड़ा को कई सालों से जानता था। वह अशोक अरोड़ा की लगभग साड़ी बसों का टैक्स जमा करता था। प्रदीप ने कई बार कहा था कि उसे उसके 65 लाख रुपए चाहिए। लेकिन हाल ही में बस मालिक की मृत्यु हो गई और उसके रुपए डूब गए।   

फिर उसने बस को कब्ज़े में लेने की योजना बनाई। उसने बस को पहले सैंया टोल पर पकड़ने के प्रयास किया था लेकिन बस गुरुग्राम चली गई थी। वह अपने साथियों के साथ वहाँ भी पहुँच गया लेकिन वहाँ उसे सफलता नहीं मिली। फिर उसने तय किया कि आगरा में बस का अपहरण करेगा। अंत में फाइनेंसकर्मी बन कर उसने बस का अपहरण किया। इसके बाद उसने यात्रियों को दूसरी बस में बैठा दिया और अपहरण की गई बस को इटावा में खड़ा कर दिया।   

जब उसे जानकारी हुई कि इस मामले में पुलिस उसके पीछे पड़ चुकी है तब उसने भागना शुरू किया। लेकिन पुलिस ने समय रहते कार्रवाई की और एक दिन होते ही आरोपित को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe