Friday, July 1, 2022
Homeदेश-समाजउत्तर प्रदेश: राजकुमार बन आसिफ ने नेहा से की शादी, सच्चाई उजागर होने पर...

उत्तर प्रदेश: राजकुमार बन आसिफ ने नेहा से की शादी, सच्चाई उजागर होने पर मारी गोली

बदायूँ के सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के निवासी आसिफ ने डेढ़ साल पहले दिल्ली में नेहा से मिला था। जहाँ वह काम करता था। उसने एक हिंदू के रूप में नेहा से अपना परिचय दिया था और अपना नाम राजकुमार बताया था। दोनों में प्यार हो गया और उन्होंने एक-दूसरे से शादी करने का फैसला किया।

उत्तर प्रदेश के बदायूँ जिले की हिंदू लड़की नेहा की 25 सितंबर (शुक्रवार) को उसके पति आसिफ ने गोली मार कर हत्या कर दी थी। नेहा की हत्या ने परिवार वालों को गहरे सदमे में छोड़ दिया है। छोटी बहन की मौत ने भाई को अंदर ही अंदर तोड़ दिया है। वहीं घर वालों के खिलाफ जा कर शादी करने की वजह से नाराज भाई ने कहा, “नेहा मेरे लिए उस दिन मर गई थी जब वह उस लड़के से शादी करने के लिए हमारी मर्जी के खिलाफ गई थी, देखो उसने (आसिफ) क्या किया, उसने उसे मार डाला।”

मृतक के भाई से मिलने वाले एक बजरंग दल के कार्यकर्ता ने ऑपइंडिया को बताया कि नेहा का परिवार उसकी मौत से बेहद दुखी है। पूरा घर निराशा में डूब हुआ है। एक्टिविस्ट विवेक मिश्रा ने हमें बताया कि नेहा के भाई ने इस मामले में मीडिया से बात करने से भी इनकार कर दिया है। वह सिर्फ यही कहते हैं कि, “मैंने उसके साथ सभी संबंध तोड़ दिए थे, मैं उसके बारे में बात नहीं करना चाहता।” विवेक मिश्रा ने पुष्टि की कि नेहा के माता-पिता की मृत्यु बहुत पहले हो गई थी और उसके आशीष और राज दो भाई हैं।

कथित तौर पर यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना उत्तर प्रदेश में चल रहे लव जिहाद रैकेट से जुड़ा है। बदायूँ पुलिस ने 27 सितंबर (रविवार) को आरोपित आसिफ को गिरफ्तार किया था। उसके अगले ही दिन पुलिस ने उसके साथी तौफीक उर्फ ​​बबलू को भी गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

एसओ सुधाकर पांडे के मुताबिक, आसिफ ने अपने दोस्त तौफीक उर्फ ​​बबलू की हत्या की योजना बनाने में मदद ली थी। आसिफ ने अपना जुर्म कबूलते हुए बताया था कि अपनी पत्नी नेहा से छुटकारा पाने और साले को हत्या में फँसाने के लिए उसने यह षड्यंत्र रचा था।

गौरतलब है कि बदायूँ के सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के निवासी आसिफ ने डेढ़ साल पहले दिल्ली में नेहा से मिला था। जहाँ वह काम करता था। उसने एक हिंदू के रूप में नेहा से अपना परिचय दिया था और अपना नाम राजकुमार बताया था। दोनों में प्यार हो गया और उन्होंने एक-दूसरे से शादी करने का फैसला किया। नेहा का भाई शादी के पक्ष में नहीं था, लेकिन नेहा ने अपने परिवार की इच्छाओं के खिलाफ आसिफ उर्फ ​​राजकुमार से शादी कर ली।

कुछ दिनों के बाद नेहा के सामने जब आसिफ की पहचान सामने आई तो दोनों के बीच विवाद होने लगे थे। इसके बाद आसिफ ने उसकी हत्या करने का मन बना लिया। इसके लिए बाकायदा उसने प्लानिंग भी की। प्लानिंग के तहत आसिफ पहले नेहा को अपने साथ बदायूँ ले गया और योजनानुसार मौका देखकर उसे गोली मार दी। नेहा को मौत के घाट उतारने के बाद उसे अस्पताल ले गया, जहाँ डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पुलिस पूछताछ में उसने हत्या का पूरा आरोप नेहा के भाई पर लगा दिया। उसने पुलिस से कहा कि नेहा का भाई रवि उनकी शादी से खुश नहीं था, इसलिए उसने अपनी बहन की गोली मारकर हत्या कर दी।

उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश में आए दिन लव जिहाद के मामले सामने आ रहे है। इसका मुख्य गढ़ कानपुर उभरकर सामने आया है। जहाँ लड़के हिंदू नाम रख कर भोली-भाली हिंदू लड़कियों को अपना शिकार बनाते है और फिर जबरन उनसे इस्लाम धर्म कबूल करवाते है। पिछले 2 महीनों में हमने लगभग ऐसे 20 मामलों की रिपोर्ट की है।

कानपुर पुलिस ने इन मामलों की जाँच के लिए 8 सदस्यीय विशेष दल का भी गठन किया है। हाल ही में SIT को इन सब के पीछे पाकिस्तानी संगठन का भी पता चला है जो मुस्लिम लड़कों को लव जिहाद के लिए फंड देने में मदद करते है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,242FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe