Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजमुख्तार अंसारी और मछली माफ़िया गैंग की सम्पत्ति ढोल-बाजे के साथ कुर्क, UP पुलिस...

मुख्तार अंसारी और मछली माफ़िया गैंग की सम्पत्ति ढोल-बाजे के साथ कुर्क, UP पुलिस ने 47 के हथियार लाइसेंस निरस्त किए

निषाद ने न तो किसी लाइसेंस के लिए आवेदन किया था और न ही अपने किसी व्यावसायिक प्रतिष्ठान का पंजीकरण कराया था। वह कथित तौर पर अंसारी के सक्रिय समर्थन से कारोबार चला रहा है और अंसारी को मुनाफे का हिस्सा देता था।

उत्तर प्रदेश के जौनपुर में अपराधियों के खिलाफ ‘ऑपरेशन क्लीन’ के तहत बाहुबली मुख्तार अंसारी और उसके करीबियों पर शिकंजा कसने लगा है। कुछ दिनों पूर्व नगर कोतवाली से गिरफ्तार किए गए मछली व्यवसाई व माफिया मुख्तार अंसारी के करीबी रविंद्र निषाद की दूसरी संपत्ति को आज मुनादी बजाकर कुर्क करने की कार्रवाई की गई है।

ऑपरेशन क्लीन के तहत मुख्तार अंसारी गैंग पर कार्रवाई करते हुए प्रशासन ने अब तक कुल 47 लोगों के हथियार लाइसेंस निरस्त कर दिए हैं। वहीं, भू-माफियाओं के खिलाफ व्यापक अभियान चलाते हुए सरकारी विभाग के जमीनों के भूलेख की समीक्षा का क्रम भी जारी है।

उत्तर प्रदेश सरकार डॉन मुख्तार अंसारी पर कड़ी कार्रवाई कर रही है। गत शनिवार को जौनपुर जिला प्रशासन ने मुख्तार अंसारी के करीबी सहयोगी मछली माफिया रविन्द्र निषाद की संपत्तियों को कुर्क करने का आदेश जारी किया था।

तहसीलदार को निषाद की संपत्तियों को सील करने का काम सौंपा गया था और जौनपुर पुलिस की मदद से सरकार द्वारा निषाद के व्यापारिक प्रतिष्ठानों को सील कर दिया गया। पत्रकार पंकज झा द्वारा साझा किए गए एक वीडियो से पता चला है कि जौनपुर प्रशासन स्थानीय बैंड-बाजे के साथ घोषणा कर संपत्ति सील कर रही है।

अवैध मछली का कारोबार

रिपोर्ट्स के अनुसार, 3 जुलाई को, यूपी पुलिस ने जौनपुर के जोगियापुर क्षेत्र में आंध्र प्रदेश से अवैध रूप से ले जाए गए मछली से भरे एक ट्रक को पकड़ा था। मछली माफिया रविन्द्र निषाद और उनके आंध्र के सहयोगी बी नारंग राव को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने जानकारी दी है कि माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के संरक्षण में सालों से निषाद करोड़ों रुपए का अवैध मछली का कारोबार चला रहा है।

आरोप है कि रविंद्र निषाद कुछ हिस्सा अंसारी गैंग को भी देता था, जिस पर पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई करते हुए उसे जेल भेज दिया था।

निषाद ने न तो किसी लाइसेंस के लिए आवेदन किया था और न ही अपने किसी व्यावसायिक प्रतिष्ठान का पंजीकरण कराया था। वह कथित तौर पर अंसारी के सक्रिय समर्थन से कारोबार चला रहा है और अंसारी को मुनाफे का हिस्सा देता था।

जाँच के दौरान निषाद की अवैध रूप से अर्जित संपत्ति के प्रारंभिक विवरण के आधार पर, डीएम जौनपुर ने 3.71 करोड़ की संपत्ति की कुर्की का आदेश दिया था। कुर्की के खिलाफ अपील करने के लिए निषाद को आदेश की तारीख से तीन महीने का समय दिया गया है। सील की गई संपत्तियों में बुलेट बाइक, 2 पिकअप ट्रक, एक घर, दुकान और एक निर्माणाधीन शॉपिंग मॉल, बैंक खातों के अलावा शामिल हैं।

हथियार लाइसेंस रद्द

यूपी पुलिस ने जौनपुर के अलावा गाजीपुर में भी मुख्तार अंसारी के माफिया साम्राज्य के खिलाफ कार्रवाई की है। रिपोर्ट्स के अनुसार, अंसारी के कम से कम 4 ज्ञात सहयोगियों के हथियार लाइसेंस रद्द कर दिए गए हैं। प्रशासन ने अंसारी के शूटर बृजेश सोनकर की 58 लाख रुपए की संपत्ति को भी सील कर दिया है।

गत 5 जुलाई को, कथित रूप से अवैध भूमि पर निर्मित एक गोदाम को भी ध्वस्त कर दिया गया था। इसका निर्माण कथित तौर पर मेसर्स विकास कंस्ट्रक्शंस के नाम से किया जा रहा था, जहाँ अंसारी की पत्नी अफसा बेगम और बहनोई आतिफ राजा शेयरहोल्डर थे। 12 जुलाई को, अंसारी के गिरोह के कम से कम 20 सदस्यों पर गैंगस्टर अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया।

गाजीपुर के डीएम ओपी आर्य ने भी कहा था कि अंसारी और उनके सहयोगियों के अवैध कब्जे से 33.8 करोड़ रुपए की संपत्ति पहले ही मुक्त हो चुकी है। उनके लाइसेंस रद्द करने के बाद कम से कम 33 हथियार जब्त किए गए हैं और जमा किए गए हैं। अंसारी के साथ मिलकर अवैध कारोबार चलाने वाले कम से कम 17 बदमाशों की पहचान की गई है और उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

कौन हैं मुख्तार अंसारी?

अंसारी एक नेता और माफिया डॉन है। वह पहले बहुजन समाज पार्टी से जुड़ा था। अंसारी उत्तर प्रदेश की मऊ विधानसभा सीट से रिकॉर्ड पाँच बार विधायक रहा है। उसे वर्ष 2010 में बसपा से निष्कासित कर दिया गया था, लेकिन बाद में फिर से प्रवेश दे दिया गया। इसके बाद अंसारी ने मऊ से 2017 का विधानसभा चुनाव जीता था।

मुख्तार अंसारी भाजपा नेता कृष्णानंद राय की हत्या के आरोप में जेल जा चुका है। लेकिन 2019 में गवाहों के मुकर जाने के बाद सीबीआई कोर्ट ने उसे बरी कर दिया। अंसारी के दादा मुख्तार अहमद अंसारी इंडियन नेशनल कॉन्ग्रेस और मुस्लिम लीग के अध्यक्ष थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ममता बनर्जी महान महिला’ – CPI(M) के दिवंगत नेता की बेटी ने लिखा लेख, ‘शर्मिंदा’ पार्टी करेगी कार्रवाई

माकपा नेताओं ने कहा ​कि ममता बनर्जी पर अजंता बिस्वास का लेख छपने के बाद से वे लोग बेहद शर्मिंदा महसूस कर रहे हैं।

‘मस्जिद के सामने जुलूस निकलेगा, बाजा भी बजेगा’: जानिए कैसे बाल गंगाधर तिलक ने मुस्लिम दंगाइयों को सिखाया था सबक

हिन्दू-मुस्लिम दंगे 19वीं शताब्दी के अंत तक महाराष्ट्र में एकदम आम हो गए थे। लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक इससे कैसे निपटे, आइए बताते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,404FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe