Wednesday, April 17, 2024
Homeदेश-समाजविदेश से आए 18 लोग फैला रहे थे मजहबी कट्टरता, यूपी पुलिस ने भगाया...

विदेश से आए 18 लोग फैला रहे थे मजहबी कट्टरता, यूपी पुलिस ने भगाया अपने देश

जिन 18 विदेशी मुस्लिमों को अपने देश भेजा गया है, उनमें 6 मलेशिया के थे, 7 म्यांमार के थे और 5 इंडोनेशिया के थे। ये सभी टूरिस्ट वीजा पर लेकर भारत आ गए थे और यहाँ मजहबी कट्टरता फैला रहे थे।

कमलेश तिवारी हत्याकांड के बाद उत्तर प्रदेश के बिजनौर से 2 मौलानाओं को गिरफ़्तार किया गया है। जैसा कि ख़बरों में भी आ चुका है, उन्होंने पैगम्बर मुहम्मद के अपमान का आरोप लगाते हुए खुले तौर पर तिवारी की हत्या की धमकी दी थी। अब बिजनौर में इस्लामिक कट्टरवाद के ख़िलाफ़ कार्रवाई करते हुए प्रशासन ने कड़ा क़दम उठाया है। बिजनौर की मस्जिदों में कई ऐसे विदेशी मुस्लिम आकर रह रहे थे, जो इस्लामिक कट्टरपंथी विचारधारा के प्रचार-प्रसार में लगे हुए थे। प्रशासन ने इन सबको वापस इनके देश भगा दिया है। यूपी सरकार के आदेश पर ये कार्रवाई की गई है।

केंद्र सरकार भी भारत में अवैध रूप से रह रहे विदेशियों को लेकर सख्त है और उसी दिशा में एनआरसी लाया गया है। हालाँकि, इसे उत्तर-पूर्व के अलावा अभी भारत के अन्य राज्यों में लागू नहीं किया गया है और दिल्ली, यूपी और बंगाल में भी इसे लाने की माँग उठती रही है। जिन 18 विदेशी मुस्लिमों को अपने देश भेजा गया है, उनमें 6 मलेशिया के थे, 7 म्यांमार के थे और 5 इंडोनेशिया के थे। ये सभी टूरिस्ट वीजा पर भारत आ गए थे और यहाँ मजहबी कट्टरता फैला रहे थे। सूचना मिली थी कि किरतपुर के मोहल्ला काजीयान में 11 विदेशी मुस्लिम और नजीबाबाद के पठानपुरा की मरकज़ मस्ज़िद में 7 विदेशी मुस्लिम जमात के नाम पर रुके थे।

कोतवाली शहर के मुस्तफाबाद गाँव में भी इंडोनेशिया से आए कुछ लोग मजहबी प्रचार-प्रसार करते मिले थे। एसपी संजीव त्यागी ने साफ़ कर दिया है कि अगर टूरिस्ट वीजा पर यहाँ आए किसी भी विदेशी द्वारा मजहबी प्रचार-प्रसार करने की सूचना मिली तो उन्हें निकाल बाहर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर दोबारा कोई व्यक्ति ऐसा करता है तो उसके ख़िलाफ़ पुलिस कड़ी कार्रवाई करेगी। ये सभी विदेशी मुस्लिम स्थानीय युवकों को मजहब के नाम पर भड़काने का काम करते थे।

इससे पहले थाईलैंड के 13 मुस्लिम बिजनौर के मृदगान मोहल्ला में स्थित जामा मस्जिद में संदिग्ध इस्लामिक गतिविधियों में भाग ले रहे थे। वो सभी मजहबी बैठकों में भाग ले रहे थे और अपने मजहब का प्रचार-प्रसार में लगे हुए थे। बिजनौर पुलिस ने वीजा नियमों का हवाला देते हुए बताया कि कोई भी विदेशी नागरिक टूरिस्ट वीजा लेकर मजहबी गतिविधियों में भाग नहीं ले सकता। इस सम्बन्ध में मस्जिद प्रशासन से भी रिपोर्ट माँगी गई है।

लोकल इंटेलिजेंस यूनिट द्वारा इस मामले को गंभीरता से लेने के बाद इसकी सूचना पुलिस को दी गई और फिर इन लोगों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की गई। इस मामले में केंद्रीय ख़ुफ़िया एजेंसियों को भी रिपोर्ट सौंपी गई है। इससे पहले जो विदेशी इन मजहबी क्रियाकलापों में संलग्न थे, उनसे स्पष्टीकरण भी माँगा गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्कूल में नमाज बैन के खिलाफ हाई कोर्ट ने खारिज की मुस्लिम छात्रा की याचिका, स्कूल के नियम नहीं पसंद तो छोड़ दो जाना...

हाई कोर्ट ने छात्रा की अपील की खारिज कर दिया और साफ कहा कि अगर स्कूल में पढ़ना है तो स्कूल के नियमों के हिसाब से ही चलना होगा।

‘क्षत्रिय न दें BJP को वोट’ – जो घूम-घूम कर दिला रहा शपथ, उस पर दर्ज है हाजी अली के साथ मिल कर एक...

सतीश सिंह ने अपनी शिकायत में बताया था कि उन पर गोली चलाने वालों में पूरन सिंह का साथी और सहयोगी हाजी अफसर अली भी शामिल था। आज यही पूरन सिंह 'क्षत्रियों के BJP के खिलाफ होने' का बना रहा माहौल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe