Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजकलियुग की माता शबरी… फूल नहीं मिले तो सब्जी बेचने वाली बुजुर्ग महिला ने...

कलियुग की माता शबरी… फूल नहीं मिले तो सब्जी बेचने वाली बुजुर्ग महिला ने भगवान राम के स्वागत में बरसाई धनिया पत्ती

रामकली कुशवाहा लगभग 30 साल से यहाँ सब्जी की दुकान लगा रही हैं। उनके परिवार के दूसरे सदस्य भी सब्जी की दुकान लगाते हैं। रामकली का परिवार अपने खेतों में सब्जी उगाता है और उसे बाजार में लाकर बेचता है। इसी पुश्तैनी धंदे से उनके परिवार का गुजारा चलता है।

मध्य प्रदेश में भगवान श्रीराम के प्रेम की एक अद्भुत कहानी सामने आई है। रामनवमी को भगवान राम की शोभायात्रा आता देखकर एक बुजुर्ग महिला भाव-विभोर हो गई। जब भगवान का स्वागत करने के लिए उसके पास कुछ नहीं दिखा तो वह अपनी सब्जी की दुकान से धनिया की पत्तियाँ फेंक कर उनका अभिषेक करने लगी।

बुजुर्ग सब्जी विक्रेता महिला का वीडियो भी सामने आया है। सोशल मीडिया पर इस वीडियो को लोग काफी पसंद कर रहे हैं। कुछ लोग उस महिला की तुलना सतयुग के माता शबरी से भी कर रहे हैं।

गुरुवार (30 मार्च 2023) को प्रदेश के सिरोंज शहर में रामनवमी पर शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा जब मुख्य बाजार से होकर सड़क के किनारे सब्जी की छोटी दुकान लगाने वाली बुजुर्ग महिला रामकली के सामने से गुजरने लगी तो वह भी भगवान का स्वागत करने के लालायित हो गईं।

वीडियो में दिख रहा है कि वह फूल ना होने और कुछ समझ में ना आने पर रामकली ने अपनी दुकान में रखा हरा धनिया पत्ता भगवान पर बरसाना शुरू कर दिया। महिला की भक्ति को देखकर यात्रा में शामिल विक्की रघुवंशी ने रामकली की तुलना माता शबरी से की। उन्होंने इसका वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया।

रामकली कुशवाहा लगभग 30 साल से यहाँ सब्जी की दुकान लगा रही हैं। उनके परिवार के दूसरे सदस्य भी सब्जी की दुकान लगाते हैं। रामकली का परिवार अपने खेतों में सब्जी उगाता है और उसे बाजार में लाकर बेचता है। इसी पुश्तैनी धंदे से उनके परिवार का गुजारा चलता है।

रामकली ने बताया कि वह अपनी दुकान पर थीं तभी भगवान राम की शोभायात्रा उनके सामने आ गई। शोभायात्रा का स्वागत करने के लिए फूल नहीं थे, लेकिन दुकान पर रखी हरी धनिया का वर्षा कर भगवान का स्वागत किया। रामकली की भावना को देखकर हर कोई गदगद है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -