Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजमूर्ति खंडित, पत्थरबाजी, फायरिंग... मुहर्रम पर देश के कई हिस्सों में हिंसा: कुछ जगहों...

मूर्ति खंडित, पत्थरबाजी, फायरिंग… मुहर्रम पर देश के कई हिस्सों में हिंसा: कुछ जगहों पर आपस में ही भिड़ कर बढ़ाया तनाव

बिहार के कटिहार में देर रात ताजिया जुलूस अखाड़े के दौरान आपसी रंजिश में गोली चलने की खबर है। इस दौरान हरिगंज निवासी टीपू सुल्तान का बेटा मन्नू (उम्र 30 साल) को कमर एवं पैर में गोली लगी।

मुहर्रम पर देश के कई हिस्सों में झड़प, गोलीबारी और हिंसा की खबरें हैं। कानपुर में जहाँ हनुमान जी की मूर्ति खंडित करके माहौल बिगाड़ने की कोशिश हुई वहीं बिहार के पूर्णिया, कटिहार, सजौर, मध्य प्रदेश के उज्जैन, उत्तर प्रदेश के बरेली, वाराणसी, मुजफ्फरपुर आदि कई जगहों पर आपसी झड़प, कहीं हिन्दू समुदाय के दुकानों में लूटपाट आदि की खबरे हैं। यहाँ ऐसी कई घटनाओं का संक्षेप में वर्णन कर रहे हैं।

मुहर्रम पर कानपुर में माहौल बिगाड़ने की कोशिश, हनुमान जी की मूर्ति को किया खंडित

मुहर्रम पर कानपुर में माहौल बिगाड़ने की कोशिश की गई है। मामला नौबस्ता थानाक्षेत्र स्थित यशोदा नगर बाईपास का है। जहाँ सड़क किनारे स्थित एक पेड़ के नीचे बने मंदिर में देर रात तोड़फोड़ की घटना सामने आई है। मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति को खंडित कर दिया गया था।

इलाके में हनुमान जी के मंदिर में तोड़फोड़ की खबर फैलते ही मंदिर के आसपास लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। हालाँकि, मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने मामला बिगड़ने से पहले ही अराजक तत्वों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन देकर स्थिति को काबू में किया। हालाँकि, किन लोगों मंदिर में तोड़फोड़ की इसकी जाँच की जा रही है।

मध्य प्रदेश के उज्जैन में मुहर्रम के जुलूस में भिड़े दो गुट

मध्य प्रदेश के उज्जैन में मुहर्रम के जुलूस में बड़े साहब का सेहरा लूटने के दौरान मुस्लिम समुदाय के हेलावाड़ी और बेगमबाग क्षेत्र के दो गुटों में लाठियाँ चलने लगी। जुलूस में शामिल 1 दर्जन से अधिक युवक घायल हो गए। घटना का वीडियो वायरल होते ही जैसे ही मामला उच्च अधिकारियों तक पहुँचा हड़कंप मच गया।

रिपोर्ट के अनुसार, दोनों गुटों के लोगों ने एक दूसरे पर जमकर लाठियाँ भांजी। बताया जा रहा है कि इसमें दर्जनों घायल हो गए। लोगों के हाथ, पैर तो कुछ के सिर में चोटें आई है। दरअसल, मुहर्रम जुलूस निकालने के दौरान हेलावाड़ी और बेगमबाग क्षेत्र के गुटों के युवाओं में हर साल मातम की प्रतिस्पर्धा को लेकर टकराव होता है। दोनों गुटों के बीच मुहर्रम के जुलूस के दौरान वर्षों से होड़ को लेकर तनातनी भी रही है। कहा जा रहा है कि लगभग हर साल दोनों गुटों के बीत झड़प होती है।

पूर्णिया में मुहर्रम पर झड़प

बिहार के पूर्णिया में मुहर्रम के जुलुस के दौरान मातम मानते हुए अचानक भगदड़ मच गई। घटना बैसा प्रखंड क्षेत्र के सबसे बड़े शीशाबाड़ी कर्बला के मुहर्रम अखाड़े की है। यहाँ मातम मनाये जाने के दौरान पैदा हुए अराजक स्थिति को कंट्रोल करने के दौरान उपद्रवियों और पुलिस में भी झड़प हुई। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अखाड़े टीम के कर्बला के मैदान में प्रवेश करते ही यहाँ भगदड़ की स्थिति उत्पन्न हो गई।

कटिहार में दो पक्षों में हिंसक झड़प, चली गोली

बिहार के कटिहार में देर रात ताजिया जुलूस अखाड़े के दौरान आपसी रंजिश में गोली चलने की खबर है। इस दौरान हरिगंज निवासी टीपू सुल्तान का बेटा मन्नू (उम्र 30 साल) को कमर एवं पैर में गोली लगी। रिपोर्ट के अनुसार, फिलहाल उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल भेजा गया। जहाँ स्थिति की गंभीरता को देखते हुए कटिहार मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है।

मुजफ्फरपुर में तजिया जुलूस के दौरान दो पक्षों में जमकर पत्थरबाजी

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मुजफ्फरपुर जिले के सकरा थाना के दोनवा में ताजिया जुलूस के दौरान मातम मनाते हुए दो पक्षों में जमकर पत्थरबाजी हुई। इस घटना में आधा दर्जन लोग चोटिल हो गए। हालाँकि, मामले की सूचना मिलने पर काफी संख्या में पुलिस बल ने मौके पर पहुँचकर मामले को कण्ट्रोल में लिया। वहीं इस मामले में DSP प्रशिक्षु अबु सैफी मुर्तुजा ने कहा कि ये मातम की एक परंपरा है। लेकिन, इसे रोकवा कर स्थिति पर नियंत्रण किया गया।

वहीं एक दूसरे मामले में सकरा में ही मुहर्रम के जुलूस में मस्जिद चौक चकराबे मनियारी में दो गाँव के लोगों में हिंसक झड़प हो गई। दोनों ओर से लाठी डंडे बरसने लगे। एक-दूसरे को दौड़ा-दौड़ाकर पीटने लगे। इस मामले में घायलों ने बताया कि एक स्कूटी सवार युवक से एक साइकिल सवार अधेड़ को ठोकर लग गई थी। इसी को लेकर विवाद हुआ और फिर झड़प की नौबत आ गई। झड़प में मझौलिया पंचायत के सतपुरा गाँव के मो. इस्लाम, मो. अफरीद, मो. एजाज, मो. जुबैद, मो. मयउद्दीन, मो. गुलाम का सिर फट गया। सभी को सकरा अस्पताल में इलाज के लिए लाया गया। वहीं चकराबे मनियारी गाँव के मो. कलीम, मो. अनवर, मो. अब्दुल रहीम, मो. अहमद भी गंभीर रूप से घायल है।

रिपोर्ट के अनुसार, इनलोगों ने मुरौल अस्पताल में इलाज कराया है। घटना के बाद से दोनों गाँव में तनाव है।

सजौर में रास्ते को लेकर बिगड़ा मामला

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सजौर के राधानगर में माहौल तब गरमा गया जब एक रास्ते के विवाद को लेकर एक पक्ष के लोगों ने मुहर्रम का पहलाम नहीं किया। निशान व जुलूस भी नहीं निकाले गए। इसको लेकर दो पक्षों में पाँच वर्ष बाद फिर एक बार अंदरूनी तनाव कायम हो गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार को दूसरे पक्ष से कारू चौधरी ने थाने में आवेदन देकर नए रास्ते को विवादित बताते हुए, जुलूस पर रोक लगाने की माँग की। उसके बाद से ही माहौल गरम हो गया। सूचना पर पहुंचे बीडीओ, सीओ, इंस्पेक्टर, थानाध्यक्ष, मुखिया आदि ने पहलाम कराने का काफी प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। हालाँकि, प्रशासन के समझाने के बाद दूसरे पक्ष के लोगों ने जुलूस को नए रास्ते से ले जाने की सहमति दे दी।

वाराणसी में भी हुआ बवाल

मुहर्रम पर सबसे ज्यादा बवाल वाराणसी के मिर्जामुराद इलाके में हुआ। यहाँ ईंट-पत्थर के साथ हथियारों का भी इस्तेमाल किया गया, जिसमें दर्जनों लोग घायल हो गए हैं। बताया जा रहा हैं कि करधना बाजार में ताजिया ले जाते समय जामुन का पेड़ काटने को लेकर विवाद हुआ था।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुस्लिम समुदाय के कुछ लोग ताजिये के लिए खदेरू साव की दुकान के सामने छायादार जामुन के पेड़ को काटने लगे, जिसका विरोध करने पर विवाद बढ़ गया। लोगों ने कहा कि ताजिया जाने के लिए पर्याप्त रास्ता है। विवाद के बीच दुकानदार को लाठी डंडों से पीट दिया। उन्होंने दुकान को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। इससे पूरे गाँव में अफरातफरी मच गई।

बरेली में भी हुई जमकर पत्थरबाजी

वहीं बरेली में मुहर्रम जुलूस के दौरान भोजीपुरा के मझौआ गंगापुर में दुकानों में जमकर पत्थरबाजी की गई। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो भी सामने आया है। इसमें आप देख सकते हैं कि कैसे लोगों ने दूसरे समुदाय की दुकानों को निशाना बनाया है और वहाँ जमकर पथराव किया। पथराव करने वालों में महिलाएँ भी शामिल हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों पक्षों में करीब आधे घंटे तक पत्थरबाजी होती रही, जिसको लेकर वहाँ अफरा-तफरी मच गई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -