Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजबंगाल पुलिस को कमरे में बंद कर लोगों ने दम भर मारते हुए कहा...

बंगाल पुलिस को कमरे में बंद कर लोगों ने दम भर मारते हुए कहा – ‘खेला करवा देंगे’, अलीगढ़ में BJP नेता को गिरफ्तार करने आई थी

पश्चिम बंगाल सीआईडी के सब इंस्पेक्टर शुभाशीष और सिपाही आलमगीर गिरफ्तारी और कुर्की संबंधी नोटिस लेकर सादे कपड़ों में अलीगढ़ पहुँचे थे। स्थानीय लोगों ने इन्हें कमरे में बंद करके खूब मारा और कहा - "खेला करवा देंगे''

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में भाजपा नेता को गिरफ्तार करने पहुँची बंगाल पुलिस को स्थानीय लोगों द्वारा कमरे में बंद करके पीटने का मामला सामने आया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी नेता योगेश वार्ष्णेय ने ममता बनर्जी का सिर कलम करने पर 11 लाख रुपए का इनाम देने का बयान दिया था।

यह बयान वार्ष्णेय ने चार साल पहले हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज के बाद दिया था। उसी मामले में बंगाल पुलिस शुक्रवार (17 सितंबर) को अलीगढ़ पहुँची थी। लेकिन यहाँ स्थानीय लोगों ने खेला (ऐसा वायरल वीडियो में ही एक को कहते सुना जा सकता है) कर दिया। देर रात तक चले हंगामे के बाद अलीगढ़ पुलिस ने उन्हें बचाया। “खेला करवा देंगे” – वाला वीडियो सुनिए ध्यान से।

बताया जा रहा है कि ममता बनर्जी का सिर काटकर लाने संबंधी बयान को लेकर कोलकाता में वार्ष्णेय के खिलाफ 3 मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं। 17 सितंबर को BJYM के पूर्व मंडल अध्यक्ष योगेश वार्ष्णेय के घर पश्चिम बंगाल सीआईडी के सब इंस्पेक्टर शुभाशीष और सिपाही आलमगीर गिरफ्तारी और कुर्की संबंधी नोटिस लेकर सादे कपड़ों में अलीगढ़ पहुँचे थे। हालाँकि, इससे पहले भी बंगाल पुलिस योगेश की गिरफ्तारी के लिए अलीगढ़ आ चुकी है, लेकिन शुक्रवार को उनके साथ जैसा हुआ, वह इससे पहले कभी नहीं हुआ था।

जानकारी के मुताबिक, जैसे ही लोगों को इसके बारे मे पता चला, वहाँ भारी भीड़ इकट्ठा हो गई। इस दौरान स्थानीय लोगों के साथ बंगाल पुलिस टीम की अनबन भी हुई, जिसके बाद उन्होंने बंगाल पुलिस की कमरे में बंद करके जमकर धुनाई की। सूचना पाकर सांसद सतीश गौतम, कोल विधायक अनिल पाराशर और शहर विधायक संजीव राजा मौके पर पहुँचे और बंगाल पुलिस की टीम को वहाँ से सकुशल थाने पहुँचाया। दोनों पक्षों की तरफ से हंगामा देर रात तक चलता रहा। दोनों ने एक दूसरे पर अभद्रता और मारपीट करने का आरोप लगाया है।

वहीं, पुलिस की मौजूदगी में चौपाल भी हुई, जिसके बाद ममता सरकार की पुलिस की टीम को वहाँ से सकुशल निकाला गया। मामले की जाँच की जा रही है। ऑपइंडिया ने अलीगढ़ एसपी सिटी कुलदीप सिंह से इस मामले से जुड़ी जानकारी लेने के लिए फोन पर संपर्क किया था, लेकिन किसी कारणवश उनसे संपर्क नहीं हो पाया। जैसे ही पुलिस से संपर्क होगा, खबर को अपडेट किया जाएगा।

बता दें कि साल 2017 में वीरभूम जिले में हनुमान जयंती के अवसर पर हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज हुआ था, जिसके बाद बीजेपी नेता योगेश वार्ष्णेय ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का सिर कलम करके लाने वाले पर 11 लाख का इनाम रखा था। इसको लेकर बंगाल से लेकर संसद तक काफी हंगामा भी मचा था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -