Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजदेवर फरमान के प्यार में पागल हुई फरजाना, अपने ही मासूम बेटे को मरवा...

देवर फरमान के प्यार में पागल हुई फरजाना, अपने ही मासूम बेटे को मरवा कर नहर में फेंक दिया: यूपी पुलिस ने सख्ती से की पूछताछ तो खुला राज़

बच्चे की अम्मी और चाचा के विरुद्ध हत्या की FIR दर्ज की गई है। जीशान अपने अब्बा के फल की दुकान पर भी हाथ बँटाता था।

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में एक महिला ने देवर के प्यार में पागल होकर उसके साथ मिल कर ही मासूम बेटे की हत्या कर दी। बच्चे का गला घोंट कर उसे नहर में फेंक दिया गया था। उसके गायब होने के 3 दिन बाद इटावा की सीमा नहर से पुलिस ने शव बरामद किया। पुलिस ने पहले गुमशुदगी की FIR दर्ज की थी, जिसे अब हत्या की प्राथमिकी में बदल दिया गया है। पोस्टमॉर्टम के बाद जैसे ही शव घर पहुँचा, परिवार में कोहराम मच गया।

ये घटना फिरोजाबाद के पजाया रुकनपुर निवासी फल बेचने वाले मुकीम ने पुलिस को बताया था कि सोमवार (21 फरवरी, 2023) को अचानक घर से लापता हो गया। उसने ये आरोप भी लगाया था कि उसकी बीवी फरजाना ने ही उसके भाई फरमान के साथ मिल कर उसके बेटे का अपहरण किया है। पुलिस दोनों को पकड़ कर थाने लेकर आई, जहाँ उनसे सख्ती से पूछताछ की गई। चाचा फरमान ने बताया कि उसने जीशान की हत्या कर शव छीछामई नहर पुल से फेंक दिया है।

हालाँकि, उस समय जब पुलिस ने शव की तलाश शुरू की तो उसे सफलता नहीं मिली। शुक्रवार को सुबह 9 बजे इटावा के बकेहर नहर के पास एक बच्चे का शव मिलने की बात पता चली। इसके बाद पहचान हुई कि ये शव जीशान का ही है। बच्चे की अम्मी और चाचा के विरुद्ध हत्या की FIR दर्ज की गई है। जीशान अपने अब्बा के फल की दुकान पर भी हाथ बँटाता था। मुकीम का कहना है कि उसका चचेरा भाई फरमान अक्सर उसके घर आता-जाता था।

हालाँकि, उसे इसकी आशंका नहीं थी कि एक दिन उसका चचेरा भाई ही उसके बेटे को छीन लेगा। शाम के समय जब पोस्टमॉर्टम के बाद शव घर पहुँचा तो वहाँ भीड़ जुट गई और अब्बा का रो-रो कर बुरा हाल हो गया। पुलिस की मौजूदगी में जीशान को सुपुर्द-ए-खाक किया गया। इस दौरान उसकी अम्मी हिरासत में थी और वहाँ मौजूद नहीं थी। फरमान कटरा मीरा कुरै‌शियान मस्ज्दि एटा तराहे का रहने वाला है। 11 वर्षीय बच्चा उनके प्यार में बाधक बन रहा था। कई बार मियाँ-बीवी के बीच इसे लेकर विवाद भी हुआ था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -